मुख्यमंत्री जी के दावे खोखले-अखिलेश यादव

राजेन्द्र चौधरी

राष्ट्रीय अध्यक्ष समाजवादी पार्टी अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं बची है। मुख्यमंत्री जी के दावे कितने खोखले है यह थानों में बलात्कार की आए दिन हो रही घटनाओं से प्रमाणित है। भाजपा-आरएसएस लोकतंत्र विरोधी संगठन है। भाजपा सरकार में इसलिए विपक्ष को अपमानित करने की घटनाएं घोर निंदनीय है।श्री यादव ने कहा कि पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष श्री ओम प्रकाश राजभर के जीवन को खतरा है। उन पर पिछले दिनों कई हमले हुए है फिर भी उनकी सुरक्षा की पुख्ता व्यवस्था नहीं की जा रही है। विपक्षी जनप्रतिनिधियों के साथ दुर्व्यवहार लोकतांत्रिक व्यवस्था पर हमला है।


अखिलेश यादव ने मांग की है कि सभी विपक्षी नेताओं की पर्याप्त सुरक्षा व्यवस्था की जाए जिससे उन्हें जनता के बीच जाने और उसकी आवाज उठाने में कोई खतरा न हो।अखिलेश यादव से आज डा0 अरविन्द राजभर (पूर्व राज्यमंत्री) ने भेंट कर ओम प्रकाश राजभर की सुरक्षा पर खतरे की जानकारी दी। उन्होने बताया कि आज ही जिला गाजीपुर के थाना करीमुद्दीनपुर के ग्राम गोशलपुर पहदरिया में ओम प्रकाश राजभर जी को 20-25 दबंगो ने घेर लिया था। वे लाठी-डंडो से लैस थे। राजभर इसी विधान सभा क्षेत्र से जहूराबाद के विधायक है। ओम प्रकाश राजभर और अरविन्द राजभर पर नामांकन के दौरान वाराणसी में भी हमला हुआ था।अरविन्द राजभर ने बताया कि उन पर गड़िया क्रांसिंग के पास रसड़ा में, लखनऊ के चिनहट में और गाजीपुर के सैदपुर बाजार के पास भी हमला हुआ था।


ओम प्रकाश राजभर जी पर अंबेडकरनगर के आगे गोसाईगंज में भी हमला हुआ था। चंदौली में हमलावरों द्वारा फोन पर धमकी दी गई थी। लखनऊ में अर्जुनगंज में भी श्री ओम प्रकाश राजभर के काफिले को रोकने की कोशिश हुई थी।खेद है कि ओम प्रकाश राजभर के खिलाफ अपराधिक एवं अवांछनीय तत्वों की कार्यवाहियों की सूचनाओं के बाद भी भाजपा सरकार निष्क्रिय बनी हुई है। लगता है ओम प्रकाश राजभर के खिलाफ यह सरकार बदले की भावना से काम कर रही है। सुरक्षा में ढ़ील से असामाजिक तत्वो को शह मिल रही है।समाजवादी बाबा साहब अंबेडकर वाहिनी के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री मिठाई लाल भारती के अनुसार मुजफ्फरनगर अन्तर्गत ग्राम पावटी खुर्द, थाना चरथावल में ग्राम प्रधान के निर्देश पर पूरे गांव में डुग्गी पीटकर दलितों के लिए जाति सूचक मुनादी कराई जा रही है। कहा जा रहा है कि कोई भी दलित मेड़ व ट्यूबवेल तथा समाधिस्थल पर नहीं जाएगा। यदि कोई दिख गया तो रू0-5000 जुर्माना एवं 50 जूते का दंड मिलेगा। स्पष्ट है कि भाजपाई रामराज में दलितों का कोई स्थान नहीं है।