श्री जनेश्वर मिश्र जी आजीवन गरीबों,किसानों और नौजवानों के लिए संघर्ष करते रहे-अखिलेश यादव

राजेंद्र चौधरी

   समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज वरिष्ठ समाजवादी नेता श्री जनेश्वर मिश्र जी की 89वीं जयंती पर गोमतीनगर, लखनऊ में जनेश्वर मिश्र पार्क में स्थापित उनकी आदमकद प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। श्री जनेश्वर मिश्र ट्रस्ट में की प्रतिमा पर भी माल्यार्पण कर उन्हें नमन किया गया। जनेश्वर मिश्र पार्क में बड़ी संख्या में एकत्र सभी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने भी श्री मिश्र की प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। श्री यादव ने कहा कि श्री मिश्र आजीवन गरीबों, किसानों और नौजवानों के लिए संघर्ष करते रहे। उन्होंने सभी के साथ समानता का व्यवहार किया। संसद में उनको सभी शांति से सुनते थे। समाजवादी पार्टी उनके ही आदर्शो पर चल रही है।


    श्री जनेश्वर मिश्र की प्रतिमा पर माल्यार्पण के पश्चात अखिलेश यादव ने लगभग 4 सौ एकड़ में फैले जनेश्वर मिश्र पार्क का भ्रमण किया। यह पार्क लंदन के हाइड पार्क की तुलना में बेहतर और बड़ा भी है। यह पार्क इस समय अव्यवस्था का शिकार हो गया है। समाजवादी सरकार के समय यहां सबसे ऊंचा झंडा स्थापित हुआ था। आज इसके चबूतरे भी टूटे हैं। रख-रखाव बहुत खराब है। यहां बनी झील में नौका विहार की व्यवस्था भी ध्वस्त है। कीमती नावों का पता नहीं है।श्री यादव ने कहा कि जनेश्वर मिश्र पार्क को भाजपा सरकार ने बर्बाद कर दिया है। यहां हर तरफ अव्यवस्था का राज हैं। समाजवादी सरकार ने जनेश्वर मिश्र पार्क में आने वालों के बैठने के लिए लिए जो बेंचे लगवायी थी, उन्हें भाजपा-आरएसएस वालों ने तोड़ दिया है। एलईडी बंद है। बच्चों के झूले भी टूट गए हैं। पार्क में चीड़ के वृक्षों से रौनक है, ये हिमालय पर पाये जाने वाले पेड़ है, बाथरूम गंदे हैं।


    यह उपेक्षा भाजपा ने इसलिए की कि यह जनेश्वर मिश्र पार्क समाजवादी पार्टी सरकार द्वारा बनाया गया था। भाजपा की विपक्ष के प्रति बदले की भावना का यह एक और शर्मनाक उदाहरण है।इस अवसर पर समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय सचिव राजेन्द्र चौधरी, प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम पटेल, विधायक रविदास मेहरोत्रा, पूर्व एमएलसी अरविन्द कुमार सिंह एवं राजेश यादव, कोषाध्यक्ष राज कुमार मिश्र सहित आर.के. चौधरी, मीरा वर्धन, फिदा हुसैन अंसारी, राजू गांधी, पूजा शुक्ला, विकास यादव, सुशील दीक्षित, मुकेश शुक्ला, सूरज सिंह, विजय सिंह, रामसागर यादव, जयसिंह जयंत, दिग्विजय सिंह देव, देवेन्द्र सिंह जीतू पार्षद, नवीन धवन बंटी, अरविन्द गिरि, मोनू कन्नौजिया, बंदना चतुर्वेदी, अशोक यादव, विदेश पाल, पवन मनोचा, सौरभ यादव, डॉ हमजा बिलाल, राजेन्द्र यादव, सागर धानुक, डॉ0 प्रदीप पाण्डे, काशीराम रावत, शब्बीर खान, प्रदीप सिंह पन्नू, प्रेम चंद्र, इब्राहिम मंसूरी, आलोक त्रिपाठी, मनोज यादव, एस.के. राय, राबिन सिंह, सर्वेश यादव, चन्द्रिका पाल, आदेश यादव, गजाला लारी, मनोज यादव, अमित त्रिपाठी, दिलशेर, रामसुन्दर, भारत यादव, नागेन्द्र सिंह प्रधान, समीर सिंह, अमरनाथ यादव, सुरेन्द्र बाल्मीकि, जयराम कन्नौजिया, हरिश्चन्द्र लोधी, ऐनुद्दीन, प्रेमलता यादव, लता जायसवाल, आशा यादव, अर्चना रावत, लक्ष्मी यादव, रजनी पटेल, मंजू यादव, पूनम यादव, सरोज यादव, साजिद अली, एडवोकेट निकहत सिद्दीकी आदि सैकड़ो लोगों की उपस्थिति उल्लेखनीय रही।