पारदर्शी तरीके से शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को पूरा किया-मुख्यमंत्री

106

मुख्यमंत्री ने जनपद गोरखपुर में निपुण भारत मॉनीटरिंग सेण्टर का उद्घाटन किया ।प्रदेश में शिक्षा की आधारभूत इकाई बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा तकनीक का बेहतर उपयोग करते हुए जी0आई0एस0 आधारित विद्यालयवार परफॉर्मेंस किट मैप, लर्निंग कम आउट मैप बेस्ड निपुण भारत योजना का शुभारम्भ किया गया। विगत साढ़े चार वर्षों में बेसिक शिक्षा परिषद ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और तकनीक अपनाकर पारदर्शी तरीकेसे शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को पूरा किया। दुनिया में उत्तर प्रदेश सम्भवतः पहला ऐसा राज्य, जिसमें बेसिक शिक्षा परिषद में छात्रों की संख्या में अभूतपूर्व वृृद्धि हुई।ऑपरेशन कायाकल्प के अन्तर्गत बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालय उत्कृष्ट हुए और नई प्रेरणा प्रदान कर रहे।निपुण भारत योजना शिक्षा की मूलभूत इकाई पर कार्य करेगी, ड्रॉपआउट समस्या का समाधान करने तथा नई शिक्षा नीतिको प्रभावी रूप से लागू करने में सहायक होगी।निपुण भारत योजना के माध्यम से प्रदेश के विद्यालयों को जोड़कर विद्यालयों में अमूलचूल परिवर्तन करने में मदद मिलेगी।


गोरखपुर। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनपद गोरखपुर में निपुण भारत मॉनीटरिंग सेण्टर का उद्घाटन किया। योगी ने कहा कि प्रदेश में शिक्षा की आधारभूत इकाई बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा तकनीक का बेहतर उपयोग करते हुए जी0आई0एस0 आधारित विद्यालयवार परफॉर्मेंस किट मैप, लर्निंग कम आउट मैप बेस्ड निपुण भारत योजना का शुभारम्भ किया गया है। उन्होंने कहा कि यह अत्यन्त महत्वपूर्ण इसलिए है कि वर्ष 2017 में जब वर्तमान सरकार ने अपना दायित्व सम्भाला था, तो उस समय बेसिक शिक्षा परिषद के तहत एक करोड़ 30 लाख बच्चें रजिस्टर्ड थे और उस समय विद्यालयों की स्थिति दयनीय थी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि विगत साढ़े चार वर्षों में बेसिक शिक्षा परिषद ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और तकनीक अपनाकर पारदर्शी तरीके से शिक्षकों की भर्ती प्रक्रिया को पूरा किया है। छात्रों व शिक्षकों का अनुपात बेहतर किया है। दुनिया में उत्तर प्रदेश सम्भवतः पहला ऐसा राज्य है, जिसमें बेसिक शिक्षा परिषद में छात्रों की संख्या में अभूतपूर्व वृृद्धि हुई है। लगभग 50 लाख बच्चे नये बढ़े हैं। ‘ऑपरेशन कायाकल्प’ के अन्तर्गत बेसिक शिक्षा परिषद के विद्यालय उत्कृष्ट हुए हैं और नई प्रेरणा प्रदान कर रहे हैं। विद्यालयों में स्मार्ट क्लास, फर्नीचर, टॉयलेट, पेयजल आदि की व्यवस्था हुई है।

कोरोना काल के दौरान बहुत सारी चुनौतियों का सामना करना पड़ा, जिसमें लॉकडाउन के समय में भारी संख्या में प्रवासी कामगार एवं श्रमिक अपने घरों को वापस आए थे। राजस्व विभाग को निर्देश दिए गए थे कि समस्याओं का समाधान करते हुए लॉकडाउन को प्रभावी बनाया जाए। लोगों के लिए कम्युनिटी किचन की व्यवस्था की गई थी। तकनीक की सहायता से पूरे प्रदेश की कम्युनिटी किचन की निगरानी की गई।मुख्यमंत्री ने कहा कि निपुण भारत योजना, शिक्षा की मूलभूत इकाई पर कार्य करेगी। ड्रॉपआउट समस्या का समाधान करने तथा नई शिक्षा नीति को प्रभावी रूप से लागू करने में सहायक होगी। उन्होंने कहा कि निपुण भारत योजना के माध्यम से प्रदेश के विद्यालयों को जोड़कर विद्यालयों में अमूलचूल परिवर्तन करने में मदद मिलेगी।इस अवसर पर जनप्रतिनिधिगण सहित शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।