जिलाधिकारी ने मतदान केन्द्रों का किया निरीक्षण

अयोध्या। जिला निर्वाचन अधिकारी/जिलाधिकारी नितीश कुमार व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय ने विधानसभा सामान्य निर्वाचन 2022 को सकुशल और शांतिपूर्ण ढंग से सम्पन्न कराये जाने के दृष्टिगत विधानसभा अयोध्या के विभिन्न मतदान केन्द्रों का निरीक्षण किया। अधिकारीद्वय ने विधानसभा अयोध्या के प्राथमिक विद्यालय तिहुरा, मतदेय स्थल चन्द्रबली इंटर कालेज सिरसिंडा, मतदेय स्थल प्रा0वि0 राजेपुर, मतदान केन्द्र बच्चूलाल इंटर कालेज पूरा बाजार तथा मतदान केन्द्र प्रा0वि0 देवगढ़ का निरीक्षण कर उक्त मतदान केन्द्रों के समस्त बूथों पर मतदान को सकुशल निष्पक्ष एवं पारदर्शी ढंग से सम्पन्न कराने हेतु तैयारियों का जायजा लिया। इस दौरान जिला निर्वाचन अधिकारी ने समस्त बूथ कक्षों को व सम्पूर्ण परिसर को साफ सुथरा करने के निर्देश दिये। निरीक्षण के दौरान समस्त मतदान केन्द्रों पर मतदान सम्बंधी शेष समस्त तैयारियों को भी समय से पूर्ण करने के निर्देश दिये। इस दौरान जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने मतदान के सकुशल सम्पन्न कराने हेतु सम्बंधित पुलिस के अधिकारियों को नियमित क्षेत्र का भ्रमण करने, असामाजिक तत्वों पर विशेष निगाह रखने तथा किसी भी प्रकार से कहीं पर आदर्श आचार संहिता का उल्लंघन पाये जाने पर सम्बंधित पर तत्काल प्रभावी कार्यवाही सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। इस दौरान जिलाधिकारी व वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने चन्द्रबली इंटर कालेज सिरसिण्डा व बच्चूलाल इंटर कालेज पूराबाजार में सुरक्षा कर्मियों के ठहरने सम्बंधी तैयारियों का भी जायजा लिया तथा समस्त तैयारियों को समय से पूर्ण करने का निर्देश दिये।


निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने समस्त प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों के समस्त कमरों, शौचालयों व सम्पूर्ण परिसर की नियमित साफ सफाई कराने, भवनों का अच्छे एवं गुणवत्तायुक्त ढंग से रंगाई पुताई कराने आदि सहित कम्पोजित ग्रांट का बेहतर ढंग से सदुपयोग करने के निर्देश दिये।इस अवसर पर जिलाधिकारी ने बच्चूलाल इंटर कालेज पूराबाजार में कालेज के विभिन्न कक्षों में अध्ययनरत बच्चों से वार्ता की तथा 15 से 18 वर्ष तक के बच्चों को कोविड टीकाकरण कराने की स्थिति की जानकारी व शिक्षा के स्तर को जाना गया। इस दौरान जिलाधिकारी ने कक्षा 9 के बच्चों से किताबों को पढ़ाकर शिक्षा के स्तर को देखने पर कुछ बच्चों द्वारा पुस्तक न पढ़ पाने पर नाराजगी व्यक्त की तथा शिक्षा की गुणवत्ता व स्तर को सुधारने हेतु विद्यालय में अध्ययरत समस्त बच्चों को उनकी कक्षा व शिक्षा के स्तर के अनुसार विभाजित करने हेतु समस्त अध्यापकों को जिम्मेदारी देने तथा कक्षा के स्तर से पिछड़े बच्चों पर विशेष ध्यान देते हुये उनकी शिक्षा के स्तर में सुधार लाकर उनकी कक्षा के शिक्षा स्तर तक लाने के निर्देश दिये। उन्होंने समस्त बच्चों का अलग अलग प्रोफाइल बनाकर प्रत्येक माह बच्चों के शिक्षा स्तर में सुधार की स्थिति का जायजा भी लेने हेतु प्रधानाध्यापक को निर्देशित किया।