स्वास्थ्य मेले से लोगों की सेहत सुधारेगी योगी सरकार

87
स्वास्थ्य मेले से लोगों की सेहत सुधारेगी योगी सरकार
स्वास्थ्य मेले से लोगों की सेहत सुधारेगी योगी सरकार

आयुष्मान भव: अभियान के तहत शनिवार और रविवार काे वृहद रूप से स्वास्थ्य मेले का होगा आयोजन। स्वास्थ्य मेले से लोगों की सेहत सुधारेगी योगी सरकार। आयुष्मान मेले के तहत शनिवार को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर जबकि रविवार को सीएचसी और पीएचसी पर विशेषज्ञ करेंगे स्वास्थ्य परीक्षण। शहर से लेकर दूर-दराज गांवों में विशेषज्ञ डॉक्टर्स की टीम लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करने के साथ उन्हे बीमारियों को लेकर करेगी जागरूक। स्वास्थ्य मेले से लोगों की सेहत सुधारेगी योगी सरकार

लखनऊ। योगी सरकार 17 सितंबर से प्रदेश भर में आयुष्मान भव: अभियान की शुरुआत करने जा रही है। इस अभियान के तहत शनिवार और रविवार काे वृहद रूप से स्वास्थ्य मेले का आयोजन किया जाएगा, जिसमें शहर से लेकर दूर-दराज गांवों में विशेषज्ञ डॉक्टर्स की टीम लोगों का स्वास्थ्य परीक्षण करने के साथ उन्हे बीमारियों को लेकर जागरुक करेगी। इस दौरान यदि किसी व्यक्ति में गंभीर बीमारी के लक्षण मिलते हैं तो आगे की चिकित्सा परामर्श के लिए रेफर किया जाएगा। आयुष्मान मेले के तहत शनिवार को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर जबकि रविवार को सीएचसी और पीएचसी पर विशेषज्ञों द्वारा स्वास्थ्य परीक्षण किया जाएगा। मालूम हो कि 14 सितंबर को ही राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने आयुष्मान भव: योजना का शुभारंभ किया था। इस योजना के माध्यम से योगी सरकार प्रदेश में हर पात्र व्यक्ति को आयुष्मान कार्ड उपलब्ध कराने की दिशा में प्रयास करेगी।

गैर संचारी रोगों को लेकर किया जाएगा जागरूक


आयुष्मान मेला के तहत प्रत्येक शनिवार को हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर पर स्वास्थ्य मेला का आयोजन किया जाएगा। इसके तहत पहले शनिवार को गैर संचारी रोगों बुखार, खांसी, चिकनगुनिया, डेंगू जैसे रोगों के लक्षणों को लेकर जागरुक किया जाएगा। वहीं आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर कूलर, पानी की टंकियों और पानी एकत्र होने के स्थान की चेकिंग करेंगी ताकि संचारी रोगों को जन्म देने वाले कारकों पर नियंत्रण किया जा सके। अभियान के तहत दूसरे शनिवार को टीबी, कुष्ठ रोग समेत अन्य संचारी रोगों की विशेषज्ञों की टीम स्क्रीनिंग करेगी। इस दौरान लोगों को दवा, प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल सेवाएं, टेली परामर्श की सुविधा दी जाएगी। वहीं तीसरे शनिवार को मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य एवं पोषण को लेकर जागरुक किया जाएगा जबकि चौथे शनिवार को जनजाति क्षेत्र में सिकल और गैर जनजाति क्षेत्र में आंखों की जांच की जाएगी। इसके अलावा हर शनिवार को स्वास्थ्य एवं कल्याण तथा विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं के साथ सेवाओं के बारे में जागरुक किया जाएगा। इस दौरान आभा स्वास्थ्य (आईडी कार्ड) कार्ड, आयुष्मान भारत कार्ड बनाये जाएंगे। साथ ही उच्च रक्तचाप, मधुमेह और तीन सामान्य कैंसर मुंह, स्तन और गर्भाशय ग्रीवा जैसी बीमारियों के लिए जनसंख्या आधारित स्क्रीनिंग की जाएगी। इतना ही नहीं पीएम-जेएवाई का इलाज कराने वाले मरीज का फॉलोअप लिया जाएगा और नियमित टीकाकरण के लिए अभियान चलाया जाएगा।

रविवार को मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञों की टीम करेगी इलाज


प्रदेश के सभी सीएचसी, पीएचसी (ग्रामीण एवं शहरी) में हर रविवार को आयुष्मान मेले के तहत मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञों द्वारा मरीजों को स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करायी जाएगी। इसका मुख्य उद्​देश्य देखभाल की निरंतरता सुनिश्चित करने के लिए सीएचसी में विशेषज्ञ और आउटरीच सेवाओं तक पहुंच में वृद्धि करना है। ब्लॉक स्तर पर स्त्री रोग, बाल रोग, त्वचा, नेत्र, ईएनटी विशेषज्ञ, सर्जन, एनेस्थेटिस्ट, मनोचिकित्सक, दंत सर्जन आदि अपनी सेवाएं देेंगे। वहीं मेले की रोजाना की रिपोर्ट को आयुष्मान भव: पोर्टल पर अपलोड करनी होगी। मेले में सीएचसी, मेडिकल कॉलेज, जिला प्रशासन की अहम जिम्मेदारी होगी। मेले में सांसद, विधायक, सलाहकार, प्रधान, सरपंच और अन्य स्थानीय नेताओं की भागीदारी महत्वपूर्ण होगी। स्वास्थ्य मेले से लोगों की सेहत सुधारेगी योगी सरका