सामाजिक न्याय के लिए एकजुट हो पीडीए

33
लौटनराम निषाद
सामाजिक न्याय के लिए एकजुट हो पीडीए

सामाजिक न्याय सम्मेलन में संविधान की प्रस्तावना के नाम लिया गया संकल्प। लोकतंत्र,संविधान व सामाजिक न्याय को बचाने के लिए एकजुट हो पीडीए-लौटन राम निषाद सामाजिक न्याय के लिए एकजुट हो पीडीए

अजय सिंह

शाहजहांपुर। समाजवादी पार्टी की ओर से ददरौल विधानसभा क्षेत्रांतर्गत महानपुर में अरविंद कश्यप की अध्यक्षता में आयोजित पीडीए जनचौपाल को समाजवादी पार्टी पिछड़ावर्ग प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष चौ.लौटनराम निषाद ने बतौर मुख्य अतिथि सम्बोधित करते हुए कहा कि भाजपा सरकार आरएसएस के इशारे पर संविधान, लोकतंत्र, सामाजिक न्याय को खत्म करने के षड्यन्त्र में जुटी हुई है।उन्होंने बाबासाहेब अंबेडकर के संविधान, लोकतंत्र व आरक्षण को बचाने के लिए बहुजन वर्ग से सपा के साथ एकजुट होने का आह्वान किया। पीडीए जनचौपाल को संबोधित करते हुए चौ.लौटनराम निषाद ने कहा कि समाजवादी पार्टी पिछड़ों, वंचितों, दलितों, किसानों, मजदूरों के अधिकार और सम्मान की लड़ाई मजबूती से लड़ रही है।सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव जी ने नारा दिया है कि जिसकी जितनी आबादी है उसकी उतनी भागीदारी हो,यही सामाजिक न्याय की मूलभावना है।पिछड़ों वंचितों, दलितों, आदिवासीयों को हर स्तर पर जनसंख्यानुपात में प्रतिनिधित्व हो,तभी समाज सशक्त हो सकता है।उन्होंने कहा कि पिछड़ों के वोट से बनी भाजपा की सरकारें पिछड़ों, वंचितों का हिस्सा हड़प रहीं हैं। वर्तमान में भाजपा सरकार सामंतवाद का परिचय दे रही है।वर्तमान में भाजपा सरकार सरकारी संस्थानों, उपक्रमों को अपने पूंजीपति मित्रों के हाथों नीलाम कर निजीकरण, आउटसोर्सिंग, संविदा के द्वारा ओबीसी,एससी,एसटी का आरक्षण खत्म कर रही है।उन्होंने कहा कि भाजपा हिन्दू-मुसलमान, भारत- पाकिस्तान कर व राम मंदिर का हो-हल्ला कर जनता को गुमराह कर रही है।


उन्होंने कहा कि जब सरकार एससी, एसटी, धार्मिक अल्पसंख्यक (मुस्लिम,सिक्ख, ईसाई,बौद्ध,जैन,पारसी,रेसलर) और किन्नरों की जनगणना कराती है, जानवरों एवं पेड़ों की गिनती कराती है तो पिछड़ों वंचितों की क्यों नहीं? उन्होंने कहा कि अपने को पिछड़ी जाति व नीच जाति का बताने वाले पीएम मोदी पिछड़ों की जनगणना क्यों नहीं करा रहे,ओबीसी पीएम की सरकार में पिछड़ों की हकमारी क्यों हो रही है? निषाद ने पीडीए चौपाल को सम्बोधित करते हुए कहा कि भाजपा वोट के लिए निषाद, कुर्मी,कुशवाहा,भुर्जी,विश्वकर्मा, प्रजापति, किसान, राजभर,चौहान,लोधी,कोरी,पासी, वनवासी,नाई, बारी,बिन्द,केवट, मल्लाह,जाटव, दुसाध,खटीक,बंसफोर,बंजारा,मौर्य,साहू,धीवर,कश्यप आदि को हिन्दू कहती है, वही सरकार बनने पर इन्हीं पिछड़ी जातियों का आरक्षण खुलेआम लूटकर इनका प्रतिनिधित्व खत्म किया जा रहा है।उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार आरएसएस के इशारे पर लोकतंत्र, संविधान, आरक्षण को खत्म करने में जुटी हुई है, बंच ऑफ थाट्स व मनुस्मृति की नीतियों को लागू कर वर्णव्यवस्था का राजतंत्र स्थापित करने में जुटी है। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव 2024 में पीडीए ही एनडीए को हरायेगा।


हर्षराम यादव ने कहा कि भाजपा बांटों और राज करो की नीति पर चलती है और जाति से जाति को लड़ाकर पिछड़ों, दलितों की ताकत को कमजोर करने का काम करती है।उन्होंने कहा कि मण्डल कमीशन की विरोधी भाजपा और आरएसएस कभी पिछड़ों की भलाई नहीं कर सकती। अरविंद कश्यप ने जातीय अभिमान को त्याग कर वर्गीय एकता और स्वाभिमान को मजबूत करने का आह्वान किया।उन्होंने कहा कि सपा सरकार ने मुफ्त पढ़ाई-मुफ्त दवाई-मुफ्त सिंचाई, लैपटॉप, कन्या विद्याधन,शुल्क प्रति पूर्ति,छात्र वृत्ति,102 व 108 एम्बुलेंस, यूपी-100 व 1090 की सुबिधा के साथ बेरोजगारी भत्ता,समाजवादी पेंशन,विवाह- अनुदान,किसान व मछुआ बीमा योजना,चिकित्सीय अनुदान आदि जनकल्याणकारी योजनाओं का संचालन किया।सम्मेलन को अवनीश कश्यप, आर्येन्द्र यादव, मुकेश वर्मा, सुभाषचंद्र भुर्जी,रमेशचंद्र लोधी,आर डी कश्यप, पुष्पेन्द्र वर्मा,डीडी कश्यप, संजय राठौर,वीरेन्द्र भोजवाल, शैलेश यादव, ओमवीर धीवर,अभिनव कुमार कश्यप कन्हैयालाल कश्यप, जगदीश्वर वर्मा,कुलदीप यादव,राजकुमार गुप्ता,रामप्रसाद सबिता,इन्द्रपाल कश्यप आदि ने सम्बोधित किया। सामाजिक न्याय के लिए एकजुट हो पीडीए