बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात

105
बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात
बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात

प्रधानमंत्री ने बुलन्दशहर में 20,700 करोड़ रु0 से अधिक की 46 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया, कार्यक्रम में उ0प्र0 की राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री भी सम्मिलित हुए। प्रधानमंत्री ने डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर पर न्यू खुर्जा एवं न्यू रेवाड़ी स्टेशनों से मालगाड़ियों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। वर्ष 2017 में डबल इंजन की सरकार बनने के बाद से, उ0प्र0 ने पुरानी चुनौतियों से निपटने के साथ ही, आर्थिक विकास को नई गति दी, सरकार के प्रयासों से पश्चिमी उ0प्र0 रोजगार देने वाले प्रमुख केन्द्रों में से एक बन रहा। विकसित भारत का निर्माण उ0प्र0 के तेज विकास के बिना सम्भव नहीं, आज का यह आयोजन इसी दिशा में बड़ा कदम। उ0प्र0 के हर हिस्से को आधुनिक एक्सप्रेस-वे से कनेक्ट किया जा रहा, भारत का पहला नमो भारत ट्रेन प्रोजेक्ट, पश्चिमी उ0प्र0 में शुरू हुआ। केंद्र सरकार द्वारा देश में बनाए जा रहे 04 औद्योगिक स्मार्ट शहरों में से एक पश्चिमी उ0प्र0 के ग्रेटर नोएडा में बना। नए एयरपोर्ट और नए डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर से उ0प्र0 में बना सामान तथा प्रदेश के किसानों के फल-सब्जी ज्यादा आसानी से विदेशी बाजार तक पहुंच पाएंगे। प्रधानमंत्री ने उ0प्र0 सरकार को नए पेराई सत्र के लिए गन्ने का मूल्य बढ़ाने के लिए बधाई दी। डबल इंजन सरकार ने गन्ना किसानों से जुड़ी समस्याओं को लगातार कम करने का प्रयास किया। सरकार ने करोड़ों किसानों के खातों में पी0एम0 किसान सम्मान निधि के पौने 03 लाख करोड़ रु0 ट्रांसफर किए। हमारी सरकार सहकारिता के दायरे को लगातार बढ़ा रही, पैक्स, कोऑपरेटिव  सोसायटी तथा किसान उत्पाद संगठनों को गांव-गांव तक पहुंचाया जा रहा। भण्डारण की सुविधाओं के निर्माण के लिए दुनिया की सबसे बड़ी योजना शुरू की गयी, पूरे देश में कोल्ड स्टोरेज का नेटवर्क तैयार किया जा रहा। महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों को ड्रोन पायलट की ट्रेनिंग दी जा रही, उन्हें ड्रोन दिए जा रहे। विगत 10 वर्षों में जन कल्याण की हर योजना का सीधा लाभ हमारे छोटे किसानों को मिला फसल खराब होने पर किसानों को डेढ़ लाख करोड़ रु0 से ज्यादा दिए गए। कोई भी व्यक्ति सरकार की योजना से वंचित न रहे, इसके लिए मोदी की गारण्टी वाली गाड़ी गांव-गांव आ रही, उ0प्र0 में भी लाखों लोग इस गारण्टी वाली गाड़ी से जुड़े। विगत 10 वर्षों में 25 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले। बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात

ब्यूरो निष्पक्ष दस्तक

बुलन्दशहर।  वर्ष 2017 में डबल इंजन की सरकार बनने के बाद से, उत्तर प्रदेश ने पुरानी चुनौतियों से निपटने के साथ ही, आर्थिक विकास को नई गति दी है। आज का कार्यक्रम हमारी इस प्रतिबद्धता का प्रमाण है। आज पश्चिमी उत्तर प्रदेश को विकास के लिए 19 हजार करोड़ रुपए से अधिक के प्रोजेक्ट मिले हैं। यह प्रोजेक्ट्स रेल लाइन, हाईवे, पेट्रोलियम पाइपलाइन, पानी, सीवेज, मेडिकल कॉलेज और औद्योगिक शहर से जुड़े हुए हैं। आज यमुना और राम गंगा की स्वच्छता से जुड़े प्रोजेक्ट्स का भी लोकार्पण हुआ है। सरकार के प्रयासों से पश्चिमी उत्तर प्रदेश रोजगार देने वाले प्रमुख केन्द्रों में से एक बन रहा है।जनपद बुलन्दशहर में 20,700 करोड़ रुपये से अधिक की 46 विकास परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास करने के उपरान्त इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। रेल लाइन, हाईवे, पेट्रोलियम पाइपलाइन, सीवरेज, मेडिकल कॉलेज तथा औद्योगिक क्षेत्र की यह परियोजनाएं जनपद बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर, हापुड़, बुलन्दशहर तथा मेरठ से सम्बन्धित हैं। कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल जी तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी भी सम्मिलित हुए। मुख्यमंत्री जी ने प्रधानमंत्री जी को प्रभु श्रीराम की प्रतिमा तथा श्रीराम मन्दिर के उकेरे गए चित्र वाली खुर्जा की सेरेमिक ट्रे भेंट की। प्रधानमंत्री जी ने डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर पर न्यू खुर्जा एवं न्यू रेवाड़ी स्टेशनों से मालगाड़ियों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश के विकास से सम्बन्धित एक लघु फिल्म प्रदर्शित की गयी।

बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात


इस क्षेत्र ने देश को कल्याण सिंह जी जैसा सपूत दिया है, जिन्होंने रामकाज और राष्ट्रकाज, दोनों के लिए अपना जीवन समर्पित किया। आज वो जहां हैं, अयोध्या धाम को देखकर बहुत आनंदित हो रहे होंगे। यह हमारा सौभाग्य है कि देश ने कल्याण सिंह जी और उनके जैसे अनेकों लोगों का सपना पूरा किया है, अब राष्ट्र प्रतिष्ठा को नई ऊंचाई देने का समय है। हमें देव से देश और राम से राष्ट्र के मार्ग को और प्रशस्त करना है। हमारा लक्ष्य वर्ष 2047 तक भारत को विकसित राष्ट्र बनाना है। लक्ष्य बड़ा हो तो उसके लिए हर साधन जुटाना होता है, सबको मिल करके प्रयास करना पड़ता है।आजादी के बाद के दशकों में लम्बे समय तक भारत में विकास को सिर्फ कुछ ही क्षेत्रों तक सीमित रखा गया। देश का एक बहुत बड़ा हिस्सा विकास से वंचित रहा। इसमें भी उत्तर प्रदेश, जहां देश की सबसे अधिक आबादी बसती थी, उस पर उतना ध्यान नहीं दिया गया। इसकी कीमत उत्तर प्रदेश की अनेक पीढ़ियों ने भुगती। देश को भी इसका बहुत बड़ा नुकसान हुआ है। विकसित भारत का निर्माण उत्तर प्रदेश के तेज विकास के बिना सम्भव नहीं है। इसके लिए हमें खेत-खलिहान से लेकर ज्ञान-विज्ञान तथा उद्योग-उद्यम तक हर शक्ति को जगाना है। आज का यह आयोजन इसी दिशा में एक और बड़ा और महत्वपूर्ण कदम है।

आज भारत में दो बड़े डिफेन्स कॉरिडोर पर काम चल रहा है, उनमें से एक पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बन रहा है। आज भारत में नेशनल हाईवे का तेजी से विकास हो रहा है, उसमें से अनेक पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बन रहे हैं। आज हम उत्तर प्रदेश के हर हिस्से को आधुनिक एक्सप्रेस-वे से कनेक्ट कर रहे हैं। भारत का पहला नमो भारत ट्रेन प्रोजेक्ट, पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ही शुरू हुआ है। उत्तर प्रदेश के कई शहर मेट्रो सुविधा से जुड़ रहे हैं। उत्तर प्रदेश ईस्टर्न और वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर का हब भी बन रहा है। जब जेवर इन्टरनेशनल एयरपोर्ट बनकर तैयार हो जाएगा तो इस क्षेत्र को एक नई ताकत और नई उड़ान मिलने वाली है। केंद्र सरकार देश में चार नए औद्योगिक स्मार्ट शहर बनाने की तैयारी में है। ऐसे नए शहर जो दुनिया के श्रेष्ठ मैन्युफैक्चरिंग और निवेश स्थलों को टक्कर दे सके। इसमें से एक औद्योगिक स्मार्ट शहर पश्चिमी उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा में बना है। आज उन्हें इस महत्वपूर्ण टाउनशिप का उद्घाटन करने का सौभाग्य मिला है। यहां हर वह बुनियादी सुविधाएं विकसित की गई हैं, जो रोजमर्रा के जीवन के लिए तथा व्यापार-कारोबार-उद्योग के लिए चाहिए। अब यह शहर दुनियाभर के निवेशकों के लिए तैयार है। इसका लाभ उत्तर प्रदेश के, विशेष रूप से पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हर छोटे, लघु और कुटीर उद्योग को होगा। इसके बहुत बड़े लाभार्थी हमारे किसान परिवार, हमारे खेत मजदूर होंगे। यहां कृषि आधारित उद्योगों के लिए नई संभावनाएं बनेंगी।


प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले खराब कनेक्टिविटी की वजह से किसान की पैदावार समय पर बाजार तक नहीं पहुंच पाती थी। किसानों को अधिक किराया भी देना पड़ता था। गन्ना किसानों को बहुत परेशानी होती थी। किसानों की उपज को विदेश एक्सपोर्ट करना भी मुश्किल था। उत्तर प्रदेश समुद्र से बहुत दूर है, इसलिए उद्योगों के लिए गैस और दूसरे पेट्रोलियम प्रोडक्ट को ट्रकों में लाना पड़ता था। इन सारी चुनौतियों का हल नए एयरपोर्ट और नए डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर में है। अब उत्तर प्रदेश में बना सामान तथा प्रदेश के किसानों के फल-सब्जी ज्यादा आसानी से विदेशी बाजार तक पहुंच पाएंगे।उत्तर प्रदेश सरकार को नए पेराई सत्र के लिए गन्ने का मूल्य बढ़ाने के लिए बधाई देते हुए कहा कि डबल इंजन सरकार का निरंतर प्रयास है कि गरीब और किसान का जीवन आसान हो। गन्ना किसान हो या गेहूं और धान किसान, सभी किसानों को पहले अपनी ही उपज का पैसा पाने के लिए लम्बा इंतजार करना पड़ता था। हमारी सरकार इस परिस्थिति से किसान को बाहर निकाल रही है। हमारी सरकार ने यह सुनिश्चित किया है कि मंडी में अनाज बेचने पर किसान का पैसा सीधे किसान के बैंक अकाउंट में जाना चाहिए। डबल इंजन सरकार ने गन्ना किसानों से जुड़ी समस्याओं को भी लगातार कम करने का प्रयास किया है। गन्ना किसानों की जेब में ज्यादा से ज्यादा पैसे जाएं, इसके लिए हमारी सरकार एथेनॉल बनाने पर बल दे रही है। इस वजह से किसानों को हजारों करोड़ रुपए अतिरिक्त मिले हैं।

बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात


प्रधानमंत्री ने कहा कि किसानों का हित हमारी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है। आज सरकार हर किसान परिवार के इर्द गिर्द एक पूरा सुरक्षा कवच बना रही है। किसानों को सस्ती खाद मिलती रहे, इसके लिए बीते वर्षों में हमारी सरकार ने लाखों करोड़ रुपए खर्च किए हैं। दुनिया में आज यूरिया की जो बोरी 03 हजार रुपये तक की मिल रही है, भारत के किसानों को 300 रुपए से भी कम में मिल रही है। अब देश ने और एक महत्वपूर्ण काम किया है, नैनो यूरिया बनाया है। इससे एक बोरी खाद की शक्ति एक बोतल में समा गई है। इससे भी किसानों की लागत कम होगी, बचत होगी। सरकार ने करोड़ों किसानों के खातों में पी0एम0 किसान सम्मान निधि के पौने 03 लाख करोड़ रुपए भी ट्रांसफर किए हैं। कृषि और कृषि आधारित अर्थव्यवस्था के निर्माण में हमारे किसानों का योगदान हमेशा से अभूतपूर्व रहा है। हमारी सरकार सहकारिता के दायरे को भी लगातार बढ़ा रही है। पैक्स, कोऑपरेटिव सोसायटी तथा किसान उत्पाद संगठनों को गांव-गांव तक पहुंचाया जा रहा है। यह छोटे किसानों को बाजार की बड़ी ताकत बना रहे हैं। खरीद-बिक्री, लोन, फूड प्रोसेसिंग उद्योग तथा एक्सपोर्ट सहित ऐसे हर काम के लिए किसानों के सहकारी संस्थानों को प्रोत्साहित किया जा रहा है। यह छोटे से छोटे किसान को भी सशक्त करने का एक बहुत बड़ा माध्यम बन रहे हैं। किसानों की एक बहुत बड़ी समस्या भण्डारण की सुविधा के अभाव की भी रही है। हमारी सरकार ने भण्डारण की सुविधाओं के निर्माण के लिए दुनिया की सबसे बड़ी योजना शुरू की है। इसके तहत पूरे देश में कोल्ड स्टोरेज का नेटवर्क तैयार किया जा रहा है।


हमारा प्रयास है कि खेती-किसानी को आधुनिक तकनीक से जोड़ा जाए। इसमें भी गांव में हमारी नारी शक्ति को माध्यम बनाया जा रहा है। केन्द्र सरकार ने नमो ड्रोन दीदी योजना शुरू की है। इसके अन्तर्गत महिलाओं के स्वयं सहायता समूहों को ड्रोन पायलट की ट्रेनिंग दी जा रही, उन्हें ड्रोन दिए जा रहे हैं। भविष्य में यह नमो ड्रोन दीदी, ग्रामीण अर्थव्यवस्था और खेती किसानी की बहुत बड़ी ताकत बनने जा रही हैं। किसानों के लिए जितना हमारी सरकार ने काम किया है, उतना पहले किसी सरकार ने नहीं किया है। विगत 10 वर्षों में जन कल्याण की हर योजना का सीधा लाभ हमारे छोटे किसानों को मिला है। करोड़ों पक्के घर बने हैं, तो इनके बहुत अधिक लाभार्थी छोटे किसान और खेत मजदूर हैं। गांवों के करोड़ों घरों में पहली बार टॉयलेट बने हैं। पहली बार गांव के करोड़ों घरों में नल से जल पहुंचा है। इसका लाभ सबसे अधिक किसान परिवारों की माताओं-बहनों को मिला है। पहली बार किसानों और खेत मजदूरों को भी पेंशन की सुविधा मिली है।


पी0एम0 फसल बीमा योजना से किसानों को मुश्किल समय में मदद मिली है। फसल खराब होने पर किसानों को डेढ़ लाख करोड़ रुपए से ज्यादा दिए गए हैं। मुफ्त राशन या मुफ्त इलाज, इसके ज्यादातर लाभार्थी गांव के किसान परिवार और खेत मजदूर ही हैं। हमारा प्रयास है कि कोई भी लाभार्थी सरकार की योजना से वंचित न रहे। इसके लिए मोदी की गारण्टी वाली गाड़ी गांव-गांव आ रही है। उत्तर प्रदेश में भी लाखों लोग इस गारण्टी वाली गाड़ी से जुड़े हैं।मोदी की गारण्टी है कि जल्द से जल्द देश के हर नागरिक को उसके लिए बनी सरकारी योजना का लाभ मिले। आज देश, मोदी की गारण्टी को गारण्टी पूरा होने की गारण्टी मानता है। हमारी सरकार जो कहती है, वह करके दिखाती है। हमारा पूरा प्रयास है कि सरकार की योजना का लाभ हर लाभार्थी तक पहुंचे। इसलिए मोदी सैचुरेशन की शत-प्रतिशत गारण्टी दे रहा है।


जब सरकार शत-प्रतिशत लाभार्थियों तक पहुंचती है, तो किसी भेदभाव की गुंजाइश नहीं रह जाती। जब सरकार शत-प्रतिशत लाभार्थियों तक पहुंचती है तो किसी भ्रष्टाचार की गुंजाइश भी नहीं रह जाती। यही सच्चा सेकुलरिज्म है, यही सच्चा सामाजिक न्याय है। गरीब, किसान तथा महिलाएं किसी भी समाज में हो, उनकी जरूरतें और उनके सपने समान हैं। युवा किसी भी समाज के हों, उनके सपनें, उनकी चुनौतियां, एक जैसी ही हैं। इसलिए मोदी बिना भेदभाव के हर जरूरतमंद तक तेजी से पहुंचना चाहता है। आजादी के बाद लम्बे समय तक कोई गरीबी हटाओ का नारा देता रहा, कोई सामाजिक न्याय के नाम पर झूठ बोलता रहा। लेकिन देश के गरीबों ने देखा कि सिर्फ कुछ परिवारों के घर अमीरी आई, कुछ ही परिवारों की राजनीति फली-फूली। सामान्य गरीब, दलित, पिछड़ा तो अपराधियों और दंगों से सहमा हुआ था। अब देश में स्थितियां बदल रही हैं। मोदी, ईमानदारी से आपकी सेवा में जुटा है। इसी का नतीजा है कि हमारी सरकार के 10 वर्षों में 25 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले हैं। जो बाकी बचे हैं, उन्हें भी उम्मीद जगी है कि वे भी जल्द ही गरीबी को परास्त कर देंगे। मेरे लिए तो आप ही मेरा परिवार हैं। आपका सपना ही मेरा संकल्प है। इसलिए, जब देश के सामान्य परिवार सशक्त होंगे, तो यही मोदी की पूंजी होगी। गांव-गरीब हो, युवा, महिला, किसान हो, सबको सशक्त करने का यह अभियान जारी रहेगा। मोदी विकास और समाज के आखिरी व्यक्ति के कल्याण के लिए बिगुल फूंकता रहता है। मोदी को चुनाव का बिगुल फूंकने की जरूरत न पहले थी, न आज है और न ही आगे होगी। मोदी के लिए जनता-जनार्दन ही बिगुल फूंकती रहती है।

बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उ0प्र0 देश में विकास की प्रक्रिया के साथ तेजी से आगे बढ़ रहा, यह प्रधानमंत्री के आशीर्वाद तथा मार्गदर्शन से सम्भव हुआ। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 140 करोड़ भारतवासी एक नये भारत का दर्शन कर रहे, दुनिया इस अद्भुत, अविस्मरणीय और आलौकिक अवसर से अचंभित। प्रधानमंत्री ने विगत 03 दिनों में 02 महत्वपूर्ण निर्णय लिए, प्रभु श्रीरामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के दिन उन्होंने 01 करोड़ घरों में रूफटॉप सोलर के लिए एक नयी योजना का शुभारम्भ किया। सामाजिक न्याय के पुरोधा, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्रद्धेय कर्पूरी ठाकुर जी को भारतरत्न देने का निर्णय लिया, यह सामाजिक न्याय की लड़ाई में वंचित, दबे-कुचलों तथा पिछड़े वर्ग को सम्मान देने का कार्य।


उत्तर प्रदेश आज देश में विकास की प्रक्रिया के साथ तेजी से आगे बढ़ रहा है। यह प्रधानमंत्री जी के आशीर्वाद तथा मार्गदर्शन से सम्भव हुआ है। नये भारत के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री जी का यशस्वी नेतृत्व सभी भारतवासियों को प्राप्त हुआ है। आज बुलन्दशहर की धरती से उत्तर प्रदेशवासियों को प्रधानमंत्री जी का आशीर्वाद और सान्निध्य प्राप्त हो रहा है। 500 वर्षां के इन्तजार के बाद अयोध्या में प्रभु श्रीरामलला के भव्य मन्दिर के उद्घाटन और श्रीरामलला की मूर्ति के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम के उपरान्त आज प्रधानमंत्री जी का उत्तर प्रदेश में पहला दौरा है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में 140 करोड़ भारतवासी एक नये भारत का दर्शन कर रहे हैं। दुनिया भी इस अद्भुत, अविस्मरणीय और आलौकिक अवसर से अचंभित है और भारत की ओर आकर्षित हो रही है। मौसम की विपरीत परिस्थितियों का सामना करते हुए प्रधानमंत्री जी आज दिल्ली से सड़क मार्ग से हमारे बीच आये हैं। उनका यह आगमन हम सभी के लिए बिना रुके, बिना डिगे तथा बिना झुके विकसित भारत के संकल्प को आगे बढ़ाने के लिए प्राण प्रण से जुटने की एक नयी प्रेरणा है।

आज पौष पूर्णिमा है। आज लगभग 21 हजार करोड़ रुपये की परियोजनाओं की सौगात उत्तर प्रदेशवासियों को प्राप्त हो रही है। पहले कोई नहीं सोचता था कि उत्तर प्रदेश के हर जनपद में मेडिकल कॉलेज होगा। पहले मीटर गेज को ब्रॉड गेज में परिवर्तित करने में दिक्कतें होती थी। इसके लिए धनराशि नहीं मिलती थी। आज चौथी रेलवे लाइन का लोकार्पण प्रधानमंत्री जी कर रहे हैं। फ्रेट कॉरिडोर के एक सेक्शन का उद्घाटन भी प्रधानमंत्री जी के कर-कमलों से हो रहा है। इसके साथ ही, गरीबों के लिए आवासीय परियोजनाएं, 04-लेन, 06-लेन सड़कों का निर्माण तथा बुनियादी सुविधाओं से जुड़ी योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया जा रहा है। यह सभी नये भारत में बिना भेदभाव के मिलने वाली योजनाएं हैं। इनका लाभ लेकर भारत और उत्तर प्रदेश विकास के नित नये प्रतिमान को स्थापित करते हुए आगे बढ़ रहा है।  प्रधानमंत्री ने विगत 03 दिनों में 02 महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं। पहला, प्रभु श्रीरामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के दिन उन्होंने 01 करोड़ घरों में रूफटॉप सोलर के लिए एक नयी योजना का शुभारम्भ किया। दूसरा, सामाजिक न्याय के पुरोधा, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्रद्धेय कर्पूरी ठाकुर जी को भारतरत्न देने का निर्णय लिया। यह सामाजिक न्याय की लड़ाई में वंचित, दबे-कुचलों तथा पिछड़े वर्ग को सम्मान देने का कार्य है। यह अत्यन्त अभिनन्दनीय है। मुख्यमंत्री जी ने इन निर्णयों के लिए प्रधानमंत्री जी का आभार व्यक्त किया। बुलन्दशहर को 20,700 करोड़ से अधिक की सौगात