मुख्य सचिव ने यूपीएसआरटीसी के कार्यों की समीक्षा

122
बसों में इमरजेंसी के हालात में लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग होनी चाहिए-मुख्य सचिव



लखनऊ।
 मुख्य सचिव ने उ0प्र0 राज्य सड़क परिवहन निगम (यूपीएसआरटीसी) के कार्यों की समीक्षा की। मुख्य सचिव ने परिवहन विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिये कि उत्तर प्रदेश से अन्य राज्यों में जाने वाली परिवहन निगम की बसों की स्थिति बेहतर होनी चाहिये। उन बसों को नई टेक्नोलॉजी से लैस किया जाये। बसों में जीपीएस, पैनिक बटन, सीसीटीवी कैमरा और महिलाओं के लिए पिंक सीट लगवाई जाए। बसों में इमरजेंसी के हालात में लाइव वीडियो स्ट्रीमिंग होनी चाहिए। सार्वजनिक परिवहन को बेहतर बनाने की दिशा में काम किया जाए।


       उन्होंने कहा कि यह भी सुनिश्चित किया जाए कि उत्तर प्रदेश के किसी भी क्षेत्र में अनफिट, बिना परमिट, अवैध, ओवरलोड, जर्जर व डग्गामार बसों का संचालन न हो। परिवहन विभाग द्वारा विशेष सतर्कता बरतते हुए ऐसी बसों के संचालन को रोका जाए। ओवरस्पीडिंग और ओवरलोडिंग के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाए। यातायात नियमों का उल्लंघन पर वाहन का चालान किया जाए। वीडियो कॉन्फ्रेन्सिंग के माध्यम से अध्यक्ष यूपीएसआरटीसी राजेन्द्र कुमार तिवारी तथा बैठक में प्रमुख सचिव परिवहन एल. वेंकटेश्वर लू समेत सम्बन्धित विभाों के अन्य अधिकारीगण आदि मौजूद थे।