अखिलेश दास गुप्ता फाउंडेशन का विशाल भंडारा

अशोक सिंह


लखनऊ।
मंगलवार को लखनऊ हजरतगंज स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर परिसर में अखिलेश दास गुप्ता फाउंडेशन की ओर से विशाल भंडारे का आयोजन किया गया। जिसमें हैंडबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया की चेयरमैन श्रीमती अल्का दास ने लोगों को प्रसाद वितरित किया। दोपहर 12 बजे से शुरू हुआ यह भंडारा देर शाम तक चला।लक्ष्मण जी की नगरी में वर्ष भर कही न कही भंडारों का आयोजन होता ही रहता है। ज्येष्ठ माह में मंगलवार को हनुमत भंडारों की धूम रहती है। इस कड़ी में अखिलेश दास फाउंडेशन की ओर से हजरतगंज के दक्षिणमुखी मंदिर पर विशाल भंडारे का आयोजन किया गया।

बीबीडी समूह की चेयरपर्सन अलका दास व विराज सागर दास की देखरेख में विशाल भण्डारे का आयोजन किया गया। ज्येष्ठ माह के आखिरी मंगलवार को दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर पर भंडारे का शुभारम्भ बीबीडी समूह की चेयरपर्सन अलका दास ने विधिपूर्वक बजरंगबली की पूजा अर्चना के साथ किया। इस अवसर पर हैंडबॉल फेडरेशन ऑफ इंडिया की चेयरमैन अल्का दास ने कहा कि परिवार सदैव समाज हितों को सर्वोपरि रखते हुए सेवा कार्य करता है। फाउंडेशन द्वारा लगातार पूरे जेष्ठ माह में भंडारे का आयोजन किया गया जिससे हम लोगो की सेवा कर सके।उ0प्र0 बैडमिन्टन एसोसिएशन के चेयरमैन विराज सागर दास ने कहा कि हमें सेवा कार्य से आत्म संतुष्टि मिलती है। इसीलिए अखिलेश दास फाउंडेशन सदैव सेवा कार्य में प्रयासरत रहता है। इस अवसर अखिलेश दास फाउंडेशन के सभी पदाधिकारी भी मौजूद रहे।

हजरतगंज के दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर पर हुआ विशाल भंडाराजेष्ठ माह में समर्पण भाव से सेवा ही लक्ष्य।

समर्पण भाव से सेवा ही लक्ष्य – अलका दास

अलका दास ने कहा कि जब मनुष्य की सभी उम्मीदें खत्म हो जाती हैं और वह स्वयं को लाचार महसूस करता है तब उसे परमात्मा की शक्ति पर भरोसा करना चाहिए। परमात्मा की शक्ति से मनुष्य किसी भी क्षण चमत्कार कर सकता है। जो व्यक्ति प्रत्येक क्षण परमात्मा की शक्ति पर विश्वास बनाए रखते हैं वह कभी परेशान-हैरान नहीं रहते, बल्कि ऐसे व्यक्ति विपरीत परिस्थितियों को भी अपने पक्ष में करने की क्षमता रखते हैं।

परमात्मा की शक्ति असीम होती है और इसके बल पर मनुष्य कुछ भी प्राप्त कर सकता है। परमात्मा की शक्ति से मनुष्य असंभव लगने वाले कार्य को भी बेहद सरलता से हल कर सकता है। जब मनुष्य के मन में परमात्मा के प्रति भक्ति भाव जाग्रत होता है तो उसे कुछ भी अपने विपरीत लगता ही नहीं। ऐसे व्यक्ति प्रत्येक परिस्थिति का आनंद लेते हैं और यह मानते हैं कि प्रतिकूल परिस्थितियां भी उनके अनुकूल ही हैं। ऐसे में मनुष्य को लगता है कि प्रत्येक कार्य परमात्मा की इच्छा से ही हुआ है, इसलिए विपरीत परिस्थितियां भी जरूर उनके हित में होंगी। ऐसे व्यक्ति अपना सर्वस्व परमात्मा के ऊपर छोड़ देते हैं और उनके जीवन में बुरा समय भी आता है तो वे उसका मुकाबला धैर्य और साहस से करते हैं। गीता में श्रीकृष्ण कहते हैं कि जो भी मेरी शरण में आता है वह भवसागर पार कर लेता है। मनुष्य को हमेशा यह बात ध्यान रखनी चाहिए कि उसके विकास का आधार आलस्य नहीं, बल्कि विषम परिस्थितियां हैं।

इसलिए उसे विपरीत समय में संताप करने के बजाय डटकर उसका मुकाबला करना चाहिए। मनुष्य अपने धैर्य, साहस और बुद्धि के पराक्रम से किसी भी तरह की परिस्थिति का सामना कर सकता है। जो व्यक्ति स्वयं अपनी मदद करते हैं उन्हें ही परमात्मा की शक्ति प्राप्त होती है। इसलिए मनुष्य को अपने जीवन के हर मोड़ पर सीखने का भाव और कठिन परिस्थिति को जीवन में आगे बढ़ने के अवसर के रूप में देखना चाहिए। मनुष्य को अपने जीवन के प्रत्येक क्षण में परमात्मा की शक्ति की आवश्यकता होती है। इसलिए उसे हमेशा परमात्मा को याद करते रहना चाहिए। फिर चाहे वह सुखमय जीवन जी रहा हो या फिर उसका जीवन संकट में हो।

[/Responsivevoice]