जल जीवन मिशन के कार्यों को समय से पूर्ण करें

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जल जीवन मिशन के अन्तर्गत लम्बित कार्यों को समयबद्ध ढंग से पूर्ण करने के निर्देश देते हुए कहा कि जल जीवन मिशन के अन्तर्गत संचालित कार्यों का नियमित अनुश्रवण सुनिश्चित किया जाए। यह भी सुनिश्चित किया जाए कि संचालित कार्य निर्धारित समय सारिणी एवं मानकों के अनुरूप पूर्णता की ओर बढ़ें। निर्धारित समय-सीमा में कार्य पूरा होने पर लागत में कमी आती है और जनता को समय से विकास योजनाओं का लाभ मिलता है। उन्होंने कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में अनेक महत्वपूर्ण परियोजनाएं संचालित हो रही हैं। इनका नियमित अनुश्रवण मुख्य विकास अधिकारी एवं ए0डी0एम0 नमामि गंगे द्वारा किया जाना चाहिए।आयुक्त सभागार झांसी में झांसी मण्डल के विकास कार्यों एवं कानून व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हर स्तर के अधिकारी नियमित रूप से प्रातः 10 से 11 बजे के बीच अपने कार्यालय में उपस्थित रहकर जनसमस्याओं एवं शिकायतों की सुनवाई करें। सभी जनप्रतिनिधियों के साथ नियमित संवाद बनाकर रखा जाए तथा उन्हें महत्वपूर्ण परियोजनाओं के सम्बन्ध में जानकारी भी प्रदान की जाए। उन्होंने निर्देशित किया कि सभी अधिकारी और कर्मचारी अपनी तैनाती स्थल पर प्रवास करें। तहसील, ब्लॉक एवं पंचायत स्तर पर तैनात कर्मी वहीं रहना सुनिश्चित करें।


मुख्यमंत्री ने कहा कि बुन्देलखण्ड क्षेत्र में रोजगार के अधिक अवसर सृजित करने के लिए औद्योगिक गतिविधियों को बढ़ावा दिया जाए। उद्योग बन्धु की बैठक से जनप्रतिनिधियों तथा बैंकर्स को भी जोड़ा जाए। जनप्रतिनिधियों, व्यापारियों, उद्योग जगत एवं बैंकों के साथ महीने में एक बार संवाद स्थापित किया जाए। ‘ऑपरेशन कायाकल्प’ के अन्तर्गत परिषदीय विद्यालयों में जनसहभागिता के माध्यम से बुनियादी सुविधाएं सुनिश्चित की जाएं। यह सुनिश्चित किया जाए कि शासन द्वारा अभिभावकों के खाते में अन्तरित धनराशि का सदुपयोग छात्र-छात्राओं को यूनिफॉर्म, बैग, जूता-मोजा आदि उपलब्ध कराने में हो। सम्पूर्ण बुन्देलखण्ड क्षेत्र में गौ आधारित प्राकृतिक खेती को प्रोत्साहित करने का प्रयास किया जाए। मार्केटिंग और ब्राण्डिंग के माध्यम से किसानों को गौ आधारित प्राकृतिक खेती को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया जाए। ऐरच बांध के सम्बन्ध में जांच परिणामों के आधार पर कार्यवाही की जाए। मुख्यमंत्री आरोग्य मेले का नियमित आयोजन सुनिश्चित किया जाए। जनपद ललितपुर में फार्मा पार्क के विकास की कार्यवाही को तेजी से आगे बढ़ाया जाए।


मुख्यमंत्री ने कहा कि पशुपालन विभाग द्वारा गोवंश के नस्ल सुधार के सम्बन्ध में बुन्देलखण्ड क्षेत्र में विशेष अभियान संचालित किया जाए। बुन्देलखण्ड क्षेत्र में अधिक से अधिक गोबर गैस प्लाण्ट की स्थापना के लिए गोबरधन योजना लागू की जाए। बड़ी गोशालाओं की स्थापना के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि जो गोवंश बाहर हैं, उन्हें गोशालाओं में संरक्षित किया जाए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि धार्मिक आयोजन धार्मिक स्थलों के परिसर के अन्दर ही सीमित होने चाहिए। किसी भी पर्व-त्योहार का आयोजन सड़क पर नहीं होना चाहिए। इन आयोजनों से सामान्य नागरिकों के आवागमन में कोई असुविधा नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अब तक 01 लाख से अधिक लाउडस्पीकर उतारे गए हैं। यह सुनिश्चित किया जाए कि उतारे गए लाउडस्पीकर दोबारा न लगने पाएं। बुन्देलखण्ड क्षेत्र के परम्परागत साहित्य, इतिहास, कला, संस्कृति एवं अन्य धरोहरों के संरक्षण के लिए मण्डल प्रशासन द्वारा किए जा रहे प्रयासों की पुस्तिका का विमोचन किया।


मण्डलायुक्त द्वारा मुख्यमंत्री को मण्डल के तीनों जनपदों-झांसी, जालौन एवं ललितपुर में संचालित विभिन्न विकास कार्यों के सम्बन्ध में अवगत कराया गया। जनपद झांसी में पैरामेडिकल ट्रेनिंग कॉलेज, डिफेंस कॉरिडोर परियोजना, रानी लक्ष्मीबाई मेडिकल कॉलेज झांसी में 500 बेड का विस्तारीकरण, उत्तर मध्य रेलवे के झांसी-कानपुर रेलखण्ड झांसी ग्वालियर मार्ग पर चार लेन रेल उपरिगामी सेतु निर्माण कार्य एवं स्मार्ट सिटी के कार्यों की जानकारी दी गई। जनपद ललितपुर में एयरपोर्ट, राजकीय मेडिकल कॉलेज, मेडिकल हर्बल पार्क एवं जनपद ललितपुर में रॉक फास्फेट खनिज, लौह अयस्क, स्वर्ण धातु एवं प्लेटिनम समूह की उपलब्धता के सम्बन्ध में जानकारी दी गई। उन्होंने जनपद झांसी, ललितपुर और जालौन में किए जा रहे अभिनव प्रयोग के सम्बन्ध में भी मुख्यमंत्री को अवगत कराया।मण्डलायुक्त ने मुख्यमंत्री को मंत्री समूह द्वारा झांसी मण्डल के जनपदों के निरीक्षण कार्यक्रम की भी विस्तृत जानकारी दी।इस अवसर पर विधान परिषद के सभापति कुँवर मानवेन्द्र सिंह, जलशक्ति मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह, श्रम राज्यमंत्री मनोहर लाल मन्नू कोरी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।