नेता बनने से पहले ही गैंगस्टर राजू ठेह को मौत

नेता बनने से पहले ही गैंगस्टर राजू ठेह को मौत के घात उतारा। चार बदमाशों से सीकर में सरेआम गोली मारी। सोशल मीडिया पर गैंगस्टर रोहित गोदारा ने ली जिम्मेदारी। राजस्थान में गैंगस्टर जंग परवान पर। वीर तेजा सेना ने बेमियादी सीकर बंद करवाया। 5 दिसंबर को राजस्थान में शुरू हो रही है राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा।

एस0 पी0 मित्तल

राजस्थान, पंजाब और हरियाणा का मशहूर गैंगस्टर राजू ठेहट नेता बनता इससे पहले ही 3 दिसंबर को सुबह सीकर के पीपरोली रोड पर चार बदमाशों ने उसे गोलियों से भून दिया। पुलिस को मौके से 50 गोलियों के खोल मिले हैं। बदमाशों की दिलेरी का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि राजू ठेहट को मौत के घाट उतारने के बाद हवा में हर्ष फायरिंग करते हुए मौके से फरार हो गए किसी बदमाश ने चेहरे पर नकाब भी नहीं पहना था। सीसीटीवी कैमरों में चारों बदमाशों के चेहरे साफ दिख रहे हैं। राजू ठेहट हत्या, लूट, अपहरण के अनेक मामले दर्ज हैं, लेकिन पिछले कुछ दिनों से राजू सीकर में शराफत की जिंदगी जी रहा था। 2023 में विधानसभा चुनाव लड़ने की भी तैयारी थी। यह गैंगस्टर सीकर में राजू बॉस के नाम से प्रसिद्ध हो रहा था।

अखबारों में भी राजू बॉस की शराफत के किस्से छपने लगे थे, लेकिन गैंगस्टर रोहित गोदारा के शूटरों ने नेता बनने से पहले ही राजू को मार डाला। राजू की हत्या के तुरंत बाद सोशल मीडिया पर रोहित गोदारा ने लिखा है कि राजू ठेहट हमारे बड़े भाई आनंदपाल और बलबीर बानूड़ा की हत्या में शामिल था, इसलिए हमने बदला ले लिया। रोहित गोदारा ने अपने साथ लॉरेंस बिश्नोई के होने का भी दावा किया है। लॉरेंस बिश्नोई इस समय दिल्ली की तिहाड़ जेल में बंद है और उस पर पंजाब के सिद्धू मूसेवाला की हत्या का आरोप है। लारेंस गैंग के तार अंतर्राष्ट्रीय गैंगस्टर गोल्डी से जुड़े बताए जाते हैं। इन दिनों राजस्थान में गैंगस्टर की जंग चरम पर है। गैंगस्टर उत्तर प्रदेश के मुकाबले में राजस्थान को सुरक्षित मानते हैं। यही वजह है कि राजस्थान में वारदात को अंजाम देने के बाद बदमाश आसानी से फरार हो जाते हैं।

3 दिसंबर को जिस तरह गैंगस्टर राजू को मारा गया, उससे प्रतीत होता है कि राजस्थान में अब गैंगवार और बढेगी। लॉरेंस बिश्नोई का नाम आने के बाद राजू ठेहट हत्याकांड और गंभीर हो गया है। रोहित गोदारा ने अपनी पोस्ट में यह भी लिखा है कि अभी और दुश्मनों से मुलाकात होगी। यह गैंगवार तब हो रही है, जब राहुल गांधी की भारत जोड़ों यात्रा 5 दिसंबर से राजस्थान में शुरू हो रही है। इस यात्रा की आवभगत में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नेतृत्व में पूरी कांग्रेस सरकार लगी हुई है। राहुल की सुरक्षा में बड़ी संख्या में पुलिस जवान और अधिकारी तैनात किए गए हैं। गहलोत सरकार के एक दर्जन मंत्री यात्रा की विभिन्न जिम्मेदारी निभा रहे हैं। कांग्रेस पार्टी राहुल गांधी की यात्रा से राजस्थान में अपनी स्थिति को मजबूत भी करना चाहती है, लेकिन प्रदेश में बढ़ रही गैंगस्टर जंग से कानून व्यवस्था पर प्रश्न चिन्ह लगता है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि गृह विभाग भी सीएम गहलोत के पास ही है।

बेमियादी सीकर बंद:- राजू ठेहट की हत्या के विरोध में वीर तेजा सेना ने बेमियादी सीकर बंद की घोषणा कर दी है। सेना की ओर से कहा गया है कि जब तक हत्यारे गिरफ्तार नहीं होते, तब तक शव का अंतिम संस्कार भी नहीं किया जाएगा। इस समय राजू ठेहट का शव सीकर के सरकारी अस्पताल के मुर्दाघर में रखा हुआ है। इस जघन्य हत्या कांड से पूरे सीकर जिले में रोष है। इसलिए बंद का आव्हान किया गया है। सेना के प्रतिनिधि ने कहा कि पकड़े जाने का कोई डर नहीं था, इसलिए हत्यारों ने अपना चेहरा भी नहीं ढक रखा था। लोगों की मौजूदगी में ही बदमाश हवा में फायरिंग करते हुए पैदल ही मौके से भाग गए। सेना ने पुलिस पर भी ढिलाई बरतने का आरोप लगाया है। हालांकि पुलिस ने पंजाब सीमा पर नाकाबंदी की है, लेकिन अभी तक हत्यारों का कोई ठोस सुराग नहीं मिला है।