लेटरल इंट्री,कोलेजियम,निजीकरण पिछड़ा दलित विरोधी-लौटन राम निषाद

102
लौटनराम निषाद
निषाद पार्टी संजय निषाद एंड फॅमिली की प्रा.लि.लूट कम्पनी

सामाजिक न्याय के जनक शाहू जी महाराज और मण्डल मसीहा वीपी सिंह की मनाई गई जयन्ती।लेटरल इंट्री,कोलेजियम,निजीकरण पिछड़ा दलित विरोधी।

कन्नौज। सर्वशिक्षा निकेतन इंटर कॉलेज, श्यामपुर धौरारा,निकट ठठीया में आरक्षण के जनक छत्रपति शाहू जी महाराज और मण्डल मसीहा वीपी सिंह की जयन्ती समारोह का आयोजन किया गया। बामसेफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलाकांत काले की अध्यक्षता और बिजेंद्र यादव एडवोकेट के संयोजकत्व में सत्यशोधक ओबीसी महासभा, बामसेफ,यूनिटी ऑफ मूलनिवासी समाज और भीम आर्मी के बैनर तले आयोजित समारोह में लेटरल इंट्री, कोलेजियम,निजीकरण पूरी तरह असंवैधानिक एवं पिछड़ा दलित विरोधी है। उद्घाटन भाषण करते हुए आर बी कन्नौजिया ने कहा कि बहुजन समाज संक्रमण के दौर से गुजर रहा है संवैधानिक संस्थाओं को नष्ट किया जा रहा है। पिछड़े दलित अल्पसंख्यक एकजुट होकर 2024 में भाजपा को नहीं हटाये तो बहुजन समाज गुलामी के दौर में चला जायेगा। वर्तमान सरकार में जातिवाद का नंगा नाच किया जा रहा है।


भारतीय ओबीसी महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता लौटन राम निषाद ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि मान्यवर कांशीराम जी ने बहुजन समाज का निर्माण किए लेकिन मायावती ने सर्वजन की बात कर समाज को भटका दिया है।उन्होंने कहा कि छत्रपति शाहू जी महाराज पिछड़ा दलित वर्ग के मुक्तिदाता और उद्धारक थे।उन्होंने कोल्हापुर रियासत में 26 जुलाई 1902 को शूद्र वर्ण की जातियों को सरकारी पदों पर 50 प्रतिशत आरक्षण का शासनादेश जारी किए। दलित वंचित वर्ग विरोधी बलूतदारी एवं वतनदारी प्रथा को दूर कर दलितों को गुलामी से मुक्ति और महार जाति को जमीन का मालिकाना हक दिए।शाहू जी महाराज एक महान राजा के साथ कुशल प्रशासक और महान समाज सुधारक थे।आपने विधवा विवाह को कानूनी मान्यता देने के साथ बाल विवाह पर रोक लगाई।दलित वंचित वर्ग की शिक्षा के लिए जगह जगह विद्यालय और छात्रावास बनवाये।संविधान निर्माता डॉ. अम्बेडकर शाहू जी महाराज और क्रांति सूर्य ज्योति राव फूले को अपना गुरु मानते थे और इन्होंने अम्बेडकर को आगे बढ़ाने में बहुत मदद दिए।


निषाद ने समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि वीपी सिंह तथागत गौतम बुद्ध के अवतार थे।विश्वनाथ प्रताप सिंह जी ने क्षत्रिय कुल के न्यायिक चरित्र का परिचय देते हुए सरकार गिरने की परवाह न करते हुए मण्डल कमीशन की सिफारिश को लागू कर ओबीसी को 27 प्रतिशत आरक्षण कोटा देकर पिछड़ों के मसीहा बन गए।उन्होंने सिद्ध कर दिया कि यदि सत्ता का मोह न हो और नियत में खोट न हो तो अल्पमत की सरकार भी बड़ा निर्णय ले सकती है।राजा साहब ने मण्डल रिपोर्ट को लागू करने के बाद कहा था कि हमने माँ के पेट से बच्चे को बाहर निकाल दिया है, अब किसी की हिम्मत नहीं की बच्चे को पुनः माँ के पेट में डाल दे।उनका कहना था कि तितली के जन्म के लिए केंचुआ को मरना पड़ता है।उन्होंने कहा था कि बाल को किक मारने में भले ही मेरा पैर टूट गया लेकिन हम सदियों से वंचित पिछड़ी जातियों को न्याय देकर पूरी तरह संतुष्ट हूँ।निषाद ने कहा कि राजा विश्वनाथ प्रताप सिंह जी न्यायिक चरित्र के महामानव थे।उन्होंने पिछड़ी जाति के प्रधानमंत्री से पिछड़ी जातियों के मसीहा वीपी सिंह जी को भारत रत्न देने और संसद परिसर में उनकी आदमकद प्रतिमा लगवाने की माँग किया है।


बामसेफ के राष्ट्रीय अध्यक्ष कमलाकांत काले ने कहा कि ईवीएम अलोकतांत्रिक है। ईवीएम से बनी भाजपा सरकार लोकतंत्र, संविधान और सामाजिक न्याय को कुचलने में जुटी हुई है। वर्तमान में अघोषित आपातकाल की स्थिति पैदा हो गई है, देश की अर्थव्यवस्था चौपट हो गई है और सरकारी संस्थानों, उपक्रमों का निजीकरण के ओबीसी, एससी, एसटी का संवैधानिक अधिकार छिना जा रहा है।इस तानाशाही संविधान विरोधी सरकार को हटाने के लिए बहुजन समाज को एकजुट होने की जरूरत है।भाजपा सरकार संविधान की जगह मनुस्मृति के विधान को लागू करने में जुटी हुई है। भीम आर्मी के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनजीत नौटीयाल ने कहा कि ईडब्ल्यूएस,
कालेजियम सिस्टम,लेटरल इंट्री,ओबीसी की गिनती नहीं कराना पिछड़े वर्ग के सत्यानाश का कारण है।समरोह को बलवीर यादव, डॉ. राकेश चंद्रा,ओंकार कुशवाहा, साधना सिंह, अतिथि कुमार राजपूत, डॉ. शिव वीर सिंह शाक्य, शैलेन्द्र यादव, श्याम सिंह यादव, मुकेश कठेरिया,अजय राजपूत,आनंद यादव, अजय कुशवाहा, ऋषि कपूर आदि ने भी सम्बोधित किया।