‘ट्रेस,टेस्ट एण्ड ट्रीट’ नीति कोविड संक्रमण में उपयोगी


राज्य सरकार की ‘ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट’ नीति कोविड संक्रमण को नियंत्रित करने में उपयोगी सिद्ध हुईडेंगू, डायरिया, कॉलरा सहित विभिन्न वायरल बीमारियों से बचाव के लिए सर्विलांस को बेहतर करते हुए हर एक मरीज के स्वास्थ्य की सतत निगरानी की जाएफिरोजाबाद, कानपुर, कन्नौज, मथुरा, आगरा आदि जनपदों में विशेष सतर्कताबरती जाए, अस्वस्थ लोगों के उपचार के लिए सभी अस्पतालों में प्रबंध किए जाएंव्यापक स्वच्छता, सैनिटाइज़ेशन और फॉगिंग का कार्य सतत जारी रखने के निर्देश


लखनऊ। राज्य सरकार की ‘ट्रेस, टेस्ट एण्ड ट्रीट’ नीति कोविड संक्रमण को नियंत्रित करने में उपयोगी सिद्ध हुई है। उन्होंने कोविड-19 से बचाव व उपचार की व्यवस्थाओं को प्रभावी ढंग से जारी रखने के निर्देश दिए हैं। प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। बैठक में मुख्यमंत्री जी को अवगत कराया गया कि पिछले 24 घण्टों में राज्य में कोरोना संक्रमण के 12 नए मामले सामने आए हैं। इस अवधि में 11 व्यक्तियों को सफल उपचार के उपरान्त डिस्चार्ज किया गया। वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 142 रह गई है, जबकि 16,86,928 मरीज कोरोना संक्रमण मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं। पिछले 24 घण्टे में प्रदेश में 1,50,986 कोरोना टेस्ट किए गए। अब तक राज्य में 08 करोड़ 04 लाख 62 हजार 512 कोविड टेस्ट सम्पन्न हो चुके हैं। उन्होंने दूसरे प्रदेशों से आ रहे लोगों की समुचित जांच कराने के निर्देश दिए।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार लक्षित आयु वर्ग के सभी नागरिकों को कोरोना टीकाकरण का सुरक्षा कवच निःशुल्क उपलब्ध करा रही है। प्रदेश में टीकाकरण कार्य तेजी से किया जा रहा है। उन्होंने कोविड वैक्सीनेशन कार्य को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश देते हुए कहा कि कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज के लिए पात्र लोगों का समय से टीकाकरण किया जाए।


दिवस तक प्रदेश में 11 करोड़ 50 लाख 88 हजार 781 कोरोना वैक्सीन की डोज लगायी जा चुकी है। इसके अन्तर्गत 02 करोड़ 42 लाख से अधिक लोगों ने टीके की दोनों डोज प्राप्त कर ली हैं। इस प्रकार 16 प्रतिशत से अधिक लोग पूरी तरह टीका कवर प्राप्त कर चुके हैं, जबकि 61 प्रतिशत से अधिक लोगों ने कम से कम एक डोज लगवा ली है।डेंगू, डायरिया, कॉलरा सहित विभिन्न वायरल बीमारियों से बचाव के लिए सर्विलांस को बेहतर करते हुए हर एक मरीज के स्वास्थ्य की सतत निगरानी की जाए। उन्होंने कहा कि फिरोजाबाद, कानपुर, कन्नौज, मथुरा, आगरा आदि जनपदों में विशेष सतर्कता बरती जाए। अस्वस्थ लोगों के उपचार के लिए सभी अस्पतालों में प्रबंध किए जाएं। उन्होंने व्यापक स्वच्छता, सैनिटाइज़ेशन और फॉगिंग का कार्य सतत जारी रखने के निर्देश दिए। लक्षणयुक्त मरीजों की जांच जरूर की जाए।