कोविड-19 से बचाव और उपचार की व्यवस्था बनाए रखें-मुख्यमंत्री

79

मुख्यमंत्री ने कोविड वैक्सीनेशन अभियान को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश दिए।कोविड-19 से बचाव और उपचार की प्रभावी व्यवस्था बनाए रखें।लाभार्थी को वैक्सीनेशन की निर्धारित तिथि से दो दिन पूर्व मैसेज भेजते हुए वैक्सीनेशन के स्थान तथा समय की जानकारी उपलब्ध कराई जाए।इस कार्य में जनपदों में संचालित इंटीग्रेटेडकमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर की भी मदद ली जाए।कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स के टीकाकरण कार्य को तेजी प्रदान करने के निर्देश।प्रदेश में कोरोना की टेस्टिंग को पूरी क्षमता से संचालित करने के निर्देश।कोविड चिकित्सालयों में उपचार व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त रखा जाए।लोगों को कोविड-19 से बचाव के बारे में निरन्तर जागरूक किया जाए।


लखनऊ – आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत एक उच्चस्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन के सम्बन्ध में यह सुनिश्चित किया जाए कि लाभार्थी को वैक्सीनेशन की निर्धारित तिथि से दो दिन पूर्व मैसेज भेजते हुए वैक्सीनेशन के स्थान तथा समय की जानकारी उपलब्ध कराई जाए। इस कार्य में जनपदों में संचालित इंटीग्रेटेड कमाण्ड एण्ड कन्ट्रोल सेन्टर की भी मदद ली जाए। उन्होंने कोरोना फ्रंटलाइन वर्कर्स के टीकाकरण कार्य को तेजी प्रदान करने के निर्देश भी दिए हैं।

Total samples tested till date 29439862,Total samples tested over last 24 hours 137632,Total Positive till date 602089,Total Negative till date 28837773.

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी ने कोविड वैक्सीनेशन अभियान को पूरी सक्रियता से संचालित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस पर अन्तिम प्रहार करने के लिए वैक्सीनेशन का यह अभियान प्रारम्भ किया गया है। उन्होंने कोविड-19 से बचाव और उपचार की प्रभावी व्यवस्था बनाए रखने के निर्देश दिए हैं।



योगी ने कहा कि कोविड-19 की संक्रमण दर में उल्लेखनीय गिरावट आने के बावजूद अभी कोरोना संक्रमण समाप्त नहीं हुआ है। इसे ध्यान में रखकर प्रत्येक स्तर पर सावधानी बरतना आवश्यक है। कोविड-19 के संक्रमण की चेन को तोड़ने में टेस्टिंग कार्य की महत्वपूर्ण भूमिका का उल्लेख करते हुए उन्होंने प्रदेश में कोरोना की टेस्टिंग को पूरी क्षमता से संचालित करने के निर्देश दिए।


मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी कोविड चिकित्सालयों में उपचार व्यवस्था को चुस्त-दुरुस्त रखा जाए। कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग का कार्य पूरी सक्रियता से संचालित किया जाए। लोगों को कोविड-19 से बचाव के बारे में जागरूक किया जाए। इस कार्य में विभिन्न प्रचार माध्यमों के साथ-साथ पब्लिक एड्रेस सिस्टम का भी उपयोग किया जाए।

कोविड के खिलाफ चल रहे टीकाकरण अभियान के दूसरे चरण के तीसरे चक्र में फ्रंटलाइन वर्कर प्रतिरक्षित किए गए। देर शाम तक लक्ष्य के सापेक्ष 60.82 फीसदी लोगों को कोवैक्सीन की पहली डोज दी गई। टीकाकरण से पहले शपथ पत्र भरवाया गया। टीका लगने के बाद किसी की तबीयत खराब नहीं हुई। केंद्रों पर पुलिस बी तैनात रही।