कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली-मुख्यमंत्री

84
कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली-मुख्यमंत्री
कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली-मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री और केंद्रीय आवास और शहरी मामलों के मंत्री ने काशी के नमो घाट पर भव्य देव दीपावली का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री के नेतृत्व में 70 देशों के राजदूत, 150 विदेशी डेलीगेट्स और उनके परिजन देव दीपावली के अविस्मरणीय पलों के साक्षी बनें। क्रूज से काशी के गंगा घाटों पर जलायी गयी दीपमालिकाओं का अवलोकन किया। मनुष्य अमावस्या के दिन दीपावली मनाता है, कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली। मुख्यमंत्री ने श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन किया। कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली-मुख्यमंत्री

 काशी/लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा आवास और शहरी मामलों के मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने आज भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी के नमो घाट पर भव्य देव दीपावली का दीप प्रज्ज्वलित कर शुभारम्भ किया। मुख्यमंत्री एवं केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस तथा आवास और शहरी मामलों के मंत्री ने विदेशी मेहमानों के साथ क्रूज से काशी के अर्धचंद्राकार गंगा घाटों पर जलायी गयी दीपमालिकाओं का अवलोकन किया। नमो घाट पर विदेशी मेहमानों ने मुख्यमंत्री जी के साथ फोटो भी खिंचवाई। भारत की आध्यात्मिक राजधानी काशी में अर्धचंद्राकार घाटों पर होने वाले भव्य देव दीपावली आयोजन की पहचान अब प्रदेश के मेले के रूप में है। प्रदेश सरकार ने देवताओं के उत्सव देव दीपावली को राजकीय मेला घोषित कर दिया है। घाटों पर देव दीपावली के आयोजन के लिए सजाने और संवारने का कार्य भव्य तरीके से किया गया। इस बार घाटों पर सजनंे वाली दीपमाला के साक्षी 70 देशों के राजदूतों के साथ ही, 150 विदेशी डेलीगेट्स और उनके परिजन भी बने। इनमें इण्डोनेशिया, इटली, चीन, पोलैंड, रूस, नेपाल, भूटान, ग्रीस समेत अन्य देशों के राजदूत, उच्चायुक्त व शीर्ष अधिकारी शामिल हैं। सभी ने देव दीपावली के अद्भुत एवं अकल्पनीय आयोजन को निहारा। मेहमानों को विवेकानंद क्रूज से देव दीपावली और गंगा पार होने वाली आतिशबाजी का नजारा दिखाया गया।

कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली-मुख्यमंत्री


मुख्यमंत्री जी ने सभी मेहमानों का स्वागत किया। मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में सभी मेहमान देव दीपावली के अविस्मरणीय पलों के साक्षी बनें। मेहमानों ने नमो घाट से क्रूज पर सवार होकर देव दीपावली के भव्य नजारे को कैद किया। भारतीय परम्परा के अनुसार मेहमानों का एयरपोर्ट पर परम्परागत तरीके से टीका लगाकर व अंगवस्त्र भेंटकर स्वागत किया गया। एयरपोर्ट सहित विभिन्न स्थानों पर लोक कलाकारों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किये। नमो घाट पर भी उनका स्वागत सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से किया गया। मेहमानों के स्वागत के लिए रास्तों और चैराहों को सजाया गया है। विदेशी मेहमानों ने लेजर और क्रैकर शो का अवलोकन भी किया। नमो घाट पर मुख्यमंत्री जी, केंद्रीय मंत्री, उत्तर प्रदेश के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री जयवीर सिंह, महापौर अशोक तिवारी, पूर्व मंत्री एवं विधायक डॉ0 नीलकंठ तिवारी, मुख्य सचिव दुर्गा शंकर मिश्र, मण्डलायुक्त कौशल राज शर्मा, जिलाधिकारी एस0 राजलिंगम ने सभी मेहमानों का स्वागत किया।


मुख्यमंत्री जी ने मीडिया प्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि काशी अविनाशी है। यह देवाधिदेव महादेव बाबा विश्वनाथ का धाम है। मनुष्य अमावस्या के दिन दीपावली मनाता है, जबकि कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली है। देव दीपावली काशी की परम्परा का हिस्सा रही है। काशी के लोकप्रिय सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी के कारण देव दीपावली काशी सहित देश व दुनिया का एक आध्यात्मिक कार्यक्रम बन गयी है। प्रधानमंत्री जी 02 वर्ष पूर्व देव दीपावली में सहभागी बने थे। देव दीपावली कार्यक्रम के साक्षी आज दुनिया के 70 देशों के राजनयिक तथा अन्य लोग बन रहे हैं। मुख्यमंत्री जी ने सभी अतिथियों का देव दीपावली के आयोजन में सम्मिलित होने के लिए अभिनन्दन किया। इससे पूर्व, मुख्यमंत्री जी ने श्री काशी विश्वनाथ मंदिर में दर्शन-पूजन किया। मुख्यमंत्री जी सतुआ बाबा मंदिर में आयोजित कार्यक्रम में सम्मिलित हुए। कार्तिक पूर्णिमा की तिथि देवताओं की दीपावली-मुख्यमंत्री