जनकल्याणकारी योजनाओं से बदली है गरीब भारत की तस्वीर : सत्येन्द्र प्रकाश

केंद्र सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं से बदली है गरीब भारत की तस्वीर-सत्येन्द्र प्रकाश

केंद्र की योजनाओं से गरीब को मिला- रोटी,कपड़ा और मकान – मनोज वर्मा

युवा पीढी पुरानी सांस्कृतिक विरासतों से हो रही परिचित-आर.पी.सरोज

अजय सिंह

लखनऊ। आज़ादी का अमृत महोत्सव व कोरोना अनुरूप व्यवहार जनजागरूकता अभियान की शुरुआत करते हुये बीओसी, नई दिल्ली के प्रधान महानिदेशक सत्येन्द्र प्रकाश ने कहा कि केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री कार्यालय द्वारा चलायी जा रही विभिन्न योजनाओं से आम आदमी के जीवन में सुधार हुआ है,और गरीब भारत की तस्वीर बदली है। उन्होंने कहा कि भारत के प्रधानमंत्री ने गरीबों के लिए इतनी सारी योजनाओं को संचालित किया है कि यदि लोग भारत सरकार की सभी योजनाओं के बारे में जानकारी लेकर उनका लाभ लेने की कोशिश करें तो निश्चित ही हर नागरिक के जीवन स्तर में सुधार होगा। सूचना प्रसारण मंत्रालय द्वारा देश के सभी प्रदेशों में प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो द्वारा आज़ादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है, जिसमे आजादी के क्रांतिकारियों को याद करने के साथ साथ भारत सरकार की सभी जनकल्याणकारी योजनाओं के बारे में लोगों तक सटीक जानकारी पहुँचाई जा रही है।


प्रादेशिक लोक संपर्क ब्यूरो, सूचना और प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार, लखनऊ द्वारा आज़ादी का अमृत महोत्सव व कोरोना अनुरूप व्यवहार जनजागरूकता अभियान की शुरुआत प्रधान महानिदेशक सत्येन्द्र प्रकाश,अपरमहानिदेशक आर.पी.सरोज और संयुक्त निदेशक मनोज वर्मा ने प्रचार रथ को हरी झंडी दिखाकर रामाधीन सिंह उत्सव लान से की।क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो के अपर महानिदेशक आर.पी.सरोज ने कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव के माध्यम से देश की युवा पीढ़ी पुरानी सांस्कृतिक विरोसतों से परिचित हो रही है।उन्होंने कहा कि संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा विभिन्न स्वायत्त निकायों के माध्यम से देश की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत को संरक्षण प्रदान करने हेतु विभिन्न कलाकारों के योगदान को मान्यता प्रदान करते हुए बड़ी संख्या में कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।उन्होंने कहा कि ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के अंतर्गत पूरे देश और दुनिया में आयोजित किए जा रहे समारोहों में, कलाकारों ने बड़ी संख्या में अपनी भागीदारी की है और भारत की अमूर्त सांस्कृतिक विरासत को संरक्षण प्रदान करने में अपने योगदान के लिए मान्यता प्राप्त की है।उन्होंने कहा कि अब तक, भारत सरकार के अंतर्गत आने वाले विभिन्न मंत्रालयों और विभागों द्वारा कुल मिलाकर 16,089 कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है। इसके अलावा, विभिन्न राज्यों/ केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा कुल 8,154 कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

क्षेत्रीय लोक संपर्क ब्यूरो के सुंयक्त निदेशक मनोज वर्मा ने कहा कि केंद्र सरकार की प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना से अब कोई भी गरीब भूखा नहीं सोता है।मुफ्त राशन के वितरण से गरीब व्यक्ति में आत्म विश्वास जागा है।उन्होंने कहा कि अन्य योजनाओं जैस प्रधानमंत्री आवास योजना और जन-धन जैसी योजनाओं से हर गरीब नागरिक की मूल आवश्यकतायें जैसे रोटी कपड़ा और मकान की पूर्ति हुई है। संयुक्त निदेशक मनोज कुमार वर्मा ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सभी का प्रयास की सराहना की तथा सभी को धन्यवाद ज्ञापित किया। इस कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में डॉ सुनीता अस्थाना, प्राचार्या, रामधीन सिंह बालिका महाविद्यालय, लखनऊ ने भी अपने विचार ब्यक्त किये। जनसमूह के मध्य कार्यक्रम से संबंधित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन कर उन्हें उनकी रचनात्मकता एवं उज्ज्वल भविष्य के प्रति प्रोत्साहित किया। प्रतियोगिताओं में 10 विजयी प्रतिभागियों को प्रधान महानिदेशक द्वारा पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया।इस अवसर पर क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी, जय सिंह, व रामाधीन सिंह कालेज के प्रवंधक, सूरज कुमार वर्मा ,शिवतोष द्विवेदी, हर्ष कुमार, लक्षण शर्मा, राम कुमार, राजेश सिंह, राज कुमार, राम कुमार, रविन्द्र शुक्ला, अशोक यादव , प्रमोद, धर्मेन्द्र कुमार, अनूप कुमार, महेंद्र सहित लगभग 100 गणमान्य व छात्र छात्राए उपस्थित रहे।