तम्बाकू है जानलेवा लगे पूर्ण प्रतिबन्ध-डा0 सूर्यकान्त

डा.सूर्यकान्त ने प्रधानमंत्री को लिखा पत्र……..

लखनऊ। किंग जार्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय के रेस्परेटरी मेडिसिन विभाग के अध्यक्ष डा.सूर्यकान्त ने पत्र लिखकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को आठ वर्ष के कार्यकाल पूर्ण होने की बधाई दी है और तम्बाकू पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाने की मांग की है।डा.सूर्यकान्त ने पत्र में लिखा है कि 16वीं शताब्दी में अकबर के शासनकाल में पुर्तगाली पहली बार तम्बाकू लेकर भारत आये थे। जहाँगीर के शासनकाल में इसके उपभोग को नियंत्रित करने के लिए इस पर भारी मात्रा में कर लगाये गये लेकिन सदियां बीत गयीं, तम्बाकू व्यापार और उपभोग पर लेश मात्र भी अंकुश नहीं लग पाया। तम्बाकू के धुएं से 7000 हानिकारक रासायनिक पदार्थ निकलते हैं, जिनमें निकोटीन और टार प्रमुख हैं। इसके धुएं में लगभग 150 ऐसे तत्व पाये जाते हैं जो कि कैंसर के कारक हैं। इससे 40 तरह के कैंसर हो सकते हैं। बीड़ी, सिगरेट व तम्बाकू से कैंसर के अतिरिक्त 25 तरह की अन्य बीमारियाँ भी हो सकती हैं। बीड़ी या सिगरेट का धुआं उसको पीने वाले के फेफडे़ में 30 प्रतिशत जाता है व आस-पास के वातावरण में 70 प्रतिशत रह जाता है। इससे परिवार के लोग और उसके मित्र प्रभावित होते हैं, इसे हम परोक्ष धूम्रपान कहते हैं। इस परोक्ष धूम्रपान से यदि गर्भवती प्रभावित होती है तो गर्भ में पल रहे शिशु का विकास रुक सकता है तथा गर्भ के अन्दर शिशु की मृत्यु भी हो सकती है। विश्व भर में होने वाली मृत्यु में 50 प्रतिशत मौत का कारण तम्बाकू व धूम्रपान है।


इस वर्ष ”विश्व तम्बाकू निषेध दिवस” 31 मई को मनाया गया, इस वर्ष की थीम “तम्बाकूः पर्यावरण के लिए खतरा“ है। आंकड़ों के अनुसार तम्बाकू और सिगरेट बनाने के लिए एक ओर जहाँ 60 करोड़ पेड़ पौधे प्रतिवर्ष काट दिये जाते हैं, तो वहीँ दूसरी ओर 2200 करोड़ लीटर पानी की बर्बादी होती है, जबकि इसी पानी से लगभग दो करोड़ लोगों की प्यास बुझाई जा सकती है। इसके अलावा धूम्रपान से 84 करोड़ टन कार्बनडाई ऑक्साइड निकलती है, जिसकी वजह से ग्लोबल वार्मिग बढ़ रही है। इन्हीं सब तथ्यों एवं कारणों से प्रधानमंत्री को अवगत कराते हुए डा.सूर्यकान्त ने तम्बाकू की खेती, इसका उत्पादन एवं क्रय-विक्रय पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाने की गुजारिश की है। ज्ञात रहे सन् 2018 से लगातार “वर्ल्ड नो टोबैको डे“ पर डॉ. सूर्यकान्त प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर तम्बाकू पर पूर्ण प्रतिबन्ध की वकालत करते आ रहे हैं।


प्रधानमंत्री के साथ-साथ उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनन्दी बेन पटेल, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री व स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ब्रजेश पाठक तथा भारत सरकार, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री मनसुख मंडाविया को भी उन्होने पत्र भेजा। डा. सूर्यकान्त को आशा है कि उनके द्वारा भेजे गये पत्र पर देश के हित को ध्यान में रखते हुए तम्बाकू पर पूर्ण प्रतिबन्ध लगाया जायेगा, जिससे पर्यावरण और मानव जाति को इससे छुटकारा मिलेगा।