मंकीपॉक्स संक्रमण के बढ़ते केस को देखते हुए प्रदेश में सावधानी बरतें


प्रदेश में ट्रैक, टेस्ट और ट्रीट टीकाकरण की नीति केसफल क्रियान्वयन से कोविड महामारी पर प्रभावी नियंत्रण राज्य में 11 करोड़ 52 लाख 08 हजार 267 कोविड टेस्ट सम्पन्न।राज्य में गत दिवस तक 33 करोड़ 04 लाख 26 हजारसे अधिक कोरोना वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी विभिन्न देशों में मंकीपॉक्स संक्रमण के बढ़ते केस को देखतेहुए प्रदेश में सावधानी बरती जाए, इसके लक्षण, उपचार आदि के बारे में आमजन को जागरूक किया जाए।जिलाधिकारी तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक जनसमस्याओंके त्वरित और संतुष्टिपरक समाधान के प्रति संवेदनशील रहें आई0जी0आर0एस0/सी0एम0 हेल्पलाइन के निस्तारितप्रकरणों की शासन स्तर से रेण्डम जांच करायी जाए।किसी भी जनपद में अवैध टैक्सी, बस, रिक्शा स्टैण्ड संचालित नहीं होने चाहिए।‘सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान’ को एक सप्ताह के लिए बढ़ाने के निर्देश।अधिक से अधिक व्यवसायी जी0एस0टी0 में अपना पंजीकरणकराएं, इसके लिए उन्हें जागरूक तथा प्रोत्साहित किया जाए।जल जीवन मिशन परियोजनाओं का समयबद्ध औरगुणवत्तापूर्ण क्रियान्वयन सुनिश्चित कराया जाए।आगामी खरीफ फसल के दृष्टिगत खाद एवं बीज आदिकी पर्याप्त उपलब्धता समय से सुनिश्चित कर ली जाए।उद्योग बन्धु की बैठक नियमित अन्तराल पर आयोजित की जाए।सभी विकास प्राधिकरण अपनी वर्तमान और भावी कार्य योजना तैयारकरें, मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा इसकी अतिशीघ्र समीक्षा की जाएगी।


 लखनऊ।
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने कहा कि प्रदेश में ट्रैक, टेस्ट और ट्रीट टीकाकरण की नीति के सफल क्रियान्वयन से कोविड महामारी पर प्रभावी नियंत्रण बना हुआ है। उन्होंनेे पात्र लोगों को टीके की दूसरी खुराक समय से दिए जाने के निर्देश दिए हैं। लोक भवन में टीम-9 की बैठक में प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में टीकाकरण अभियान की प्रगति संतोषप्रद है। उन्होंने निर्देशित किया कि 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लोगों को बूस्टर डोज दिए जाने में तेजी लायी जाए। बूस्टर डोज के महत्व और बूस्टर टीकाकरण केन्द्रों के बारे में आमजन को जागरूक किया जाए। उन्होंने बच्चों को स्वास्थ्य सुरक्षा को लेकर सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं। पिछले 24 घण्टों में राज्य में कोरोना संक्रमण के 170 नए मामले सामने आए हैं। इस अवधि में 159 व्यक्तियों को सफल उपचार के उपरान्त डिस्चार्ज किया गया है। वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 914 है। 849 लोग होम आइसोलेशन में स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं। पिछले 24 घण्टे में प्रदेश में 96 हजार से अधिक कोरोना टेस्ट किए गए। अब तक राज्य में 11 करोड़ 52 लाख 08 हजार 267 कोविड टेस्ट सम्पन्न हो चुके हैं।


राज्य में गत दिवस तक 33 करोड़ 04 लाख 26 हजार से अधिक कोरोना वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी हैं। 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में 13 करोड़ 77 लाख 58 हजार से अधिक लोगों को टीके की दोनों डोज देकर कोविड सुरक्षा कवच प्रदान किया जा चुका है। इस प्रकार 93.44 प्रतिशत लोग कोविड टीके की दोनों डोज ले चुके हैं। इसी आयु वर्ग में 15 करोड़ 32 लाख 81 हजार से अधिक लोगों ने कोविड वैक्सीन की पहली डोज प्राप्त कर ली है।विगत दिवस तक 15 से 17 वर्ष आयु वर्ग में 98.21 प्रतिशत किशोर कोविड वैक्सीन की प्रथम डोज तथा 79.96 प्रतिशत किशोर टीके की दूसरी खुराक प्राप्त कर चुके हैं। 12 से 14 वर्ष आयु वर्ग के 90.16 प्रतिशत बच्चों ने टीके की पहली खुराक तथा 41.96 प्रतिशत बच्चों ने टीके की दूसरी खुराक प्राप्त कर ली है। 32 लाख 35 हजार से अधिक प्रिकॉशन डोज प्रदान की जा चुकी हैं। विभिन्न राज्यों में कोविड-19 के नए केस में बढ़ोत्तरी देखी जा रही है। हालांकि उत्तर प्रदेश में पॉजिटिविटी दर न्यूनतम है।


विभिन्न देशों में मंकीपॉक्स संक्रमण के बढ़ते केस को देखते हुए प्रदेश में सावधानी बरती जाए। भारत सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार मंकीपॉक्स के लक्षण, उपचार आदि के बारे में आमजन को जागरूक किया जाए। संदिग्ध लक्षण वाले लोगों के सैम्पल आदि की समुचित जांच करायी जाए। मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक यह सुनिश्चित करें कि जिलाधिकारी तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक जनसमस्याओं के त्वरित और संतुष्टिपरक समाधान के प्रति संवेदनशील रहें। आमजन के प्रार्थना पत्रों का समयबद्ध ढंग से निस्तारण किया जाए। जिलाधिकारी तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक/पुलिस अधीक्षक स्थानीय जनप्रतिनिधियों से सतत् संवाद कर मार्गदर्शन लेते रहें। उन्होंने उद्योग बन्धु की बैठक नियमित अन्तराल पर आयोजित किए जाने के निर्देश दिए हैं।


आई0जी0आर0एस0/सी0एम0 हेल्पलाइन जनता की समस्याओं के निदान का अच्छा माध्यम बनकर उभरें हैं। इनके प्रकरण लम्बित न रहें। प्रत्येक कार्यालय में इनकी सतत् समीक्षा की जाए। उन्होंने कहा कि निस्तारित प्रकरणों की शासन स्तर से रेण्डम जांच करायी जाए। शिकायकर्ताओं से सीधा संवाद कर उनकी संतुष्टि का स्तर पूछा जाए। जल जीवन मिशन की परियोजनाओं का समयबद्ध और गुणवत्तापूर्ण क्रियान्वयन सुनिश्चित कराया जाए। जल जीवन मिशन के कार्यों की कृषि उत्पादन आयुक्त के स्तर पर नियमित समीक्षा की जाए। उन्होंने कहा कि आगामी खरीफ फसल के दृष्टिगत खाद एवं बीज आदि की पर्याप्त उपलब्धता समय से सुनिश्चित कर ली जाए ताकि किसानों को कोई असुविधा न होने पाए।


 किसी भी जनपद में अवैध टैक्सी, बस, रिक्शा स्टैण्ड संचालित नहीं होने चाहिए। जहां भी ऐसी गतिवधियां संचालित हो रही हैं, उन्हें तत्काल बन्द कराया जाए। यह स्थानीय प्रशासन की जिम्मेदारी है कि आम जनता को पार्किंग की स्थायी जगह उपलब्ध कराए। उन्होंने कहा कि इस सम्बन्ध में अब तक हुई कार्यवाही से मुख्यमंत्री कार्यालय को अवगत कराया जाए। उन्होंने कहा कि लोगों में सड़क सुरक्षा के प्रति जागरूकता उत्पन्न की जाएं। इसके लिए पब्लिक एड्रेस सिस्टम का प्रभावी प्रयोग किया जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि ‘सड़क सुरक्षा जागरूकता अभियान’ को एक सप्ताह के लिए बढ़ा दिया जाए। समेकित प्रयासों से प्रदेश में जी0एस0टी0 संग्रह में निरन्तर बढ़ोत्तरी हो रही है। इसे और बेहतर करने की जरूरत है। अधिक से अधिक व्यवसायी जी0एस0टी0 में अपना पंजीकरण कराएं, इसके लिए उन्हें जागरूक तथा प्रोत्साहित किया जाए। उन्होंने निर्देशित किया कि राजस्व संग्रह में वृद्धि और व्यवसायी बन्धुओं की सुविधा के लिए तकनीक का उपयोग भी किया जाना चाहिए। विकास प्राधिकरणों की कार्यशैली में व्यापक सुधार अपेक्षित हैं। उन्होंने निर्देशित किया कि सभी विकास प्राधिकरण अपनी वर्तमान और भावी कार्य योजना तैयार करें। मुख्यमंत्री कार्यालय द्वारा अतिशीघ्र इसकी समीक्षा की जाएगी।