शिक्षा विभाग कर्मचारियों की लापरवाही

94
शिक्षा विभाग कर्मचारियों की लापरवाही
शिक्षा विभाग कर्मचारियों की लापरवाही

शिक्षा विभाग के जिम्मेदार कर्मचारियों की लापरवाही (लिपिकीय त्रुटि) के कारण यूपी टाप 10 की सूची में 6वें एवं जिले की टापटेन की सूची में दूसरे स्थान पर पहुंचने से वंचित रह गया इंटरमीडिएट का होनहार छात्र राज नरायन यादव। शिक्षा विभाग कर्मचारियों की लापरवाही

अजय सिंह

अयोध्या/बीकापुर। विभागीय जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण हिंदी में मिले महज 35 अंक। परीक्षा परिणाम में त्रुटि की आशंका होने पर परिजनों ने करायी सन्निरीक्षा । सन्निरीक्षा के पश्चात अपडेट हुए परिणाम में छात्र को हिंदी में मिले 35 के स्थान पर 95 अंक । 35के स्थान पर 95 अंक मिलने के बाद छात्र का कुल प्राप्तांक हुआ 482 । परिजनों का कहना है कि यदि जिम्मेदारों से लिपिकीय गलती ना हुई होती तो उनका होनहार बेटा सामान्य परीक्षा परिणाम में 482 अंक पाकर प्रदेश की टाप टेन की सूची में 6 वां एवं जिले की टाप टेन की सूची में दूसरा स्थान हासिल कर रोशन करता अपना अपने माता पिता परिवार गांव विद्यालय तहसील जिले का प्रदेश स्तर तक नाम।

मेधावी छात्र राज नारायण यादव एवं उनके परिजनों ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, सचिव माध्यमिक शिक्षा परिषद व शिक्षा मंत्री, जिला विद्यालय निरीक्षक अयोध्या को पत्र देकर प्राप्तांक के अनुसार जिले की मेघावी सूची में दूसरा तथा राज्य की मेधावी सूची में छठा स्थान दिलाते हुऐ यथोचित सम्मान दिलाने की उठाई है मांग। शिक्षा विभाग कर्मचारियों की लापरवाही