उत्तर प्रदेश की सड़के आखिर कब गढ्ढा मुक्त होंगी -पंकज तिवरी


भाजपा प्रदेश को गढ्ढा मुक्त बनाने की बात कर रही है, फिर भी गढ्ढों में जा रही लोगों की जान। उत्तर प्रदेश की सड़के आखिर कब होंगी गढ्ढा मुक्त।


लखनऊ।
उत्तर प्रदेश में सडकों की हालत दिन प्रतिदिन बदृतर होती जा रही है। खराब सड़कों के चलते आये दिन हादसे में लोगों को अपनी जान गवानी पड़ती है। परन्तु सरकार इस पर कोई भी संज्ञान लेने को तैयार नहीं है।कांग्रेस प्रवक्ता पंकज तिवारी ने बताया कि भारतीय जनता पार्टी ने अपने चुनावी काल में बड़े-बड़े लोक लुभावने दावों में एक दावा यह भी किया था कि वह प्रदेश को गढ्ढा मुक्त बनायेगी। लेकिन वह इस पर खरी नहीं उतर पायी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सड़कों की हालत अत्यंत खराब है। बरसात के मौसम में सड़कों पर जगह-जगह गढ्ढे होने के कारण उन में जलभराव हो जाता है जिससे चलने वाले नागरिकों को तमाम समस्याओं का सामना करना पड़ता है। कभी- कभी तो उन्हें अपनी जान ही गवानी पड़ जाती है। परन्तु सरकार इसके लिए कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है।

उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश में लगातार सड़कों की हालत खराब होती जा रही है। वर्तमान भारतीय जनता पार्टी प्रदेश को गढ्ढा मुक्त बनाने की बात करती है, लेकिन आज उन्हीं गढ्ढों की वजह से लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ रही है। वही एक ओर राजधानी लखनऊ की सड़कों का हाल भी बुरा है। जहां सुबह के समय स्कूल जा रही एक कक्षा नौ की छात्रा की मौत हो गयी। उन्होंने बताया कि छात्रा की साईकिल का पहिया सड़क के एक गढ्ढे में फंस गया और वह सड़क पर गिर गयी उसी वक्त सड़क पर आते हुए डम्पर का पहिया उसके सर को कुचलता हुआ निकल गया जिससे छात्रा की मौके पर ही मौत हो गयी।

प्रवक्ता पंकज तिवारी ने कहा कि अभी हाल ही कुछ पिछले दिनों की ही बात है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ओएसडी मोतीलाल सिंह की सड़क हादसे में दर्दनाक मौत हो गई। इस हादसे में उनकी पत्नी व चालक गम्भीर रूप से घायल हो गए थे। उन्होंने बताया कि ओएसडी मोतीलाल सिंह गुरुवार की रात लखनऊ के लिए निकले थे, तभी बस्ती जिले के खजौली चौकी के पास सड़क पर अचानक नील गाय आ गयी जिस कारण से उनकी स्कॉर्पियो गाड़ी अनियंत्रित होकर गड्ढे में जा गिरी। जिस कारण उन्हें अपनी जान गवानी पड़ी। नोएडा सत्ता पक्ष के एक विधायक जी सड़क के गढ्ढों का शिकार हो गये जिसमें उनकों गंभीर चोटे आयी।