आपने आपका भाजपा पर बड़ा हमला

पीईटी परीक्षा को लेकर वंशराज दुबे ने भाजपा पर बोला हमला.परीक्षार्थी अपने सेंटर तक ना पहुंच सके इसलिए परीक्षा केंद्रों को रखा गया है इतना दूर .योगी सरकार ने नकल माफियाओं और सॉल्वर गैंग को दिया है बढ़ावा .योगी सरकार ने युवाओं के भविष्य के साथ किया है छलावा अभी तक की भर्तियों में परीक्षार्थी लगा रहे हैं कोर्ट कचहरी का चक्कर – वंश राज दुबे

महेंद्र सिंह

लखनऊ – लखनऊ आप प्रदेश कार्यालय में छात्र युवा संघर्ष समिति के प्रदेश अध्यक्ष वंशराज दुबे ने महत्वपूर्ण प्रेस वार्ता की. उन्होंने पीईटी की परीक्षा के संबंध में प्रेस वार्ता की. वंश राज दुबे ने कहा कि इसी महीने की 15 तारीख से प्रारंभिक पात्रता परीक्षा की शुरुआत हो रही है. उन्होंने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश की सरकार लगातार छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करती चली आ रही है. उन्होंने कहा पीईटी का एग्जाम उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग ने तय किया है लेकिन उसके परीक्षा केंद्रों की दूरी देखकर विश्वास नहीं होता कि  सरकार युवाओं का भला भी चाहती है.

उन्होंने कहा कि परीक्षा केंद्रों की दूरी बताती है कि परीक्षार्थियों के लिए कितनी मुश्किलें पैदा हो जाएंगी. वंश राज दुबे ने कहा पिछले 5 वर्षों में यही उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग पूर्ण रूप से निठल्ला साबित हुआ है क्योंकि केवल डेढ़ दर्जन नौकरियां निकाली और उनमें भी परीक्षार्थी कहीं कोर्ट का चक्कर लगा रहे हैं तो किसी को जॉइनिंग नहीं दी गई, इस तरह के मामले प्रकाश में आ चुके हैं. वंश राज दुबे ने कहा कि वहीं दूसरी ओर एक बार फिर उत्तर प्रदेश अधीनस्थ सेवा चयन आयोग परीक्षाओं में पारदर्शिता लाने के लिए बलिया के छात्र का परीक्षा केंद्र जौनपुर में डाला गया है इसी तरह गाजियाबाद के छात्र का परीक्षा केंद्र अंबेडकरनगर बना दिया गया है तो इस प्रकार परीक्षार्थी का सेंटर 700 से 1000 किलोमीटर तक रखा गया है उन्होंने कहा कि लगभग 3700000  युवाओं ने प्रारंभिक पात्रता परीक्षा के लिए आवेदन भरा है.

वंश राज दुबे ने कहा कि पीईटी की परीक्षा एक ऐसी परीक्षा है जिसको पास करने के बाद सरकार जब नौकरियां निकालेंगे तब यही छात्र आवेदन कर सकते हैं. इस पहली सीढ़ी को ही उत्तर प्रदेश सरकार ने इतना कठिन बना दिया है कि जिस में छात्र और उसके परिजन दोनों परेशान भी होंगे और उन्हें हासिल भी कुछ नहीं होगा. वंश राज दुबे ने कहा कि इस परीक्षा में छात्रों की आशाओं के साथ साथ उनका पैसा भी खर्च होगा और दूर शहर में सेंटर होने की वजह से उन्हें किराए पर कमरा लेना आना-जाना जैसे अतिरिक्त व्यय को भी झेलना पड़ेगा. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में लेखपाल भर्ती और दरोगा भर्ती में जबरदस्त धांधली हो चुकी है जो स्पष्ट रूप से हमारे सामने है. दुबे ने यूपी के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से अपील करते हुए कहा कि 700 से 1000 किलोमीटर की दूरी पर जो परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं उनमें बहन बेटियों का भी आना जाना होगा तो उनकी सुरक्षा को लेकर भी सतर्कता बरती जाए और इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए.

उन्होंने कहा कि योगी आदित्यनाथ जी ने कहा है कि उन्होंने अपने 5 वर्षीय कार्यकाल में 500000 युवाओं को नौकरियां दी हैं जो कि पूर्णतया झूठ है, क्योंकि यह उसी तरह से नौकरी है जिसमें उम्मीदवारों को कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने पड़ते हैं और आज तक किसी की जॉइनिंग नहीं हो सकी है. एक दूसरे मामले पर वंशराज दूबे ने प्रकाश डालते हुए कहा कि योगी आदित्यनाथ कहते हैं कि उन्होंने अपने पूरे कार्यकाल में एक करोड़ 6100000 लोगों को निजी क्षेत्रों में रोजगार से लगवा दिया है. उन्होंने निजी क्षेत्र को स्पष्ट करते हुए बताया कि जब शिक्षित युवाओं को सरकार  नौकरियां नहीं देती है और धक्के खाने के बाद जब वह बैटरी रिक्शा खरीद कर चलाता है या पान की गुमटी खोल लेता है या चाय पकौड़ा का ठेला लगा लेता है तो इस तरह के रोजगार की संख्या का श्रेय भी मुख्यमंत्री ने ले लिया है.

वंशराज दूबे ने कहा कि आज उत्तर प्रदेश शिक्षा माफियाओं और सॉल्वर गैंग का मुख्य अड्डा बन गया है. राज्य सरकार ने इतनी तरक्की कर ली है कि अब उत्तर प्रदेश से सॉल्वर गैंग उत्तराखंड तक योगी आदित्यनाथ की सरपरस्ती में भेजे जाते हैं. सॉल्वर गैंग वहां के पेपर सॉल्व करके आते हैं. उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार से निवेदन करते हुए कहा कि शिक्षित युवाओं को परेशान करना और झूठे आश्वासन देना बंद कर दें. यह वही परेशान हाल युवा हैं जिन्होंने आप को वोट दिया और दोबारा सत्ता में लाए हैं. इनको इतनी दूर परीक्षा सेंटर पर भेजना, इनके लिए नौकरियां हद से ज्यादा मुश्किल कर देना और नाम आने के बाद भी कोर्ट कचहरी और लाठीचार्ज का प्रावधान जो कि अब परंपरा बन चुका है उसको समाप्त करने की कृपा की जाए.