रायबरेली लोकसभा क्षेत्र में निष्पक्ष दस्तक

39
रायबरेली लोकसभा क्षेत्र में निष्पक्ष दस्तक
रायबरेली लोकसभा क्षेत्र में निष्पक्ष दस्तक

 उत्तर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के 80 लोकसभा संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है। इसे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। 1967 से 1977 तक, यह सीट पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी के पास थीउत्तर भारतीय राज्य उत्तर प्रदेश के 80 लोकसभा (संसदीय) निर्वाचन क्षेत्रों में से एक है । इसे भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का गढ़ माना जाता है। 1967 से 1977 तक, यह सीट पूर्व प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी के पास थी। 2004 से 2024 में राज्यसभा में उनकी नियुक्ति तक सोनिया गांधी के पास थी।  2004 से 2024 में राज्यसभा में उनकी नियुक्ति तक सोनिया गांधी के पास थी।  रायबरेली लोकसभा क्षेत्र में निष्पक्ष दस्तक

उत्तर प्रदेश में रायबरेली का जिक्र आते ही मस्तिष्क में वीआइपी जिले का नक्शा बन जाता है। कारण भी साफ है कि इसी सीट से पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी भी लड़ चुकी हैं। वह जीतीं भी और उन्हें खाटी समाजवादी राजनारायण के हाथों हारना भी पड़ा। यह वही सीट है जहां नेहरू-गांधी परिवार की दो पीढ़ियों का सीधा नाता रहा है। यही नहीं, इस परिवार ने जिसे भी यहां से खड़ा किया उसने जीत का परचम फहराया। इसे कांग्रेस का गढ़ भी कहा जाता है क्योंकि जब उत्तर प्रदेश में इस दल का सूपड़ा साफ हो गया तो इसी जिले ने लाज भी बचाई। 1952 से लेकर 2014 तक का चुनावी इतिहास स्पष्ट रूप से कहता है कि सिर्फ तीन बार कांग्रेस हारी है, बाकी फिरोज गांधी से लेकर इंदिरा गांधी, शीला कौल, अरुण नेहरू, सतीश शर्मा जैसी बड़ी हस्तियां यहां से चुनाव जीतकर देश की सबसे बड़ी पंचायत में पहुंच चुकी हैं। राजमाता विजयराजे सिंधिया, महिपाल शास्त्री, जनेश्वर मिश्र, सविता आंबेडकर जैसे चेहरे हारकर यहां से चले भी गए।

रायबरेली लोकसभा में कब कौन जीता

2004 से लगातार जीत रही हैं सोनिया गांधी

सोनिया गांधी पहली बार रायबरेली में 2004 में चुनाव लड़ीं और तब से 2019 तक लगातार चुनाव जीतती रहीं। सपा सोनिया गांधी के समर्थन में उम्मीदवार नहीं उतार रही थी। इस बार 2024 में सोनिया गांधी रायबरेली से चुनाव नहीं लड़ेंगी क्योंकि अब वे राज्यसभा के लिए चुन ली गई हैं।

लोकसभा चुनाव में 17.78 लाख से ज्यादा मतदाता अपना प्रतिनिधि चुनेगें। जिसमें 80 हजार से ज्यादा नए मतदाता हैं। 20 मई को होने वाले चुनाव के लिए तैयारियां तेज़ हो गईं है। उल्लेखनीय है कि रायबरेली महत्वपूर्ण लोकसभा क्षेत्र है और देश भर की निगाहें इस चुनाव क्षेत्र पर लगी रहती हैं।रायबरेली लोकसभा क्षेत्र में कुल 17 लाख 78 हजार 780 मतदाता पंजीकृत हैं, जिनमें पुरुष 928168, महिला 850573 मतदाता हैं। 2019 के मुकाबले 80,878 मतदाता नए हैं। मतदान को निष्पक्ष और सकुशल संपन्न कराने के लिए 1236 मतदान केंद्र और 1867 मतदेय स्थल बनाये गए हैं। रायबरेली लोकसभा क्षेत्र में पांच विधानसभा हैं जिनमें सबसे अधिक मतदाता रायबरेली विधानसभा में है, यहां करीब 37,9836 मतदाता हैं। बछरावां विधानसभा में 346182, हरचंदपुर में 327157, सरेनी में 377261 और ऊंचाहार में 348344 मतदाता हैं। रायबरेली लोकसभा क्षेत्र में निष्पक्ष दस्तक