पौधारोपण जन आंदोलन का शुभारम्भ अयोध्या में पंचवटी वाटिका की स्थापना

अयोध्या। आज पूरे उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के आदेशो पर प्रदेश के समस्त जनपदों में पौधारोपण जन आंदोलन कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया, जिसका मुख्य उद्देश्य 5 जुलाई से 15 अगस्त 2022 तक पूरे प्रदेश में 35 करोड़ पौधारोपण का रिकार्ड बनाना है। इसी क्रम में आज जनपद अयोध्या में पौधारोपण जन आंदोलन कार्यक्रम का शुभारम्भ विधायक रूदौली रामचन्दर यादव, प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति विभाग मुकेश कुमार मेश्राम, जिलाधिकारी नितीश कुमार, प्रधान मुख्य संरक्षक वन्य जीव के0पी0 दूबे की अध्यक्षता में ग्राम्य विकास संस्थान डाभासेमर में आयोजित किया गया। पौधारोपण महा अभियान में जनप्रतिनिधियों व अधिकारीगणों द्वारा ग्राम्य विकास संस्थान की भूमि पर पंचवटी वाटिका की स्थापना करते हुये लगभग 6 हजार पौधों का रोपण किया गया। पंचवटी वाटिका में पश्चिम दिशा में बरगद, पूरब दिशा में पीपल, दक्षिण दिशा में आंवला, उत्तर की दिशा में बेल और अग्निकोण पर अशोक का पौधा विधायक, प्रमुख सचिव, जिलाधिकारी आदि द्वारा किया गया। कार्यक्रम के दौरान सभी मंचासीन जनप्रतिनिधियों एवं अधिकारी गणों को बोनजाई वृक्ष, बुकें व स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया।


रूदौली विधायक रामचन्दर यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री के नेतृत्व में आज प्रदेश भर में यह पौधारोपण जन आंदोलन कार्यक्रम चलाया जा रहा है जो आगामी 40 दिन यथा-15 अगस्त 2022 तक चलेगा, जिसमें पूरे प्रदेश में एक मिशन के तहत 35 करोड़ पौधे लगाने का लक्ष्य को हासिल किया जायेगा। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के नेतृत्व में केवल आर्थिक एवं सामाजिक विकास पर जोर नही दिया जा रहा है, परन्तु चहुमुखी विकास कराया जा रहा है, जिसमें पर्यावरण का विकास भी शामिल है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल के दौरान सभी लोगों को आक्सीजन का महत्व पूर्ण रूप से ज्ञात हो गया है। कैसे कोरोना पीड़ित व्यक्तियों को आक्सीजन के लिए इधर उधर भटकना पड़ रहा था और मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में आक्सीजन प्लांट की स्थापना कराकर आक्सीजन की समस्या को दूर करने का काम किया गया था। भविष्य में ऐसी प्राण वायु की कोई समस्या न आये इसके लिए हम सभी को संकल्प करना होगा कि अपने जीवन काल में पौधो को केवल लगाये ही नही बल्कि उनका संचयन कर एक वृक्ष में भी परिवर्तित करें। जिस प्रकार हम सभी अपने बच्चों का पालन पोषण कर उनको एक मूल्यवान व्यक्ति बनाने का प्रयास करते है उसी प्रकार हम सभी को स्वयं द्वारा रोपित पौधो का भी देखभाल, नियमित जल व संरक्षण कर उनको एक विशाल वृक्ष में तब्दील करना चाहिए।


प्रमुख सचिव पर्यटन एवं संस्कृति विभाग उत्तर प्रदेश शासन मुकेश कुमार मेश्राम ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुये कहा कि उत्तर प्रदेश शासन द्वारा वृक्षारोपण जन आंदोलन कार्यक्रम के तहत 35 करोड़ पौधे 15 अगस्त तक विभिन्न चरणों में रोपित किये जायेंगे। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य वृक्षांे का महत्व बताने के साथ साथ उनका हमारे जीवन में क्या महत्व है इसकी भी जानकारी देना है। उन्होंने कहा कि बिना प्राण वायु के मानव जीवन का कोई अस्तित्व नही हैं। वर्तमान समय में हम सभी देख रहे है कि कैसे प्राकृतिक संसाधनों के दुरूप्रयोग से जल, वायु, खाद्य पदार्थ आदि सभी आवश्यक चीजें दूषित हो चुकी है इसको अगर समय से ठीक नही किया गया तो आने वाले भविष्य को जीवन यापन के लिए सेंथेटिक फूड, पैक वाटर के साथ साथ आक्सीजन बाक्स भी लेकर साथ चलना होगा। उन्होंने बताया कि वैज्ञानिकों द्वारा रिसर्च के माध्यम से बताया गया है कि एक व्यक्ति को अपने पूरे जीवन काल में न्यूनतम 6 वृक्षों द्वारा उत्पन्न आक्सीजन की आवश्यकता होती है इसलिए हम सभी को आज यह प्रण करना होगा कि हम अपने पूरे जीवन काल में जितनी आक्सीजन की आवश्यकता होती है उसके क्रम सभी लोग कम से कम 6 वृक्ष अवश्य लगायें और अपने आने वाले पीढ़ी के लिए स्वच्छ एवं सौन्दर्यपूर्ण वातावरण प्रदान करें।


जिलाधिकारी नितीश कुमार ने कहा कि जनपद को प्राप्त 4099757 पौधारोपण लक्ष्य के तहत आज दिनांक 05 जुलाई 2022 को 2928757 पौधे को विभिन्न स्थानों पर रोपित किये जा रहे है, जिसके क्रम में आज यहां ग्राम्य विकास संस्थान में लगभग 6 हजार पौधो का रोपण किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जनपद के प्रत्येक ग्राम पंचायत में 75 वृक्षों का एक अमृत वन भी स्थापित किया जा रहा है। जिलाधिकारी ने कहा कि वृक्षारोपण महा अभियान को जिला प्रशासन द्वारा केवल कागजो पर ही नही पूर्ण किया जायेगा बल्कि इसकी वास्तविक स्थिति धरातल पर भी दिखेगी, जिसके क्रम में उन्होंने सभी विभागध्यक्षों एवं कार्यदायी संस्थाओं को निर्देश दिये कि 5 जुलाई से 15 अगस्त 2022 तक चलने वाले इस वृक्षारोपण जन आंदोलन में केवल पौधो को रोपित ही नही किया जाना है बल्कि कम से कम 40 दिनों तक पूरी सर्तकता के साथ उनका संरक्षण एवं देखभाल करते हुये सींचना भी है। उन्होंने कहा कि जिस भी ग्रामसभा, ग्राम पंचायत, ग्राम प्रधान, विकासखण्ड, तहसील, विभाग, अधिकारियों, आशा, आंगनबाड़ी, व्यक्ति विशेष आदि द्वारा इन 40 दिनों में स्वयं व समूहों द्वारा रोपित पौधों का अच्छे से देखभाल करते हुये जीवित रखा जायेगा, उन्हें आगामी 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस समारोह में सम्मानित भी किया जायेगा।

जिलाधिकारी ने यह भी कहा कि आज के समय में महिलाओं की सहभागिता सभी क्षेत्रों में चाहे वह कृषि, गृहस्थी, व्यवसाय, नौकरी आदि जो भी हो उसमें अहम योगदान होता है इसलिए आज के इस वृक्षारोपण महाअभियान में भी महिलाओं, बच्चों, विद्यालयों, सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थाएं, सिविल सोसाइटी, एनसीसी, एनएसएस, नेहरू युवा केन्द्र, विभिन्न क्लब व संगठनों और किसान उत्पादक संगठनों से जुड़े लोगों के साथ पर्यावरण सेनानियों के सहयोग से सफल बनाया जायेगा। प्रभागीय वनाधिकारी ने बताया कि वृक्षारोपण जन आंदोलन कार्यक्रम के तहत जनपद में आज लगभग 29 लाख से ज्यादा पौधे रोपित किये जा रहे है तथा दिनांक 6 व 7 जुलाई को लगभग 2927750 पौधे प्रतिदिन व 15 अगस्त को आजादी के अमृत महोत्सव के मौके पर लगभग 585500 पौधे रोपित किये जायेंगे। जनपद का कुल निर्धारित लक्ष्य 40.99 लाख में 16 लाख पौधों का रोपण वन विभाग द्वारा व 25 लाख पौधों का रोपण विभिन्न विभागों द्वारा किया जायेगा। पौधारोपण में राष्ट्रीय वृक्ष बरगद के साथ साथ पीपल, पाकड़, नीम, बेल, आंवला, आम, कटहल और सहजन जैसे औषधीय पौधे, जल, वायु की अनुकूलता एवं स्थानीय मांग के अनुसार रोपित किये जायेंगे। कार्यक्रम में भाजपा जिलाध्यक्ष संजीव सिंह, ब्लाक प्रमुख मसौधा अभिषेक सिंह, मुख्य विकास अधिकारी अनिता यादव, प्रभागीय वनाधिकारी सितांशु पांडेय, वन संरक्षक सम्बंधित विभाग के अधिकारीगण व जनप्रतिनिधिगण मौके पर उपस्थित रहे और अपने-अपने नाम से पौधा रोपित किया।