July 26, 2021

Nishpaksh Dastak

Nishpaksh Dastak

बढ़ती उम्र को रोक देंगे योगासन…

योग न केवल आपको शारीरिक परेशानियों से बचाता है, बल्कि आपको फिट एंड एक्टिव भी बनाए रखता है। 21 जून को पूरे विश्व में योग दिवस मनाया मनाया जाता है। योग दिवस मनाने का मुख्य विषय लोगों को उनकी सेहत के प्रति जागरुक करना और योग से जुड़े कुछ जरूरी तत्व समझाना है। योग असल में वह शारीरिक प्रक्रिया है, जो आपके शरीर के साथ-साथ आपके मन को भी लाभ पहुंचाती है। योग करने से आपका शरीर और माइंड दोनों एक्टिव रहते हैं।अच्छे स्वास्थ्य के लिए नियमित व्यायाम और सही खानपान के साथ-साथ उम्र के हर पड़ाव पर अपने शरीर और उसके संकेतों को पहचानना ज़रूरी है। योगा करने से शरीर युवा रहता है औऱ ये बात विज्ञान भी मान चुका है। अन्तरराष्ट्रीय योग दिवस  के मौके पर आइए जानते हैं कि योग के द्वारा जवान कैसे रहा जा सकता है ताकि उम्र सिर्फ एक नंबर बन कर रह जाए। 

योग आध्यात्मिक,शारीरिक मजबूती के साथ सेक्स को बेहतर बनाने में कारगर

विपरीत करनी आसन:– ये आसन रक्त संचार में सुधार लाता है और इसे करने से खासकर जांघों और पैरों को राहत मिलती है। इस आसन को आपको दीवार के सहारे करना है। किसी भी दीवार के सहारे जमीन पर लेट जाएं। अपने कूल्हों को दीवार से मिलाएं और अपने दोनों पैरों को ऊपर उठाते हुए दीवार पर रख दें। अब धीरे-धीरे अपने पैरों को दीवार पर ऊपर की ओर बढ़ाएं और अपने कूल्हों को उठाएं। अब अपने दोनों हाथों को कूल्हों पर रखें। इस दौरान धीरे-धीरे सांस लेते रहें और छोड़ते रहें।

 वृक्षासन आसन:– ये योगासन आपके शरीर में संतुलन बनाने के लिए लाभदायक है। इसे इस तरह करें – अपने पैरों को मिलाकर खड़े हो जाएं और अपने दोनों हाथों को जोड़कर वक्ष के पास लाएं। अब अपने उल्टे पैर पर शरीर का सारा भार लेकर सीधे पैर को उल्टे पैर की पिंडलियों पर रखें। इस पोजीशन में थोड़ी देर तक रुके रहें और इस दौरान सांस ले व छोड़ते रहें। थोड़ी देर के बाद बिलकुल यही प्रक्रिया दूसरी तरफ से करें। इस आसन से आपका शरीर पूरी तरह आत्मकेंद्रित रहेगा।

जानें- क्यों जरूरी है योग….?

ताड़ासन :– ये आसन शरीर को केंद्रीय अवस्था में लाता है जिससे दिमाग को एकाग्र करने में हेल्प मिलती है। यह श्वास को संतुलित करने के साथ साथ आपके पैरों को भी मजबूत करता है। इसे इस तरह करें – सबसे पहले आप खड़े हो जाए और अपने कमर और गर्दन को सीधा रखें। अब आप अपने हाथ को सिर के ऊपर करें और धीरे से सांस खींचें। इस अवस्था को कुछ समय के लिए बनाये रखें, फिर सांस छोड़ते हुए धीरे धीरे अपने हाथ एवं शरीर को पहली अवस्था में लेकर आयें।

उनमामी मुद्रा आसन:– उनमानी मुद्रा मन शांत करती है और शरीर को रिलेक्स करती है। इससे युवावस्था की तरह चेतना मिलती है। इतना ही नहीं ये मुद्रा ध्यान को गहरा करने में मदद मिलती है। इस मुद्रा का सबसे बड़ा लाभ है कि इससे गुस्से पर काबू पाया जा सकता है।इसे इस तरह करें –  पदमासन में बैठ जाएं और अपने भौहों के बीच के हिस्से पर अपना सारा ध्यान केंद्रित करें जिसे तीसरी आंख के रूप में भी जाना जाता है। अपने मन से बाकी सारे विचार निकाल दें और केवल इस बिंदु पर ध्यान देने का प्रयास करें।

राज्य सरकार सैमसंग की निर्माण इकाई को हर सम्भव मदद देने को तैयार

नटराज आसन :– ये आसन डिप्रेशन और तनाव को दूर करने में मदद करता है जिससे शरीर और दिमाग को राहत मिलती है। यह रक्त संचार और एकाग्रता को भी बढ़ाने में सहायक है। ये आसन वजन कम करने में और मेटाबॉलिज्म बढ़ाने में मदद करता है। इसे इस तरह करें – सबसे पहले आप सीधे खड़े हो जाएं। अब आप अपने दाएं पैर को उठाएं, उसे घुटनों से मोड़ें और जितना संभव हो पीठ के पीछे ले जाएं। दोनों बांहों को सामने से ऊपर उठाएं, फिर उन्हें पीछे ले जाएं। अब आप बाएं पांव पर खड़े रहते और अपने संतुलन बनाते हुए दाएं पैर को दोनों हाथों से पकड़कर जितना संभव हो सिर के ऊपर ले जाएं।नटराजासन योग शारीरिक रूप से एक चुनौतीपूर्ण और सुंदर मुद्रा है जिसमें आपकी रीढ़, पैरों और कूल्हों में लचीलेपन की आवश्यकता होती है। यह आपको मजबूत बनाने में मदद करता है और आपके मन और शरीर को खोलता है, जिससे उन्हें बहुत अधिक आकर्षक आकृति और शक्ति मिलती है। इस आसन में जब आप झुकते हैं तो आपके शरीर का एक पैर पर संतुलन होता है जिससे आपको लगातार चुनौती दी जाती है। जब इस आप चुनौती को पार कर लेते हैं तो आप स्थिरता और शांति की भावना प्राप्त करते हैं। यह आसन दिल और फेफड़ों को फैला देता है। आइये इस आसन को करने की विधि और नटराजासन योग के फायदे को विस्तार से जानते हैं।

वशिष्ठासन :- यह आसन दिखने में आसान लगता है, मगर इसे करने के लिए बैलेंस का होना बहुत जरूरी है। शुरुआत में थोड़ी परेशानी का सामना करना होगा, मगर धीरे-धीरे बॉडी बैलेंस बनाना सीख जाएगी। इस आसन को सुबह खाली पेट करने से आपकी बाजू, कमर और पीठ की स्ट्रेचिंग अच्छे से होती है। आपकी टांगो को शेप देने के लिए यह एक बेस्ट आसन है। महिलाओं के लिए खासकर वशिष्ठासन के कई सारे लाभ है, इस आसन को रोजाना करने से झड़ते बाल, पीठ दर्द, तनाव और शरीर में कमजोरी महसूस होने जैसी कई परेशानियां ठीक होती है।