अवैध नशे के सौदागरों पर फिर चला योगी सरकार का चाबुक

70
गन्ने का एफआरपी मंजूर
गन्ने का एफआरपी मंजूर

अवैध नशे के सौदागरों पर फिर चला योगी सरकार का चाबुक। सीएम योगी के निर्देश पर चले 10 दिवसीय अभियान में अवैध नशे के 11 गिरोह पर की गई ताबड़तोड़ कार्रवाई। 28 लोगों को गिरफ्तार कर, 6 करोड़ 52 लाख कीमत के अवैध मादक पदार्थों को किया गया जब्त।

लखनऊ। प्रदेश के युवाओं को नशे के आगोश में धकेलने वाले मादक पदार्थों के सौदागरों पर योगी सरकार कहर बनकर बरस रही है। पिछले कुछ वर्षों में अवैध नशे के सौदागरों पर योगी सरकार द्वारा की गई ताबड़तोड़ कार्रवाई ने उनकी कमर तोड़ के रख दी है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सीधी मॉनिटरिंग का ही असर है कि वर्ष 2020 से अक्टूबर 2023 तक प्रदेश के विभिन्न जिलों में छापेमारी कर 2 लाख 41 हजार किलोग्राम से अधिक अवैध मादक पदार्थ जब्त किया गया। अंतरराष्ट्रीय बाजार में इसकी कीमत 1400 करोड़ से अधिक आंकी गयी है। वहीं सीएम योगी के निर्देश पर एक बार फिर अभियान चलाकर नशे के सौदागरों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। 10 दिन के अभियान में एएनटीएफ द्वारा 11 गिरोह के खिलाफ ताबड़तोड़ कार्रवाई की गई है।

अभियान चलाकर 28 अवैध नशे के सौदागरों को किया गिरफ्तार

एएनटीएफ डीआईजी अब्दुल हमीद ने बताया कि सीएम योगी ने अवैध नशे के सौदागरों के खिलाफ अभियान चलाने के निर्देश दिये थे। इसी क्रम में एएनटीएफ की टीम ने छापेमारी कर 11 अवैध नशे के गिरोह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर 28 लोगों को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से गांजा 220.170 किग्रा, अफीम 05.200 किग्रा, चरस 4.266 किग्रा, मारफीन-1.920 किग्रा, हिरोइन/स्मैक-1.410 किग्रा एवं कोडिन सीरप -15000 बोतल बरामद की गई है। इसकी अंतरराष्ट्रीय बाजार में 6 करोड़ 52 लाख रुपये कीमत बतायी जा रही है।