सत्ता के नशे में सरकार-अखिलेश यादव

67
झूठे मुकदमें दर्ज कराने में विश्व रिकॉर्ड बना रही भाजपा
झूठे मुकदमें दर्ज कराने में विश्व रिकॉर्ड बना रही भाजपा

भाजपा सरकार सत्ता और तकनीक का नकारात्मक इस्तेमाल कर रही है। भाजपा सरकार अन्नदाताओं पर अत्याचार कर रही है। किसानों की मांगों को मानने के बजाय उन पर आंसू गैस के गोले दागकर लाठियां बरसायी जा रही है। पूरा देश देख रहा है भाजपा सरकार किसानों के साथ किस तरह का व्यवहार कर रही है। अखिलेश यादव ने कहा कि भाजपा सरकार ने किसानों से कई झूठे वादे किए, बड़े-बड़े सपने दिखाए। दस साल सत्ता में रहने के बाद भी भाजपा की केन्द्र सरकार ने किसानों से किए गए वादों को पूरा नहीं किया। किसानों की आय दोगुनी नहीं हुई। किसानों को सम्मान निधि देने के बजाय उसकी वसूली शुरू कर दी। किसान के उपयोग की खाद, बीज, कृषि यंत्र, डीजल, सभी तो महंगा है। बिजली महंगी है। किसान की लागत के सापेक्ष फसल का मूल्य नहीं मिल रहा है। एमएसपी को अनिवार्य करने की मांग केन्द्र सरकार ने ठुकरा दिया है। सत्ता के नशे में सरकार-अखिलेश यादव

पूर्व सांसद रमाशंकर राजभर ने कहा 10 साल सत्ता में रहने के बाद अब फिर भाजपा झूठ की गारंटी दे रही है जबकि 10 सालो में सत्ता ने दलितों, पिछड़ों, अल्पसंख्यक के हकों को लूटा गया है। भयभीत बीजेपी इण्डिया गठबंधन को तोड़ने के लिए धन, पद, ईडी का इस्तेमाल कर रही। सरकार से किसान व्यापारी सब निराश है।पूर्व सांसद रमाशंकर राजभर लोक सभा प्रभारी सलेमपुर ने कहा जनता की समस्याएं बढ़ती जा रही है। पढ़ाई, दवाई, किसानी मंहगी होती जा रही है बेरोजगारी, भ्रष्टाचार, महंगाई पर सरकार बात नही करती। 10 साल सरकार चलाने के बाद भी सरकार आस्था, और भारतरत्न के नाम पर वोट चाहती है। महाराजा सुहेल देव के नाम पर कुछ लोग राजभर समाज की भीड़ लगाकर राजभर वोट का सौदा करते है। राजभर समाज को अपने अवगुण छोड़ कर शिक्षा, हुनर व्यवसाय से आगे बढ़ाना चाहिए।

भाजपा के झूठे वादों से किसानों के सब्र का बांध टूट चुका है। किसानों को अब भाजपा सरकार के झूठे वादे नहीं चाहिए। मांगे पूरी होनी चाहिए। किसानों को लेकर भाजपा की कथनी और करनी में हमेशा से अंतर रहा है। भाजपा किसान के हितों के बजाय पूंजीपतियों के हितों का संरक्षण कर रही है। किसान को बिचौलियों का बंधक बनाकर रखना चाहती है। अखिलेश यादव ने कहा कि समाजवादी पार्टी किसानों की मांगों के समर्थन में है क्योंकि उनकी मांगे न्यायोचित है। किसान देश का अन्नदाता है। अन्नदाता का अपमान सरकार को बहुत भारी पड़ेगा। देश का किसान भाजपा को भली भांति समझ चुका है। किसान अब एकजुट होकर भाजपा को सबक सिखाएगा। 2024 में किसान देश में बदलाव लाएंगे और देश में सकारात्मक सरकार बनाएंगे। सत्ता के नशे में सरकार-अखिलेश यादव