उत्तर प्रदेश में बेमौसम अतिवृष्टि {Unseasonal rain in Uttar Pradesh}

118

मुख्यमंत्री ने प्रदेश में बेमौसम अतिवृष्टि से हुई जनहानि पर गहरा शोक व्यक्त किया। दिवंगत व्यक्तियों के परिजनों को अनुमन्य राहत राशि तत्काल वितरित किए जाने के निर्देश। बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य हेतु आवश्यकतानुसार एन0डी0आर0एफ0, एस0डी0आर0एफ0 तथा पी0ए0सी0 की टीमें तैनात करने के निर्देश। उत्तर प्रदेश के 21 जनपद बाढ़ से प्रभावित।

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में बेमौसम अतिवृष्टि से हुई जनहानि पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत व्यक्तियों के परिजनों को अनुमन्य राहत राशि तत्काल वितरित किए जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने शोक संतप्त परिजनों के प्रति संवेदना व्यक्त की है। मुख्यमंत्री जी ने विभिन्न प्राकृतिक आपदाओं में घायलों का समुचित उपचार कराने के निर्देश दिये हैं।राहत आयुक्त कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराये गये विवरण के अनुसार प्रदेश में विगत 24 घण्टों में अतिवृष्टि से 02 जनहानि हुई हैं। वर्तमान में प्रदेश के 21 जनपद बाढ़ प्रभावित हैं। इनमें जनपद बलरामपुर, सिद्धार्थनगर, गोरखपुर, गोण्डा, बहराइच, बाराबंकी, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, आजमगढ़, महराजगंज, बरेली, बस्ती, संतकबीरनगर, अयोध्या, मऊ, कुशीनगर, बलिया, अम्बेडकरनगर, पीलीभीत, देवरिया तथा शाहजहांपुर सम्मिलित हैं।

उत्तर प्रदेश सरकार ने अभी 24 जिलों में फसल नुकसान के आकलन के आधार पर मुआवजे का ऐलान किया है। इन 24 जिलों में 3.56 लाख किसानों की पहचान हुई है जिनकी फसल बेमौसम अतिवृष्टि के कारण 33 फीसदी से अधिक नुकसान में चली गई। सरकार के मुताबिक करीब 2 लाख हेक्टेयर जमीन पर फसलों का नुकसान हुआ है।


गंगा नदी जनपद बदायूं (कचलाब्रिज) में, शारदा नदी जनपद लखीमपुर खीरी (पलियाकलां एवं शारदानगर) में, घाघरा नदी जनपद बाराबंकी (एल्गिनब्रिज), जनपद अयोध्या व जनपद बलिया (तुर्तीपार), राप्ती नदी जनपद बलरामपुर, जनपद सिद्धार्थनगर (बांसी) व जनपद गोरखपुर (रिगौली व बर्डघाट), बूढ़ी राप्ती नदी जनपद सिद्धार्थनगर (ककरही) एवं कुन्हरा नदी जनपद सिद्धार्थनगर (उसका बाजार), रोहिन नदी जनपद महराजगंज (त्रिमोहिनीघाट) तथा कुआनो नदी जनपद गोण्डा (चन्द्रदीपघाट) में खतरे के जलस्तर से ऊपर बह रही हैं।
मुख्यमंत्री जी द्वारा बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में राहत एवं बचाव कार्य हेतु आवश्यकतानुसार एन0डी0आर0एफ0, एस0डी0आर0एफ0 तथा पी0ए0सी0 की टीमें तैनात करने के निर्देश दिए गए हैं।

राहत आयुक्त कार्यालय द्वारा उपलब्ध कराये गये विवरण के अनुसार जनपद बलरामपुर में एन0डी0आर0एफ0 की 02, एस0डी0आर0एफ0 की 03 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 03 टीमें, जनपद सिद्धार्थनगर में  एस0डी0आर0एफ0 की 01 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीमें, जनपद गोरखपुर में एन0डी0आर0एफ0 की 01, एस0डी0आर0एफ0 की 01 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीमें, जनपद गोण्डा में एस0डी0आर0एफ0 की 01 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीमें, जनपद बहराइच में एन0डी0आर0एफ0 की 01, एस0डी0आर0एफ0 की 01 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीमें, जनपद बाराबंकी में एस0डी0आर0एफ0 की 01 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 02 टीमें, जनपद लखीमपुर खीरी में एन0डी0आर0एफ0 की 01 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीमें, जनपद सीतापुर में फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीम, जनपद आजमगढ़ में फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीम, जनपद बरेली में एस0डी0आर0एफ0 की 01 टीम, जनपद बस्ती में एस0डी0आर0एफ0 की 01 तथा फ्लड पी0ए0सी0 की 01 टीमें, जनपद मऊ, बलिया, देवरिया तथा शाहजहांपुर में फ्लड पी0ए0सी0 की 01-01 टीमें तैनात की गई हैं।