प्रधानमंत्री ने जनपद वाराणसी में स्थापित अक्षय पात्र फाउण्डेशन की मिड-डे-मील किचन का लोकार्पण किया


प्रधानमंत्री ने जनपद वाराणसी में स्थापित अक्षय पात्र फाउण्डेशन की मिड-डे-मील किचन का लोकार्पण किया।कार्यक्रम में राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री उपस्थित थे।प्रधानमंत्री ने मेगा किचन का निरीक्षण किया तथा किचन में लगायी गयी,अत्याधुनिक मशीनों के संचालन की जानकारी भी प्राप्त की,प्रधानमंत्री ने बच्चों से संवाद किया,मेगा किचन में भोजन सेवापुरी के परिषदीय विद्यालयों के 25 हजार से अधिक बच्चों तक खास गाड़ियों से पहुंचाया जाएगा,मेगा किचन की क्षमता एक लाख बच्चों हेतु खाना तैयार करने की।

वाराणसी। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनपद वाराणसी भ्रमण के दौरान अर्दली बाजार स्थित एल0टी0 कॉलेज परिसर में स्थापित अक्षय पात्र फाउण्डेशन की मिड-डे-मील किचन का लोकार्पण किया। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल जी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी भी उपस्थित थे।प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर मेगा किचन का निरीक्षण किया तथा अक्षय पात्र फाउण्डेशन के अधिकारियों से मेगा किचन के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। किचन में लगायी गयी अत्याधुनिक मशीनों के संचालन की जानकारी भी प्राप्त की। प्रधानमंत्री जी ने किचन में तैयार हो रहे भोजन की गुणवत्ता परखी। इस दौरान उन्होंने 20 बच्चों से संवाद भी किया।इससे पूर्व, प्रधानमंत्री के वाराणसी आगमन पर राज्यपाल श्रीमती आनंदीबेन पटेल जी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने लाल बहादुर शास्त्री इंटरनेशनल एयरपोर्ट, बाबतपुर में उनका स्वागत किया।


      उल्लेखनीय है कि अक्षय पात्र फाउंडेशन की ओर से अर्दली बाजार के एल0टी0 काॅलेज परिसर में 03 एकड़ भूखण्ड पर 23 करोड़ रुपये की लागत से मेगा किचन तैयार किया गया है। देश की 62वीं व प्रदेश की इस चैथी केंद्रीयकृत मध्याह्न भोजन रसोई में बच्चों के लिए अत्याधुनिक मशीनों से गरमा-गरम भोजन तैयार किया जाएगा। मेगा किचन में भोजन सेवापुरी के परिषदीय विद्यालयों के 25 हजार से अधिक बच्चों तक खास गाड़ियों से पहुंचाया जाएगा। इस मेगा किचन में सौर ऊर्जा का इस्तेमाल किया जा रहा है।इस मेगा किचन की क्षमता एक लाख बच्चों हेतु खाना तैयार करने की है। मेगा किचन में स्थापित अत्याधुनिक मशीनें एक घंटे में चालीस हजार रोटी तैयार करने के साथ 1600 लीटर दाल पका सकती हैं। दाल के लिए 1600 लीटर के चार संयंत्र लगाए गए है। चावल के लिए भी 6 हाइड्रोलिक कुकर लगाए गए हैं। एक कुकर में 140 किलो चावल तैयार किया जा सकता है। किचन में लगे आर0ओ0 प्लांट में 10 हजार लीटर पानी स्वच्छ करने की सुविधा है। सोलर पैनल व सोलर वाटर हीटर के साथ भोजन पहुंचाने के लिए 15 इंसुलेटेड वैन भी हैं।