अवार्ड के भूखे देते हैं गुलदस्ता गैंग को बढ़ावा-मुहम्मद आफ़ाक़

110
अवार्ड के भूखे देते हैं गुलदस्ता गैंग को बढ़ावा-मुहम्मद आफ़ाक़
अवार्ड के भूखे देते हैं गुलदस्ता गैंग को बढ़ावा-मुहम्मद आफ़ाक़

अवार्ड के भूखे देते हैं गुलदस्ता गैंग को बढ़ावा।फर्जी अवार्डों और सम्मानों की वसूली की जाती है कीमत।

अजय सिंह

लखनऊ। राष्ट्रीय सामाजिक कार्यकर्ता संगठन के संयोजक मोहम्मद आफाक ने प्रेस को दिए अपने बयान में कहा है कि शहर में कुछ दिनों से ऐसे लोगों की संख्या कुछ बढ़ गई है जिनकी अवार्ड की भूख ने शहर में कुछ गुलदस्ता गैंगो को बढ़ावा दे रखा है। गुलदस्ता गैंग अवार्ड के भूखे लोगों को पैसा लेकर अवार्ड व सम्मान देते हैं। जिसमें शहर की एक नामी खानदानी व ट्रैवल कंपनी के मालिक और एक अंजुमन के मेम्बर को अवार्ड की बहुत भूख है।

गुलदस्ता गैंग के लोग उच्च -अधिकारियों और ऊंचे पदों पर बैठे लोगों अमीरों और शिक्षण संस्थानों के जिम्मेदारों आदि को गुलदस्ता देकर उनके साथ फोटो खींचते हैं और उनके साथ अपने संबंध बनाते हैं फिर इन संबंधों की आड़ में इन अधिकारियों और जिम्मेदारों से गलत काम कराते हैं इसके लिए वह अधिकारियों की दलाली व चापलूसी कर अपने चहीतों की उन शिक्षण संस्थानों वह अन्य छोटी-मोटी जगह पर नियुक्ति करवाते है जिसके जिम्मेदारों को गुलदस्ता आदि देकर पुरस्कृत करते हैं।

उच्च अधिकारियों और संस्थाओं के जिम्मेदारों को ऐसे गुलदस्ता गैंग से होशियार रहने की जरूरत है इस गैंग के लोग भोले भाले मासूम लोगों से इन अधिकारियों और शिक्षण संस्थानों में नियुक्ति कराने के नाम पर मोटी रकम वसूलते हैं और लोगों का अन्य तरीकों से शोषण भी करते हैं। ऐसे लोगों से उच्च अधिकारियों और ऊंचे पदों पर बैठे लोगों को दूरी बनाकर रखनी चाहिए कभी-कभी गुलदस्ता गैंग के सदस्य इन उच्च अधिकारियों और ऊंचे पदों पर बैठे लोगों की बदनामी का कारण भी बनते हैं। पूर्व में ऐसे लोगों की वजह से बहुत से मंत्री और कुछ अधिकारी जेल भी जा चुके हैं। अवार्ड के भूखे देते हैं गुलदस्ता गैंग को बढ़ावा-मुहम्मद आफ़ाक़