योग एक विज्ञान है -केशव प्रसाद मौर्य

योग एक विज्ञान है जो हमारे शरीर, मन, विचार एवं आत्मा को स्वस्थ करता है।

लखनऊ। उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर 21 जून को होने वाले  योग कार्यक्रम में भाग लेने की अपील आम जनमानस से की है। केशव प्रसाद मौर्य कहा है कि प्रधानमंत्री द्वारा वैश्विक मंच पर ’योगः कर्मसु कौशलम्’ के संदेश के माध्यम से योग के महत्व को और उसकी महत्ता को को रेखांकित किया गया है। 21 जून 2022 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस की थीम ’मानवता के लिए योग’ घोषित की गई है । देश के 25 करोड़ लोगों को योग से जोड़ने का संकल्प लिया गया है। उत्तर प्रदेश में भी राज्य सरकार में 3.5 करोड़ लोगों को योग से जोड़े जाने का प्लान निर्धारित किया है।


केशव प्रसाद मौर्य आम जनमानस का आह्वान किया है कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर सामूहिक योगाभ्यास को एक जन आंदोलन के रूप में पूरे उत्साह के साथ मनाया जाए और राजधानी सहित प्रदेश के जिलों में होने वाले कार्यक्रमों में जाकर इस कार्यक्रम को सफल बनाने के हर संभव प्रयास किया जाए। उन्होंने कहा है कि ग्राम विकास विभाग की स्वयं सहायता समूह की महिलाएं योगाभ्यास मे भाग लेकर कार्यक्रम को सफल बनाएं।मौर्य ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय योग दिवस का यह उत्सव भारत के साथ-साथ दुनियाभर के अधिकांश देशों में 21 जून 2022 को नई थीम ’योगा फॉर ह्यूमैनिटी’ के साथ मनाया जा रहा है। इसका अर्थ है मानवता के लिए योग इंसान से इंसान को जोड़ने के लिये योग को माध्यम बनाया जा रहा है।

योग की महत्व को लेकर भारत के प्रयासों के चलते दुनियाभर के देशों ने विश्व स्तर योग दिवस मनाना शुरू किया। भारतीय योग एवं ध्यान के माध्यम से भारत दुनिया में गुरु का दर्जा एवं एक अनूठी पहचान हासिल करने में सफल हो रहा है। इसीलिये समूची दुनिया के लिये अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस स्वीकार्य हुआ है। कहा कि  योग एक ऐसा विज्ञान है जो हमारे शरीर, मन, विचार एवं आत्मा को स्वस्थ करता है। योग व्यायाम का ऐसा प्रभावशाली प्रकार है, जिसके माध्याम से न केवल शरीर के अंगों बल्कि मन, मस्तिष्क और आत्मा में संतुलन बनाया जाता है। यही कारण है कि योग से शारीरिक व्याधियों के अलावा मानसिक समस्याओं से भी निजात पाई जा सकती है।