विद्या उज्जवल भविष्य का द्योतक-ऊर्जा मंत्री

45
विद्या उज्जवल भविष्य का द्योतक-ऊर्जा मंत्री
विद्या उज्जवल भविष्य का द्योतक-ऊर्जा मंत्री

देश के स्वर्णिम काल में विद्यार्थी जीवन का लें भरपूर लाभ। विद्या उज्जवल भविष्य का द्योतक। एक दिवसीय दौरे पर मऊ पहुंचे मंत्री एके शर्मा। जब वह विद्यार्थी जीवन में थे, उस समय विद्युत की व्यवस्था नहीं होने के कारण उन्हें ढ़िबरी में पढ़ाई करनी पड़ीं। विद्या उज्जवल भविष्य का द्योतक-ऊर्जा मंत्री

मऊ। एक दिवसीय दौरे पर मऊ पहुंचे प्रदेश सरकार के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री ए.के. शर्मा ने डुमरॉव स्थित पंडित श्याम नारायण पाण्डेय जी की मूर्ति पर माल्यार्पण किया। उन्होंने सुल्तानपुर डुमरॉव स्थित सरस्वती इण्टर कॉलेज के वार्षिकोत्सव समारोह में मुख्य अथिति के रूप में प्रतिभाग करने के पश्चात भाजपा जिला उपाध्यक्ष संतोष सिंह जी के आवास पर आयोजित तेरहवीं कार्यक्रम में पहुंचकर श्रद्धासुमन अर्पित किया। कालेज के वार्षिकोत्सव कार्यक्रम में मंत्री श्री शर्मा ने प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को प्रशस्ति पत्र व मैडल देकर सम्मानित करते उनका हौसला बढ़ाया। मंत्री श्री शर्मा ने विद्यालय प्रशासन द्वारा अपनी कक्षाओं में प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले छात्रों की फीस माफ़ी करने की पहल को शिक्षा के क्षेत्र में सराहनीय कदम बताते हुए सभी को शुभकामनायें दी। उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि आप देश के स्वर्णिम काल में अपना विद्यार्थी जीवन व्यतीत कर रहे हैं। इसका लाभ उठाते हुए मोदी जी के विकसित भारत की परिकल्पना को साकार करने का कर्णधार आपको बनना है।

मंत्री श्री शर्मा ने कहा कि जब वे कक्षा 6 वीं में थे और प्रथम स्थान पर आये तो मेरी फीस माफ हुई थी, उस समय उनके माता-पिता की ख़ुशी देखते ही बनी थी। आज इस विद्यालय प्रशासन द्वारा होनहार विद्यार्थियों की फीस माफ़ी की पहल बहुत ही सराहनीय कार्य है। उन्होंने छात्रों को जीवन में शिक्षा का महत्व बताते हुए कहा कि आज वो अगर इस विद्यालय के वार्षिक उत्सव में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हैं तो यह सिर्फ शिक्षा का ही प्रताप है। अभिभावकों को सम्बोधित करते हुए मंत्री जी ने कहा कि आपको अपना पूरा श्रम अपने बच्चों को अच्छी और उच्च शिक्षा देने में लगाना होगा, क्योंकि आज के यह बच्चे देश का भविष्य हैं और साथ ही इन्हें शिक्षा का मूल्य भी समझाना बहुत जरूरी है। मंत्री श्री शर्मा ने विद्यार्थियों को विवादों से स्वयं को दूर रखने के लिए प्रेरित करते हुए कहा – विद्या विवादाय धनं मदाय… अर्थात बुरे लोगों के लिए विद्या दूसरों के साथ विवाद करने के लिए होती है। अच्छे लोगों के लिए विद्या तत्व को जानने के लिए होती है। विद्या उज्जवल भविष्य का द्योतक होती है। उन्होंने कहा कि इस विद्यालय से पढ़े विद्यार्थी अच्छे पदों पर कार्य कर रहे हैं और जो वर्तमान में इस विद्यालय में पढ़ रहे है, मैं उन सभी के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए शुभकामनायें देता हूं।

मंत्री श्री शर्मा ने विद्यार्थियों को कहा कि महाराणा प्रताप, रानी लक्ष्मी बाई या अंग्रेजों की लड़ाई सिर्फ किताबों में पढ़ाई जा रही है। लेकिन इस संघर्ष को हमारे बीच बैठे वरिष्ठजनों ने सामने से देखा होगा। उन्होंने कहा कि जब वह विद्यार्थी जीवन में थे, उस समय विद्युत की व्यवस्था नहीं होने के कारण उन्हें ढ़िबरी में पढ़ाई करनी पड़ीं। मगर आज विद्यार्थीओं को 24 घंटे बिजली पढ़ाई करने के लिए मिल रही है। मंत्री श्री शर्मा ने विषयों के मध्यम से मौजूद अभिभावकों और अन्य लोगों को देश और प्रदेश में हो रहे विकास के बारे में भी समझाया। भूगोल के विषय में बात करते हुए कहा कि जब वह नगर विकास मंत्री बने, तब जगह-जगह गन्दगी का अंबार देखकर परेशान होते थे। जिसके पूर्ण समाधान के लिए व्यवस्था में कई व्यापक सुधार उनके द्वारा किये गए, जिससे प्रदेश ने स्वच्छता की रैकिंग में भी उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। उन्होंने एक मुस्लिम व्यक्ति द्वारा मीडिया में दिए बयान के बारे में बताते हुए कहा कि उसके मकान के घर के बगल में एक कूड़े का ढेर हुआ करता था, जो सही मायने में उनके घर का पता बन चुका था। लेकिन प्रदेश को स्वच्छ बनाने के लिए चलाये गए विशेष स्वच्छता अभियान के बाद उनके घर के पास लगा कूड़े का ढेर हट गया, जिससे उनके घर का पता ही बदल गया और यह सब उनके शासनकाल में ही संभव हुआ। उन्होंने कहा कि प्रदेश और देश की सरकार विकास की राह पर निरंतर कार्य कर रही हैं। फिजिक्स की बात करते हर कहा कि विगत वर्षों बिजली नहीं आती थी या उसमें बहुत उतार चढ़ाव होता है। विद्यार्थी जानते हैं कि उसमें अर्थिंग की व्यवस्था करने से अस्थिरता को कंट्रोल किया जा सकता है।

75 साल तक किसी भी ट्रांसफार्मर में अर्थिंग रॉड कागजो में ही लगा दिए जाते थे। लेकिन पिछले दो वर्षो में लगभग सभी ट्रांसफार्मर पर अर्थिंग रॉड की व्यवस्था कर दी गयी है, जिससे फूँकने के साथ ही अस्थिरता की समस्या से मुक्ति मिल गई है। केमिस्ट्री वाले विद्यार्थियों के लिए कहा कि गांव में जब चूल्हा जलता था, तो घरों के ऊपर से धुआं बहुत निकलता था। तो खाना बनाने वाली महिला के फेफड़ों में कितना धुआं जाता होगा ये खुद सोच सकते हैं। मोदी जी के नेतृत्व में महिलाओं को मुफ्त गैस सिलेंडर देने का कार्य किया गया है जिससे उनको स्वास्थ्य की समस्या से मुक्ति मिली है। उन्होंने कहा कि आप स्वर्णिम काल में जन्मे बच्चे हैं। सारी सुविधाएँ आपके पास है, बस आपको करना यह है कि पढ़ाई करते हुए अपने भविष्य को उज्जवल बनाइये।

जूलॉजी की बात करें कि पहले लाखों टन अनाज सड़ जाता था। या उसके प्रयोग में लाने से बहुत सी बीमारियां पैदा होती थी और कुपोषण की समस्या बच्चों में आती थी। उन सभी से मुक्ति दिलाने के साथ ही अनाज के सड़ने से बचाने के लिए मोदी जी ने मुफ्त राशन वितरण कर इन सभी समस्याओं को दूर करने के साथ ही करोड़ों देशवासियों के जीवन को भी सुदृढ़ बनाने का काम किया है।

उन्होंने कहा कि आप विकसित भारत के संकल्प के सारथी बनते हुए इस देश की सेवा करेंगे। आप स्वर्णिम काल में विद्यार्थी जीवन व्यतीत कर रहे हैं। आपके शिक्षा-दीक्षा को उच्च श्रेणी का बनाने के लिए देश और प्रदेश की भाजपा सरकार निरंतर कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आपको 24 घंटे विद्युत अपूर्ती दी जा रही है, जिससे आपको पढ़ने में किसी समस्या का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि मोदी जी देश के युवाओं को बेहतर भविष्य देने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। देश में उद्योग और व्यापार को बढ़ावा देते हुए युवाओं को विदेशों के अनुरूप वेतन और सुविधायें दिलाने का काम कर रहे हैं। मोदी जी देश की उन्नति और विकास का जो बीज लगा रहे हैं, वो सिर्फ 10-20 साल के लिए या उनके प्रधानमंत्री रहने के समय तक नहीं है, बल्कि सकड़ों साल और पीढ़ियों के साथ ही देश कि संमृद्धि के लिए है। इसलिए उनके हाथों को मजबूत करना हम सब के लिए और हमारे बच्चों के भविष्य के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। कार्यक्रम के दौरान विद्यालय के छात्रों ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के माध्यम से अभिभावकों का मन मोह लिया। इस दौरान हजारों की संख्या में क्षेत्रीय लोग और कार्यकर्ताओं ने उपस्थित होकर विद्यार्थियों की जमकर सराहना की और आशीर्वाद भी दिया। विद्या उज्जवल भविष्य का द्योतक-ऊर्जा मंत्री