भाजपा सत्ता में जनता के हिस्से में सिर्फ महंगाई आयी अखिलेश यादव

राजेंद्र चौधरी


समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कहा है कि जबसे भाजपा सत्ता में आई है जनता के हिस्से में सिर्फ महंगाई, तबाही आयी है। महंगाई की मार से गरीब-मध्यमवर्ग सबसे ज्यादा परेशान है। घरेलू अर्थव्यवस्था चौपट है लेकिन हैरत है कि सत्ताधारी दल को महंगाई नहीं दिखाई देती है।


भाजपाराज में रसोई से जुड़ा हर सामान महंगा हो गया है। गैस सिलेण्डर, दूध, दही, पनीर, आटा, दाल, सब्जी, तेल सब महंगा हो गया है। आटा, दाल, सब्जी प्रतिदिन एक रूपए मंहगी हो रही है। एक छह वर्षीय बच्ची ने प्रधानमंत्री जी को पत्र लिखकर पेंसिल, रबर और मैगी के दामों में बढ़ोत्तरी की ओर ध्यान दिलाया है। इस पर भी भाजपा नेतृत्व की आंख खुल नहीं रही है।


भाजपा सरकार में महंगाई के डबल अटैक ने जीना दूभर कर दिया हैं।सीएनजी, पेट्रोल, डीजल से भी ज्यादा महंगी हुई है। पीएनजी के भी दाम बढ़ गए है। सीएनजी-पीएनजी के दामों में 20 दिन में ही वृद्धि हुई है। सीएनजी के दाम पिछले 7 महीनों में छह बार बढ़े हैं। पीएनजी के दाम छह बार बढ़े हैं। पेट्रोल के दाम मंगलवार को 96.27 रूपये रहे। इसके विपरीत 1 जनवरी 2022 को सीएनजी के दाम 72 रूपये प्रतिकिलो थे जो 2 अगस्त 2022 को 98 रूपए हो गए हैं। पीएनजी के दाम 1 जनवरी को 37.50 प्रति एससीएम थे जो 2 अगस्त 2022 को बढ़कर 56 रूपये प्रति एससीएम हो गए हैं।


कैसी विडम्बना है कि जो भाजपा महंगाई रोकने के वादे के साथ सत्ता में आई वह महंगाई नियंत्रण में पूरी तरह विफल साबित हुई है। भाजपा सरकार में केवल मौत सस्ती है, रोटी, कपड़ा, मकान, दवाई, पढ़ाई बाकी सब महंगा है।
भाजपा की डबल इंजन सरकार लोगों के मुंह का निवाला छीनने पर आमादा है। भाजपा सरकार के ही आंकड़ो के अनुसार लगभग 80 करोड़ लोग दो वक्त की रोटी का जुगाड़ नहीं कर पा रहे, यह भाजपा सरकार की सफलता नहीं विफलता है। जनता भाजपाई हरकतों से त्राहि-त्राहि कर रही है।


भाजपा जनता के पैसों से सरकारों की खरीद फरोख्त करने में ही लगी है। इस तरह भाजपा अपने भ्रष्टाचार का बोझ जनता पर डाल रही है। भाजपा की सारी कोशिशें आंकड़ों के मायाजाल से जनसमुदाय को भ्रमित करने की है, लेकिन अब भाजपा की कोई चाल सफल नहीं होने वाली है क्योंकि लोग भाजपा की हकीकत से पूरी तरह परिचित हो गये है।