समाजसेवी ने खोला बेसिक शिक्षा विभाग के भ्रष्टाचार का पिटारा

90
आज के प्रमुख समाचार
आज के प्रमुख समाचार

समाजसेवी ने खोला बेसिक शिक्षा विभाग के भ्रष्टाचार का पिटारा। शासनादेश को धता बता महिला शिक्षक को राजकीय संप्रेषण गृह से कर दिया संबद्ध। कई शिक्षकों के विद्यालय न आने का किया खुलासा। बीएसए एवं खंड शिक्षा अधिकारियों के खिलाफ समाजसेवी ने खोल दिया मोर्चा। समाजसेवी ने खोला बेसिक शिक्षा विभाग के भ्रष्टाचार का पिटारा

पंकज यादव

अयोध्या। मिल्कीपुर के समाजसेवी की पहल के बाद अब बेसिक शिक्षा विभाग में व्याप्त भ्रष्टाचार के जिन्न के बाहर आने का सिलसिला शुरू हो गया है। अमानीगंज शिक्षा क्षेत्र में एक बड़ा चौंकाने वाला मामला समाजसेवी महेंद्र प्रताप सिंह ने उठाते हुए बेसिक शिक्षा विभाग के बहुत बड़े भ्रष्टाचार का खुलासा कर दिया है। उन्होंने खंड शिक्षा अधिकारी अमानीगंज राजेश कुमार और जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी संतोष कुमार राय की करतूतों का भंडाफोड़ करते हुए मामले की शिकायत प्रदेश के मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट ऑनलाइन शिकायत प्रणाली जनसुनवाई पोर्टल पर करते हुए कार्रवाई की गुहार की है। समाजसेवी ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि अमानीगंज शिक्षा क्षेत्र स्थित प्राथमिक विद्यालय रानिकपुर में तैनात शिक्षिका रेनू पांडे विगत 3 वर्षों से विद्यालय कभी भी नहीं आ रही हैं। उन्हें शासनादेश के विरुद्ध अनियमित तरीके से जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी द्वारा प्राथमिक विद्यालय जाफर नगर से संबद्ध किया गया था, किंतु अब उन्हें बीएसए द्बारा राजकीय संप्रेषण गृह किशोर जनपद अयोध्या से संबद्ध कर दिया गया है।

इसके अलावा ग्राम पंचायत मोहम्मदपुर स्थित प्राथमिक विद्यालय पूरे रामदीन में तैनात सहायक अध्यापिका नीतू के विद्यालय न आने की शिकायत की है। इसके अलावा कंपोजिट विद्यालय धमथुआ में तैनात प्रधानाध्यापक की बहू, अनुचर के रूप में तैनात हैं। उक्त महिला अनुचर कभी भी विद्यालय नहीं जाती और उसका हस्ताक्षर प्रधानाध्यापक द्वारा उपस्थिति पंजिका घर ले जाकर कराया जाता है। इसके अलावा प्राथमिक विद्यालय टिकटी में तैनात शिक्षक आनंद कभी भी विद्यालय नहीं जाता। उक्त के अलावा शिक्षा क्षेत्र में अन्य कई ऐसे विद्यालय हैं जहां पर तैनात शिक्षक विद्यालय से नदारत रहते हैं और विद्यालय न जाने के नाम पर खंड शिक्षा अधिकारी राजेश कुमार को मासिक सुविधा शुल्क देते रहते हैं। उन्होंने आरोप लगाया है कि बीएसए संतोष कुमार राय के संरक्षण में बीईओ अमानीगंज राजेश कुमार द्वारा लापरवाही करने वाले शिक्षकों से अवैध वसूली करते हुए बंदर बांट किया जा रहा है।

बीएसए संतोष कुमार राय द्वारा परिषदीय शिक्षा को पूरी तरह से मजाक बनाकर रख दिया गया है और खूब जमकर भ्रष्टाचार किया जा रहा है। मिल्कीपुर ब्लाक क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत सिधौना निवासी समाजसेवी महेंद्र प्रताप सिंह ने मांग की है कि प्रकरण की जांच बेसिक शिक्षा विभाग से अलग किसी अन्य विभाग के उच्चाधिकारी से स्थलीय सत्यापन कराते हुए कराई जाए, ताकि बेलगाम बीएसए तथा बीईओ के भ्रष्टाचार पर अंकुश लग सके। शिकायतकर्ता समाजसेवी का कहना है कि विद्यालय संचालन अवधि में दर्जनों शिक्षक अपना विद्यालय छोड़कर अमानीगंज बाजार स्थित खंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय पर जमे रहते हैं तथा बीईओ राजेश कुमार के साथ मिलकर दलाली में संलिप्त रहते हैं। समाजसेवी ने खोला बेसिक शिक्षा विभाग के भ्रष्टाचार का पिटारा