समाजवादी आंदोलन का मूलमंत्र है सामाजिक न्याय-लौटनराम निषाद

24
समाजवादी आंदोलन का मूलमंत्र है सामाजिक न्याय-लौटनराम निषाद
समाजवादी आंदोलन का मूलमंत्र है सामाजिक न्याय-लौटनराम निषाद

समाजवादी आंदोलन का मूलमंत्र है सामाजिक न्याय। पीडीए पखवारा के तहत औरैया के गाँवों में सपा की हुई जनचौपाल। समाजवादी आंदोलन का मूलमंत्र है सामाजिक न्याय-लौटनराम निषाद

औरैया। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के आह्वान पर 26 जनवरी से शुरू पीडीए पखवाड़े के तहत औरैया विधान सभा के नगला बनारस, पाकरपुर व जैनपुर ग्राम में जनपंचायत का आयोजन किया गया। समाजवादी पिछड़ावर्ग प्रकोष्ठ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष चौ.लौटनराम निषाद ने कहा कि समाजवादियों ने हमेशा से सामाजिक न्याय,समता,समानता, भाईचारा की लड़ाई लड़ी है और सामाजिक न्याय सदैव से समाजवादी आंदोलन का मूलमंत्र भी रहा है। सभी समाजवादी आंदोलन के नेताओं का निर्विवाद और आमसहमति से यह मानना रहा है कि जो समाज आर्थिक, राजनैतिक और सामाजिक रूप से पिछड़ा है,उसे विशेष अवसर प्रदान कर समाज और विकास के मुख्य धारा में लाया जाए।

भाजपा सरकार ओबीसी, एससी, एसटी को आरक्षण के नाम मिले इस विशेष अवसर को समाप्त करने की साजिश रच रही है। उन्होंने पार्टी द्वारा आयोजित की जा रही पीडीए जनपंचायत के बारे में कहा कि पीडीए एक ऐसा जनांदोलन है,जिसका उद्देश्य समाज के पिछड़े,दलित,शोषित और वंचितों को उनके हक-अधिकार के प्रति जागरूक करना और भाजपा सरकार की दलित और पिछड़ा विरोधी नीतियों से आगाह करना है। उन्होंने कहा कि आज की वर्तमान भाजपा हुकूमत ‘को इस देश के गरीबों,पिछङों,दलितों,शोषितों और वंचितों से कुछ भी लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा कि सामाजिक न्याय के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए जातीय जनगणना का होना बहुत आवश्यक है। जातिगत आँकड़ा सामाजिक न्याय के लिए आवश्यक है।


जिलाध्यक्ष सर्वेश बाबू गौतम ने कहा कि भाजपा सरकार सामाजिक और आर्थिक विषमता को मिटाने के लिए संविधान में जो आरक्षण की व्यवस्था की गयी है। उसे समाप्त करना चाहती है।आगे कहा कि समाजवादी पार्टी शोषित,पीड़ित,वंचित समाज को सम्मान,संवैधानिक अधिकार और राजनीतिक भागीदारी देने के लिए संकल्पित है। पीडीए जनपंचायत की अध्यक्षता रामप्रकाश निषाद,निक्सन सिंह पाल व धन्यवाद ज्ञापन विधानसभाध्यक्ष वेदप्रकाश यादव,संचालन जिला सचिव रामशंकर निषाद ने किया।पीडीए जनपंचायत को सर्वश्री श्याम बाबू यादव, नरेन्द्र पाल, अमित यादव, रामशंकर निषाद, जीतेन्द्र दोहरे,हिमांशु पाल, ओमप्रकाश ओझा,रमेश शर्मा,बेटालाल तिवारी,मनोज कोरी,अतरसिंह प्रजापति, खुशीराम निषाद,गणेश मिश्रा,रामनारायण निषाद, आशाराम नामदेव,वीरनसिंह प्रजापति,लल्लूसिंह निषाद आदि ने सम्बोधित किया। समाजवादी आंदोलन का मूलमंत्र है सामाजिक न्याय-लौटनराम निषाद