देश लोकतंत्र से चलेगा न की तानाशाही से

135
देश लोकतंत्र से चलेगा न की तानाशाही से
देश लोकतंत्र से चलेगा न की तानाशाही से

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय से आम जनता उत्साहित है. सुप्रीम कोर्ट ने बता दिया देश लोकतंत्र से चलेगा न की तानाशाही से. भाजपा लगातार आम आदमी पार्टी की जन सेवाओं में बाधा उत्पन्न कर रही थी . चुनाव आयोग भाजपा के इशारों पर कर रही काम- वैभव माहेश्वरी

प्रदेश भर के मतदान केंद्रों से आ रही धांधली की शिकायतें – दिनेश सिंह पटेल

लखनऊ – सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को दिल्ली में अफसरों के ट्रांसफर-पोस्टिंग के अधिकार को लेकर विवाद पर दिल्ली सरकार के पक्ष में फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अफसरों की पोस्टिंग और ट्रांसफर का अधिकार दिल्ली सरकार के पास होगा. दिल्ली की कैबिनेट मिनिस्ट्री की बात मानने के लिए अब एलजी बाध्य होंगे.इस फैसले के आने के बाद राजधानी लखनऊ के आम आदमी पार्टी प्रदेश कार्यालय में मुख्य प्रवक्ता वैभव माहेश्वरी ने प्रेस वार्ता की जिसमें उन्होंने उच्च न्यायालय में लिए गए जस्टिस चंद्रचूड़ की अध्यक्षता में इस फैसले का दिल से स्वागत किया और पिछले कई वर्षों से भाजपा द्वारा पैदा की जा रही तमाम रुकावट और आम आदमी पार्टी के मंत्रिमंडल को स्वतंत्र रूप से काम न करने देने वाली बाधाओं को अदालत के माध्यम से समाप्त किए जाने पर प्रसन्नता जाहिर की एवं प्रदेश भर के सभी कार्यालयों में मिठाई बांटी गई.


वैभव माहेश्वरी ने कहा कि अभी तक भाजपा द्वारा आम आदमी पार्टी के सभी कार्यों में बाधाएं उत्पन्न की जाती थी यहां तक कि जनहित के कार्यों में रुकावट डाल कर हमें परेशान किया जाता था. उन्होंने कहा कि जनहित के कार्य जैसे यातायात, बस व्यवस्था, योगशालाएं, मोहल्ला क्लीनिक, शैक्षिक व्यवस्था में दिल्ली सरकार बजट जारी करती थी लेकिन किसी न किसी तरीके से भाजपा बजट और कार्यों में त्रुटियां निकालकर नकारात्मक फ़ाइल एलजी के पास भेज दिया करती थी और एलजी उसे निरस्त कर दिया करते थे. वैभव माहेश्वरी ने कहा कि 8 सालों से भाजपा लगातार आम आदमी पार्टी के विधायकों और सांसदों को झूठे मुकदमों में फंसा कर उनको काम करने से रोक दिया करती थी जिसका नतीजा यह होता था कि उन्नति के मार्ग में बाधा बनी रहती थी और साथ-साथ भाजपा की मंशा यह भी थी कि आप की छवि देशवासियों के मध्य नकारात्मक बन जाए लेकिन आज सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले से यह एक बार फिर साबित हो गया यह देश तानाशाही से नहीं चलेगा बल्कि संविधान और लोकतंत्र से चलेगा. सभी केंद्रों पर मतदान में हो रही गड़बड़ी पर सवाल उठाते हुए वैभव माहेश्वरी ने कहा कि भाजपा के इशारों पर चुनाव आयोग धांधली कर रहा जिसका जीता जागता उदाहरण लखनऊ महापौर पद पर हुआ मतदान है. उन्होंने कहा कि वोटर लिस्ट में भाजपा द्वारा गड़बड़ियां और धांधली करवाई गई है. वैभव माहेश्वरी ने कहा कि आम आदमी पार्टी इसकी सीबीआई जांच की मांग करती है तथा वोटर को मतदान करने से वंचित नहीं किया जा सकता है जो कि भाजपा अपने स्तर पर लगातार करती चली आ रही है, अब इस पर पूर्ण विराम लगना आवश्यक है.

पूर्व प्रदेश महासचिव दिनेश सिंह पटेल ने कहा कि 38 जिलों में मतदान चल रहा है लेकिन आप पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं द्वारा मतदान प्रक्रिया के दौरान जो अनियमितताएं सामने आ रही हैं वह दुखद एवं निराशाजनक है उन्होंने उदाहरण देते हुए कहा कि गाजियाबाद से पता चला है कि वहां ईवीएम मशीन गड़बड़ी कर रही है. इसी तरह उन्होंने बताया कि औरैया में हमारे प्रत्याशी के पति को पुलिस भाजपा के दबाव में जबरन जेल में डाल देती है. दिनेश सिंह पटेल ने कहा कि उत्तर प्रदेश के लगभग सभी जिलों से मतदान के दौरान ऐसी घटनाएं प्रकाश में आ रहे हैं लेकिन इसका जिम्मेदार कौन है. उन्होंने कहा कि मैं समझता हूं कि इलेक्शन कमीशन ही इसका जिम्मेदार है कि जब उनका काम ठीक से चुनाव कराना है तो मत प्रतिशत इतना गिरा हुआ क्यों आ रहा है इसका मतलब है कि पूरी प्रक्रिया में कहीं ना कहीं से धांधली हो रही है और सभी राजनीतिक दलों को बैठकर चुनाव समिति के कार्यों की समीक्षा करनी चाहिए और सुधार हेतु कड़े कदम उठाने चाहिए.

लखनऊ से आप महापौर प्रत्याशी अंजू भट्ट ने नगरीय निकाय चुनाव में शासन प्रशासन की ओर से गड़बड़ी किए जाने पर सवाल उठाया है.उन्होंने कहा की वह अपने पति के साथ कठौता के पास बाल विद्या मंदिर जो कि वोटिंग सेंटर था वहां वोट डालने गईं थी लेकिन उनको तीन बार दौड़ाया गया और कहा गया कि यहां सिर्फ 1551 तक ही वोटिंग होगी. उसके बाद जब कई जगहों पर बीएलओ से बात की गई तो 1557 और 58 नंबर जो कि मेयर प्रत्याशी अंजू भट्ट और उनके पति का था तब जाकर उन्हें वोट डालने की अनुमति दी गई तो उन्होंने कहा कि जब मेयर प्रत्याशी को इस तरह से वोटिंग सेंटर्स पर डील किया जाता है तो आम जनता के साथ किस तरीके से पेश आया जाता होगा. देश लोकतंत्र से चलेगा न की तानाशाही से