स्वास्थ्य विभाग सुधरने को तैयार नहीं-संजय सिंह

● 6 साल बाद भी उत्तर प्रदेश सरकार का स्वास्थ्य विभाग पटरी से उतरा हुआ है।
● स्वास्थ्य मंत्री के अथक प्रयास के बावजूद स्वास्थ्य विभाग सुधरने को तैयार नहीं।
● समान वेतन और मानदेय को लेकर डॉक्टर नर्स और कर्मचारियों में असंतोष।
● असंतोष की वजह से डॉक्टर, नर्स और कर्मचारी सही ढंग से सेवा नहीं दे रहे हैं।


लखनऊ।
उत्तर प्रदेश में जब से योगी 2.0 सरकार बनी है स्वास्थ्य मंत्री स्वास्थ्य विभाग को पटरी पर लाने का अथक प्रयास कर रहे हैं मगर स्वास्थ्य विभाग है कि सुधरने को तैयार नहीं।उत्तर प्रदेश कांग्रेश के प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि एक तरफ डॉक्टर समान काम समान वेतन को लेकर प्रदर्शन में व्यस्त हैं तो दूसरी तरफ आउट सोर्स नर्सें और कर्मचारी कई महीने से मानदेय ना मिलने की वजह से असंतुष्ट है और अपना काम सही ढंग से नहीं कर रहे हैं। जिसकी वजह से मरीजों को सही इलाज नहीं मिल रहा है आए दिन साफ सफाई और इलाज में लापरवाही की खबरें सामने आती है। इलाज की लापरवाही से मरीजों के मरने की संख्या बढ़ गई है। राजधानी लखनऊ केजीएमयू और एसजीपीजीआई का ये हाल है तो बाकी प्रदेश का क्या हाल होगा?

संजय सिंह ने आगे कहा कि मुख्यमंत्री योगी जी को डॉक्टरों और कर्मचारियों की मांग पर विचार कर जल्द समाधान किया जाए डॉक्टरों के समान काम समान वेतन की मांग को जल्द माना जाये और नर्स एवं कर्मचारियों को आउट सोर्सिग पर रखने के बजाय उनको स्थाई नियुक्ति दी जाये। जिससे डॉक्टर और कर्मचारी अपने काम पर ध्यान दे सके और प्रदेश में मरीजों की मौतों में जो बढ़ोतरी हुई है उस पर विराम लग सके।