शिव आर्यन को अभी तय करना है लंबा सफर

शुगरलेस स्टारर अंबर पृथ्वी के निर्माता शिव आर्य को अभी तय करना है लंबा सफर।

मायानगरी मुंबई में मजबूती से अपने पैर जमाने और कई काम एक साथ करने वाले शिव आर्यन अब फिल्मों के निर्माता बन गए हैं। अब तक उन्होंने एक सफल व्यवसायी के रूप में आईटी, टेक्सटाइल, रियल एस्टेट, कैसिनो, फ़िल्म सेलर आदि के रूप में अपना मुकाम हासिल किया है। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि जब वह एक व्यवसायी के रूप में सफलता की सीढ़ी चढ़ रहे थे, तब भी उन्होंने फिल्म को नहीं छोड़ा। व्यवसाय से समय निकालते हुए, उन्होंने एक अभिनेता के रूप में कुछ फिल्में की। मुख्य रूप से सलमान खान के साथ रेस 3, सिद्धार्थ सुब्रमण्यम के साथ स्ट्राइकर, अजय देवगन के साथ भुज। उन्होंने मुख्य कलाकार के रूप में एक मराठी फिल्म प्रेमा ची नाटे भी की है।

शिव आर्यन की आने वाली फिल्मों की लिस्ट भी काफी लंबी है। एक अभिनेता के रूप में उनकी आने वाली फिल्में राजकुमार संतोषी द्वारा निर्देशित बैड बॉय हैं, जिसमें मिथुन चक्रवर्ती के बेटे निमोशी चक्रवर्ती हैं। फिर मोबिन वारसी ने आयुष आर्यन के साथ शुभ मुहूर्त लगान को मुख्य भूमिका निभाई है। ओमप्रकाश द्वारा निर्देशित कन्नड़ फिल्म 786 एक साइंस फिक्शन फिल्म है। इसमें शिव आर्यन के अलावा मुख्य कलाकार पवन सूर्या, आयुष आर्यन, अफसर खान हैं।

लंदन में पंजीकृत उनकी कंपनी ब्लैक पैंथर मूवीज पार्टनर सुरेखा भोइर के साथ विजय कुमार इस बैनर के तहत सिंध (बलवंत सिंह बखासर) बनने जा रहे हैं। कॉफी – ये फिल्म बड़े बजट की होने वाली है। इसके सह-निर्माता के रूप में उनकी आगामी फिल्म कोट है, जिसमें संजय मिश्रा, विवान शाह, नवीन प्रकाश, आयुष आर्यन ने अभिनय किया है। शिव आर्यन संजय मिश्रा के साथ अपनी एक और फिल्म द लस्ट के निर्माता भी हैं।

उन्होंने ब्लैक पैंथर मूवीज के बैनर तले शुगरलेस नामक एक और बड़ी फिल्म के रीमेक के अधिकार भी खरीदे हैं। इसके मुख्य कलाकार हैं अंबर पृथ्वी, प्रियंका थीम। इस फिल्म का निर्देशन शशिधर जी ने किया है। शुगरलेस वर्ल्ड वाइड हर जगह एक साथ रिलीज होने वाली फिल्म है।शिव आर्यन कई प्रतिभाओं के धनी होने के साथ-साथ एक मेहनती व्यक्ति हैं। आज शिव आर्यन ने वह मुकाम हासिल कर लिया है जहां वह अपनी लगन से हैं। आकर्षक व्यक्तित्व के साथ-साथ इनका दिल परोपकारी भी होता है। वे अपने घरों में त्योहारों के दौरान हाशिए के लोगों को कपड़े, मिठाई आदि बांटकर ही त्योहार मनाते हैं। जिन्होंने कई नवोदित प्रतिभाओं को पनपने में भी मदद की है।