आज़म खां के गढ़ पर योगी मेहरबान

मुख्यमंत्री ने रामपुर में 72 करोड़ रु0 की लागत की 22 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। मुख्यमंत्री का जनपद रामपुर भ्रमण,विगत साढ़े पांच वर्षाें में प्रदेश सरकार द्वारा जनपद रामपुर में 3,232 करोड़ रु0 से अधिक की परियोजनाओं को पूरा किया गया।

प्रधानमंत्री के विजन के अनुरूप देश में पहला अमृत सरोवर बनाकर रामपुर ने संदेश दिया कि अगर इच्छा शक्ति हो तो परिणाम भी हमारे साथ जुड़ जाता। मुख्यमंत्री ने जनपद रामपुर में 72 करोड़ रु0 की लागत की 22 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। प्रदेश की औद्योगिक नीति से प्रभावित होकर जनपद रामपुर में 65 करोड़ रु0 लागत की 03 औद्योगिक इकाइयों की स्थापना की गयी। विगत 08 माह में रामपुर में 20 नई औद्योगिक इकाइयां स्थापित हुई, इनमें कुल 540 करोड़ रु0 का निवेश हुआ। बिलासपुर में इण्डस्ट्रियल एस्टेट की स्थापना के कार्य को सरकार प्राथमिकता के साथ आगे बढ़ाएगी। रूद्र विलास चीनी मिल, बिलासपुर के आधुनिकीकरण के लिए डी0पी0आर0 बनाने के निर्देश दिए जा चुके। प्रदेश सरकार द्वारा अनेक योेजनाओं के माध्यम से रामपुर को उसकी पहचान दिलाने के कार्य किये जा रहे। रामपुर में हेल्थ ए0टी0एम0 की पहल सराहनीय, राज्य सरकार ने प्रत्येक जिला प्रशासन को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में एक-एक हेल्थ ए0टी0एम0 लगाने के निर्देश दिए। अगले 05 वर्षाें में राज्य के जिन परिवारों में अब तक कोई सरकारी नौकरी, रोजगार या स्वरोजगार नहीं मिला है, सरकार का प्रयास है कि उन परिवारों के किसी एक व्यक्ति को रोजगार, स्वरोजगार के साथ जोड़ा जाए। मुख्यमंत्री ने उत्कृष्ट कार्य करने वाले ग्राम प्रधानों को प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। रामपुर पुलिस लाइंस में निर्माणाधीन आवासीय परिसर का निरीक्षण किया। मुख्यमंत्री ने शिशु सदन में रह रहे बच्चों का हालचाल जाना, बच्चों को चॉकलेट और उपहार वितरित किए।


जनपद रामपुर के फिजिकल ग्राउण्ड परिसर में आयोजित जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि रामपुर की पौराणिक और ऐतिहासिक पहचान रही है। इस पहचान को बनाये रखने की आवश्यकता है। राजा राम सिंह कठेर के नाम पर इस जनपद को जाना जाता है। राज्य सरकार ने वर्ष 2020 में पनवड़िया फ्लाईओवर का नाम उनके नाम पर रखा है। रामपुरवासियों ने श्री घनश्याम सिंह लोधी को अपना सांसद चुनकर विकास, सुरक्षा और समृद्धि के साथ खड़े होकर एक नये युग की शुरुआत की है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने जनपद रामपुर की 72 करोड़ रुपये की लागत की 22 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया।


मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने 08 वर्ष पूर्व देश को ‘सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास, सबका प्रयास’ का मंत्र दिया था। विकास, समृद्धि, रोजगार तथा स्वावलम्बन के लिए प्रत्येक व्यक्ति का योगदान हो सकता है। हमारे हस्तशिल्पी, कारीगर, हुनरमन्द, युवा, अन्नदाता किसान, श्रमिक आदि समाज का हर तबका जब अपना योगदान करता है, तब विकास अमली-जामा पहनता हुआ दिखायी देता है। अन्नदाता किसान खेतों में अन्न उगाकर हर एक व्यक्ति तक पहुंचाने का कार्य बिना भेदभाव के करता है। हमारा श्रमिक जब पसीना बहाता है, तब बड़ी-बड़ी इमारतें तथा इन्फ्रास्ट्रक्चर के बड़े-बड़े कार्य हो पाते हैं। आज उन्हें रामपुर में कई कार्याें से जुड़ने का अवसर प्राप्त हुआ है। जिनके माध्यम से कह सकते हैं कि रामपुर बदल रहा है।


मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के विजन के अनुरूप देश में पहला अमृत सरोवर बनाकर रामपुर ने संदेश दिया कि अगर इच्छा शक्ति हो तो परिणाम भी हमारे साथ जुड़ जाता है। प्रधानमंत्री जी ने मन की बात कार्यक्रम में रामपुर के अमृत सरोवर की चर्चा करके जनपद को एक नई पहचान देने का कार्य किया है। केन्द्र एवं राज्य सरकार मिलकर बिना किसी भेदभाव के प्रत्येक व्यक्ति के जीवन में व्यापक परिवर्तन लाने की पक्षधर है। उन्हें विकास योजनाओं, रोजगार व स्वरोजगार से जोड़कर आर्थिक स्वावलम्बन की ओर अग्रसर करना चाहती है। विगत साढ़े पांच वर्षाें में प्रदेश सरकार द्वारा जनपद रामपुर में 3,232 करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं को पूरा किया गया है। इनमें सम्पर्क मार्ग, बुनियादी सुविधाओं की परियोजनाओं के साथ ही आम जनमानस से जुड़ी परियोजनाएं शामिल हैं। प्रदेश की औद्योगिक नीति से प्रभावित होकर जनपद रामपुर में 65 करोड़ रुपये लागत की 03 औद्योगिक इकाइयों की स्थापना की गयी है। इससे लगभग 1200 लोगों को रोजगार प्राप्त हो रहा है। सुरक्षा के वातावरण से लोग उत्तर प्रदेश में निवेश करने के लिए आ रहे हैं। राज्य सरकार यहां पर अनेक परियोजनाओं में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए इन्सेंटिव प्रदान कर रही है। विगत 08 माह में रामपुर में 20 नई औद्योगिक इकाइयां स्थापित हुई हैं। इनमें कुल 540 करोड़ रुपये का निवेश हुआ है। इनके माध्यम से 600 लोगों को प्रत्यक्ष तथा 4500 लोगों को अप्रत्यक्ष रोजगार की सुविधा मिली है।


प्रदेश सरकार द्वारा अनेक योेजनाओं के माध्यम से रामपुर को उसकी पहचान दिलाने के कार्य किये जा रहे हैं। इनमें रामपुर का वॉयलिन, रामपुरी चाकू, जरदोजी, चटापटी, रामपुरी टोपी तथा पतंग सहित हस्तशिल्प से जुड़े हुए अनेक कार्यक्रमों को राज्य सरकार ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना तथा एक जनपद एक उत्पाद योजना से जोड़ा है। इनके माध्यम से अधिक से अधिक रोजगार उपलब्ध कराने के कार्यक्रम से हम सब जुड़ रहे हैं। डबल इंजन की सरकार ने तय किया है कि उत्तर प्रदेश हर हाल में दंगा मुक्त रहेगा। यहां अपराध एवं अपराधियों तथा भ्रष्टाचार एवं भ्रष्टाचारियों के लिए कोई जगह नहीं होगी। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा सख्ती के साथ इन तत्वों को कानून के दायरे में लाकर सजा दिलाने की कार्रवाई की जा रही है। प्रदेश में निवेश के अनुकूल वातावरण बनाकर अधिक से अधिक मात्रा में निवेश को प्रोत्साहित किया जा रहा है। अगले 05 वर्षाें में राज्य के जिन परिवारों में अब तक कोई सरकारी नौकरी, रोजगार या स्वरोजगार नहीं मिला है, सरकार का प्रयास है कि उन परिवारों के किसी एक व्यक्ति को रोजगार, स्वरोजगार के साथ जोड़ा जाए। इसके लिए सरकार वृहद पैमाने पर कार्य कर रही है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां के जनप्रतिनिधियों द्वारा रामपुर के विकास के लिए मांग की गयी है। इनमें बिलासपुर में इण्डस्ट्रियल एस्टेट की स्थापना के कार्य को सरकार प्राथमिकता के साथ आगे बढ़ाएगी। इससे यहां व्यापक पैमाने पर रोजगार की सम्भावनाएं उपलब्ध होंगी। मिलकपुर, रामपुर, चमरौर, स्वार विधान सभा क्षेत्रों से जुड़े हुए शाहबाद-रामपुर-बाजपुर मार्ग के चौड़ीकरण के कार्य को सरकार आगे बढ़ा रही है। रामपुर की तहसील शाहबाद के अन्तर्गत मदारपुर में जैतोली-शाहबाद मार्ग पर सेतु निर्माण कार्य के साथ अन्य कार्यों को प्राथमिकता के आधार पर कराया जा रहा है। तहसील मिलक के अन्तर्गत मिलक-पटवाई मार्ग के मध्य मण्डी समिति के सामने रेलवे सम्पार फाटक की सहमति दी जा चुकी है। रूद्र विलास चीनी मिल, बिलासपुर के आधुनिकीकरण के लिए डी0पी0आर0 बनाने के निर्देश दिए जा चुके हैं। निवेश को अधिक से अधिक प्रोत्साहित करना होगा। यह निवेश कृषि, शिक्षा अथवा स्वास्थ्य के क्षेत्र में हो सकता है।


मुख्यमंत्री ने जिला प्रशासन द्वारा आयोजित प्रदर्शनी में हेल्थ ए0टी0एम0 का शुभारम्भ किया। उन्होंने कहा कि रामपुर में हेल्थ ए0टी0एम0 की पहल सराहनीय है। इसके माध्यम से 100 प्रकार की जांचें हो सकती हैं। इस हेल्थ ए0टी0एम0 के माध्यम से देश दुनिया के बेहतरीन डॉक्टरों से परामर्श और स्वास्थ्य उपचार प्राप्त किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस पहल से डॉक्टरों की कमी को तकनीक के आधार पर पूरा किया जा सकेगा। राज्य सरकार द्वारा प्रत्येक जिला प्रशासन को पायलट प्रोजेक्ट के रूप में एक-एक हेल्थ ए0टी0एम0 लगाये जाने की कार्यवाही के लिए निर्देश दिए गए हैं। इस कार्यक्रम को सी0एस0आर0 से जोड़कर आगे बढ़ाया जा रहा है।जनसभा कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री जी ने राघव नाम के बच्चे को खीर खिला कर उसका अन्नप्राशन कराया। साथ ही, कु0 खुशी को पोषण किट प्रदान की। उन्होंने पी0एम0 केयर्स के अन्तर्गत सुश्री अरीशा को 10 लाख रुपये का प्रतीकात्मक चेक, उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत सुश्री चारू सिंह को लैपटॉप, सुश्री सौन्दर्या सक्सेना को टैबलेट तथा सुश्री सबीना को स्मार्टफोन प्रदान किया।


ग्राम पंचायतों में प्रतिस्पर्धात्मक माहौल विकसित करने के उद्देश्य से विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट कार्य करने वाले ग्राम प्रधान श्री महिपाल सिंह और श्रीमती रुपाली लोधी को मुख्यमंत्री ने प्रशस्ति-पत्र प्रदान कर सम्मानित किया। उन्होंने गणेशा इन्फोटेक द्वारा जिले में फैक्ट्री स्थापित करने और कर्नाटक मॉडल पर जनपद में जल संरक्षण के उपाय विकसित करने में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे आर्ट ऑफ लिविंग के श्री दिग्विजय खरोटे को सम्मानित किया। उन्होंने जिला प्रशासन द्वारा जनपद में विभिन्न क्षेत्रों में कराए गए अभिनव कार्यों पर आधारित फोटो प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया। रामपुर पुलिस लाइंस में 886.63 लाख रुपये की लागत से निर्माणाधीन आवासीय परिसर का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने अधिकारियों को निर्माण कार्यों को तय समय-सीमा में तथा गुणवत्तापूर्ण ढंग से पूरा कराने के निर्देश दिए।


मुख्यमंत्री द्वारा आज लोकार्पित की गई परियोजनाओं में 680.17 लाख रुपये की लागत से विकास खण्ड मिलक के ऐमी कल्याणपुर मार्ग पर पीलाखार नदी पर सेतु पहुंच मार्ग, अतिरिक्त पहुंच मार्ग एवं सुरक्षात्मक कार्य का निर्माण, 760.83 लाख रुपये की लागत से ग्राम मनोना, पदपुरी मार्ग पर भाखड़ा नदी पर सेतु पहुंच मार्ग,  अतिरिक्त पहुंच मार्ग एवं सुरक्षात्मक कार्य का निर्माण, 279.10 लाख रुपये की लागत से राष्ट्रीय पेयजल योजना मथुरापुर, 170.25 लाख रुपये की लागत से राजकीय इण्टर कालेज धमौरा में छात्रावास का निर्माण कार्य, 170.25 लाख रुपये की लागत से राजकीय इण्टर कालेज अशोकनगर बिलासपुर में छात्रावास का निर्माण कार्य, 1026.69 लाख रुपये की लागत से अग्निशमन केन्द्र चन्दुपुरी टाण्डा का प्रशासनिक भवन सम्मिलित है। 987.69 लाख रुपये की लागत से अग्निशमन केन्द्र रामपुर तहसील सदर के आवासीय/अनावासीय भवनों का निर्माण, 960.70 लाख रुपये की लागत से अग्निशमन केन्द्र तहसील मिलक के आवासीय/अनावासीय भवनों का निर्माण, 48.15 लाख रुपये की लागत से विकास खण्ड बिलासपुर में गुरूद्वारा छठी पातशाही नवाबगंज का पर्यटन निर्माण कार्य, 45.69 लाख रुपये की लागत से लक्खी बाग शाहबाद में प्राचीन मन्दिर का पर्यटन निर्माण कार्य, 36.90 लाख रुपये की लागत से प्राचीन शिव मन्दिर भमरौआ का पर्यटन निर्माण कार्य, 100.92 लाख रुपये की लागत से रामगंगा नदी के बायें किनारे पर स्थित मदारपुर, मथुरापुर एवं बिचपुरी आदि ग्रामों को नदी की बाढ़ से बचाने हेतु बाढ़ सुरक्षात्मक कार्य का भी लोकार्पण किया गया।


मुख्यमंत्री ने 118.90 लाख रुपये की लागत से बलखेड़ा से भोलापुर मार्ग का नवनिर्माण कार्य, 135.57 लाख रुपये की लागत से गुलाबपुर से मंगतपुर का मजरा मार्ग का नवनिर्माण कार्य, 120.44 लाख रुपये की लागत से बिलासपुर से चड््ढा पेपर मिल से करतारपुर सुआनगला मार्ग के 11 कि0मी0 से खानपुर के बीच कलईया नदी पर आर0सी0सी0 कल्वर्ट व पहुंच मार्ग का नवनिर्माण कार्य, 35.80 लाख रुपये की लागत से चमरौआ व्हाइट हॉल पब्लिक स्कूल से ककरौआ मार्ग सुदृढ़ीकरण का कार्य, 40.35 लाख रुपये की लागत से रामपुर स्वार मार्ग से धनौरी मार्ग तक सुदृढ़ीकरण का कार्य, 413.95 लाख रुपये की लागत से मिलकखानम खौद रोड से बिहारी नगर वाया आका नगर मार्ग का निर्माण कार्य, 319.32 लाख रुपये की लागत से शाहबाद-टाण्डा रोड 09 कि0मी0 से ओशी रोड वाया परौता मार्ग के निर्माण कार्य का लोकार्पण भी किया।


मुख्यमंत्री द्वारा शिलान्यास की गई परियोजनाओं में 145.24 लाख रुपये की लागत से जिला चिकित्सालय परिसर में कॉम्प्रेहेंसिव मेडिकल, सर्जिकल एण्ड एक्सीडेंटल इमरजेंसी यूनिट का निर्माण कार्य, 329.75 लाख रुपये की लागत से धावनी-हसनपुर मुण्डिया कलां रोड से ब्लॉक बाउण्ड्री तक वाया दनकरी मार्ग का निर्माण कार्य एवं 287.88 लाख रुपये की लागत से रामपुर-शाहबाद रोड 25 कि0मी0 से कूप मार्ग का निर्माण कार्य शामिल है।रामपुर शहर में संचालित प्रदेश की पहली आई0एस0ओ0 प्रमाणित संस्था के रूप में शिशु सदन पहुंचकर वहां रह रहे बच्चों का हालचाल जाना। उन्होंने बच्चों को चॉकलेट और उपहार वितरित किए। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि बच्चे समाज की धरोहर हैं। हम सभी की जिम्मेदारी है कि निराश्रित बच्चों के कल्याण के लिए किये जाने वाले कार्यक्रमों से जुड़े।इस अवसर पर पशुधन एवं दुग्ध विकास मंत्री धर्मपाल सिंह, माध्यमिक शिक्षा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गुलाब देवी, गन्ना विकास राज्यमंत्री संजय सिंह गंगवार, कृषि राज्यमंत्री बलदेव सिंह ओलख सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।