वहा रे लोकतंत्र 900 वोट में पड़े 6 वोट-अखिलेश

राजेंद्र चौधरी

सपा सुप्रीमों अखिलेश यादव ने कहा है कि आजमगढ़ और रामपुर संसदीय उपचुनाव में भाजपा सरकार ने सत्ता का खुलकर दुरुपयोग किया और छलबल से जनमत को प्रभावित करने का षडयंत्र किया है। भाजपा की सत्ता लोलुपता ने प्रदेश में सभी लोकतांत्रिक मान्यताओं को ध्वस्त कर दिया है।आजमगढ़ और रामपुर दोनों क्षेत्रों में समाजवादी पार्टी मजबूती से चुनाव लड़ी है। जनता का रुझान समाजवादी पार्टी की ओर रहा है। भाजपा ने अपने पक्ष में जबरन मतदान के लिए सभी अलोकतांत्रिक एवं निम्नस्तर के हथकंडे अपनाए। मतदाताओं को वोट डालने से रोका गया। उन्हें डराया धमकाया गया। पुलिस ने तमाम कार्यकर्ताओं को थानों में जबरन अवैध तरीके से बिठा लिया। पोलिंग एजेंटों को मतदान केन्द्रों से बाहर कर दिया गया।

रामपुर में जहां मुस्लिम क्षेत्र में 900 वोट थे वहां 6 वोट पड़े और जहां 500 वोट थे वहां कुल 01 वोट पड़ा। यह लोकतंत्र और निष्पक्ष चुनाव का मजाक नहीं तो क्या है? भाजपा की ये जीत बेईमानी, छल, सत्ताबल, लोकतंत्र और संविधान की अवहेलना, जोर जबर्दस्ती, प्रशासनिक सरकारी मशीनरी की दमनकारी तथा चुनाव आयोग की धृतराष्ट्र दृष्टि तथा भाजपाई कौरवी सेना की जनमत अपहरण का नतीजा है। इसे आप चुनाव कैसे कह सकते हैं? लोकतंत्र लहूलुहान है और यह जनता का उपहास है।


ऐसे में लोकसभा उपचुनाव की जीत का जश्न मनाना जनता का उपहास करना है। मुख्यमंत्री जी जिस जीत का दावा करते है उस तथाकथित जीत से जनता हतप्रभ है। सच तो यह है कि सन् 2024 में जनता भाजपा के इस अहंकार को तोड़कर रख देगी।भाजपा ने अपने शासनकाल में गरीबों को तबाह किया है, नौजवानों के भविष्य को अंधकार में धकेला है। किसानों के साथ धोखा किया है। डबल इंजन सरकार में विगत पांच वर्षों से विकास अवरुद्ध है। भाजपा-आरएसएस के गठबंधन के नतीजे की सच्चाई को जनता बखूबी जान गई है और वह इसका भाजपा को करारा सबक सिखाएगी।