औद्योगिक विकास को त्वरित गति सुदृढ़ बनाने की लागू

लखनऊ उपाध्यक्ष मनीश कुमार गुप्ता ने सूचित किया कि प्रदेश में औद्योगिक विकास को त्वरित गति देने आर्थिक रूप से सुदृढ़ बनाने और उद्यमियों को सहायता प्रदान करने के उद्देश्य से उद्योग बन्धु की विस्तरीय व्यवस्था (जनपद स्तरीय उद्योग बन्धु, मण्डल स्तरीय उद्योग बन्धु एवं राज्य स्तरीय उद्योग बन्धु की व्यवस्था) लागू है इसी प्रकार व्यापारियों उद्यमियों/निर्यालको की समस्याओं के निदान हेतु व्यापार बन्धु, उद्योग बन्धु का गठन राज्य स्तर पर मंडल स्तर पर जनपद स्तर पर किया गया है जनपद स्तर पर उद्योग बन्धु एवं व्यापार बन्धु की बैठक प्रत्येक माह जिलाधिकारी द्ववारा नियत पर मण्डलायुक्त द्वारा नियत तिथि एवं स्थान पर किये जाने की व्यवस्था पूर्व से ही विद्यमान है।
उन्होंने बताया कि शासन के संज्ञान में यह आया है कि उक्त व्यवस्थाओं के बावजूद भी उत्पादन/निर्माण/विनिर्माण ईकाइयां आर्थिक व राजस्व तथा कर सम्बन्धित इकाईयों व्यापारियों/उद्यमियों/निर्यातकों की समस्याओं का सम्यक निस्तारण नहीं हो रहा है। अस्तु सम्यक विचारोपरान्त जनपद स्तर पर व्यापारियों/उद्यमियों/निर्यातकों की समस्याओं के निराकरण हेतु दिनांक 03 मार्च 2020 समिति गठित की जाती है।
उन्होंने बताया कि शासनादेश में उल्लेखित शक्तियों का प्रयोग करते हुए अधोहस्ताक्षरी जनपद लखनऊ उ0प्र0 के लिए उपरोक्त समिति में निम्नलिखित महानुभावों को विशेष आमंत्रित सदस्य नामित करता हूँ डा0 प्रमोद कुमार गुप्ता मो0न0-9451387260, डा0 सौरभ मेहरोना मो0न0- 9936423621, डा0 श्री विनीत मो0न0-9454200004, डा0 चन्द्र प्रकाश अवस्थी मो0न0- 9956359811,700731139 ।
उन्होंने बताया कि शासनादेश में उल्लेखित सवैधानिक अधिकारी जिला स्तरीय बैठकों में उपरोक्त महानुभावों को प्रदत्त होंगें जनपद स्तर पर गठित उद्योग बंधु समिति/व्यापार बंधु समिति/प्रस्तर-2 में गठित समिति की बैठक में कमिश्नर पुलिस/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक स्तर के अधिकारी गणों के साथ-साथ शासनादेश उल्लेखित समस्त अधिकारीगण उपस्थित होकर गम्भीरता से उनकी शिकायतों/समस्याओं को सुनकर उनका निस्तारण कराया जाना सुनिश्चित करें साथ ही अब तक दिये गये दिशा-निर्देशों का कड़ाई से अनुपालन कराया जाना भी सुनिश्चित करें।