विश्व किडनी दिवस पर रीजेंसी हॉस्पिटल का WALKTHON

53
विश्व किडनी दिवस पर रीजेंसी हॉस्पिटल का WALKTHON
विश्व किडनी दिवस पर रीजेंसी हॉस्पिटल का WALKTHON

डॉक्टर दीपक दीवान ने बताया कि उच्च रक्तचाप गुर्दे की कार्यप्रणाली पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है। व्यायाम को दैनिक दिनचर्या में शामिल करने पर रक्त शर्करा और अतिरिक्त तनाव को नियंत्रित किया जा सकता है। वर्कआउट करने से शरीर की हाइड्रेटेड रहने की आवश्यकता भी बढ़ जाती है और पसीने को छानने के लिए त्वचा के छिद्रों को खोलने में मदद मिलती है, जिससे विषाक्त पदार्थ भी निकल जाते हैं।स्वस्थ और फिट रहने के लिए शरीर के सभी अंगों का स्वस्थ रहना आवश्यक है। अक्सर लोग हृदय, लिवर और फेफड़ों को स्वस्थ बनाए रखने के उपाय तो करते हैं लेकिन किडनी की सेहत को नजरअंदाज कर देते हैं। विश्व किडनी दिवस पर रीजेंसी हॉस्पिटल का WALKTHON

स्वस्थ शरीर के लिए स्वस्थ किडनी होना आवश्यक है। समग्र दृष्टिकोण के संदर्भ में शरीर में संतुलन बहाल करने के लिए किडनी की भी देखभाल की जानी चाहिए। पूरे विश्व में लोगों को किडनी की सेहत और इससे जुड़ी बीमारियों के बारे में जागरूक करने के लिए वर्ल्ड किडनी डे मनाया जाता है। किडनी मनुष्य शरीर के सबसे जरूरी अंगों में से एक है। किडनी रोगों के चलते हर साल कई लोग अपनी जान गंवा देते हैं, वहीं दूसरी तरफ किडनी फेलियर के बढ़ते मामलों के कारण किडनी ट्रांसप्लांट की जरूरत भी तेजी से बढ़ती ही जा रही है। ऐसे में इस महत्वपूर्ण अंग के महत्व को उजागर करते हुए वर्ल्ड किडनी डे हर साल मार्च के महीने में दूसरे गुरुवार को मनाया जाता है। इस बार यह दिन 9 मार्च को सेलिब्रेट किया जा रहा है। इस दिन का मुख्य उद्देश्य किडनी के शरीर में उल्लेखनीय कार्यों और महत्व के बारे में जागरूकता को बढ़ाना है, इसके अलावा यह भी उजागर करना कि क्रॉनिक किडनी रोग का डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर के साथ गहरा संबंध है, ये दिन डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर वाले रोगियों की क्रॉनिक किडनी रोग के प्रति जरूरी जांच को भी प्रोत्साहित करता है। इस दिन का प्रयास यह रहता है कि अधिक से अधिक लोग किडनी की हेल्थ के बारे में जागरूक रहें।

गुर्दे आवश्यक उत्सर्जन अंग हैं जो अंतःस्रावी ग्रंथियों का कार्य भी करते हैं, क्योंकि उनमें वे विशिष्ट ऊतक होते हैं। अस्थि मज्जा को लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन करने में मदद करने में गुर्दे भी महत्वपूर्ण हैं, क्योंकि वे हार्मोन एरिथ्रोपोइटिन बनाते हैं, जो बाद के लिए उत्तेजक के रूप में कार्य करता है। किडनी के महत्व को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है और जब इसका एहसास होता है, तब तक बहुत देर हो चुकी होती है।जिन लोगों को किडनी की बीमारी हो गई है, उन्हें डायलिसिस पर निर्भर रहना पड़ता है और भोजन लेने और गतिविधियों को करने के मामले में कई प्रतिबंधों का सामना करना पड़ता है।

—– किडनी रोगों के कारण और लक्षण —–

विश्व किडनी दिवस पर डॉक्टर दीपक दीवान नेफ्रोलॉजिस्ट एवं डायरेक्टर रीजेंसी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लखनऊ के अनुसार किडनी रोगों लक्षणों में यूरिन करते समय दर्द,बार-बार यूरिन करने की इच्छा महसूस होना या जलन होना और यूरिन के साथ ब्लड आना जैसे लक्षण शामिल हैं। शरीर में प्यूरिन की मात्रा बढ़ जाने से शरीर में यूरिक एसिड का लेवल बढ़ जाता है। आपकी किडनी यूरिक एसिड को फिल्टर करने में असमर्थ होने लगती है। जिसके कारण आपको घुटनों, पैरों और उंगलियों में सूजन महसूस होने लगती है। इसी तरह आंखों के आसपास की सूजन भी किडनी रोगों की ओर संकेत देती है। किडनी रोगों के दौरान आपको कुछ भी खाने की इच्छा नहीं होती,आपकी भूख मरने लगती है, साथ ही शरीर की मांसपेशियों में भी दर्द महसूस होने लगता है। किडनी रोग के दौरान शरीर में टॉक्सिंस की मात्रा बढ़ जाती है और किडनी टॉक्सिंस को सही तरह से फिल्टर नहीं कर पाती है। यदि किडनी रोगों के कारणों की बात की जाए तो यूटीआई होना, किडनी स्टोन, डायबिटीज, हाई ब्लड प्रेशर, पुरुषों में बढ़ा हुआ प्रोस्टेट, महिलाओं में गर्भावस्था, किसी दवा या बीमारी के कारण शरीर की इम्युनिटी का कमजोर हो जाना और खराब लाइफस्टाइल की आदतों के चलते किडनी रोगों का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में आपको किडनी रोगों के लक्षणों के प्रति जागरूक रहना चाहिए और बचाव के उपायों को अपनाना चाहिए।

डॉक्टर अलोक कुमार नेफ्रोलॉजिस्ट रीजेंसी सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल लखनऊ के अनुसार किडनी रोगों से बचाव के लिए कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत जरूरी है, जैसे- पेन किलर कम से कम लें, मोटापे पर कंट्रोल करें, किडनी की समस्या से संबंधित अगर कोई फैमिली हिस्ट्री है तो समय-समय पर किडनी के टेस्ट करवाते रहें और डॉक्टर से परामर्श लेते रहें। शरीर को अधिक से अधिक मात्रा में हाइड्रेट रखने से किडनी को टॉक्सिंस निकालने में सहायता होती है, इसलिए दिन भर में आपको दो से तीन लीटर पानी जरूर पीना चाहिए। अधिक मात्रा में प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थों का और प्रोटीन सप्लीमेंट्स का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे आपकी किडनी पर दबाव पड़ता है और उसकी कार्य प्रणाली प्रभावित होती है। धूम्रपान और शराब का सेवन भी किडनी की क्रियाशीलता पर विपरीत प्रभाव डालते हैं। डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर के रोगियों को किडनी रोगों से बचाव के लिए अपने शरीर में ब्लड शुगर और ब्लड प्रेशर की नियमित निगरानी रखनी चाहिए। दर्द निवारक दवाइयों का अधिक सेवन भी किडनी पर नकारात्मक प्रभाव डालता है इसलिए इससे भी बचना चाहिए। साथ ही किडनी में किसी भी तरह की समस्या महसूस होने पर किसी नेफ्रोलॉजिस्ट का परामर्श जरूर लेना चाहिए।

किडनी के उचित स्वास्थ्य की दिशा में पहला कदम यह सुनिश्चित करना है कि आप सही भोजन खाएं। लंबे समय तक किडनी पर अत्यधिक दबाव पड़ने के मामले उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं। आप जो भी खाएं वह सावधानीपूर्वक पकाया जाना चाहिए और संयम बनाए रखना चाहिए।आहार केवल किडनी विकार वाले लोगों के लिए नहीं है। इन संयमों को बनाए रखने से यह सुनिश्चित होगा कि आप किडनी संबंधी विकारों से पीड़ित नहीं होंगे। आदर्श रूप से आपको सोडियम, पोटेशियम और फास्फोरस के अत्यधिक सेवन से बचना होगा। अधिक नमक से बचें. बल्कि दालचीनी और हल्दी जैसे मसालों का प्रयोग करें।अत्यधिक चीनी, विशेषकर प्रसंस्कृत चीनी का सेवन कम करें। वसा रहित दूध या डेयरी उत्पादों का विकल्प चुनें। भले ही आप आहार में वसा शामिल कर रहे हों, बेहतर होगा कि सेवन को सप्ताह में एक या दो बार तक सीमित रखें। जंक फूड को फलों के रस जैसे स्वस्थ विकल्पों से बदलें। आहार में फाइबर प्राप्त करने के लिए साबुत अनाज के आटे का उपयोग करें।

चीनी या ग्लूकोज प्रत्येक जीवित जीव के लिए मूल ऊर्जा मुद्रा है। पौधों से लेकर जानवरों तक, ग्लूकोज का या तो उत्पादन किया जा रहा है या उपभोग किया जा रहा है। लेकिन, सिस्टम में अत्यधिक रक्त शर्करा, समय के साथ, किडनी को नुकसान पहुंचा सकती है। जबकि ग्लूकोज सीमित मात्रा में ही फायदेमंद है, बहुत अधिक रक्त शर्करा होने से नेफ्रॉन को सभी रक्त को फ़िल्टर करने के लिए अतिरिक्त मेहनत करनी पड़ती है। इस अतिरिक्त काम से किडनी खराब हो जाती है। मधुमेह से पीड़ित लोगों में किडनी संबंधी विकार विकसित होने का खतरा हमेशा बना रहता है। प्रसंस्कृत चीनी को आहार से हटाने की सलाह दी जाती है। इसके बजाय, दैनिक ग्लूकोज आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए गुड़ के सीमित सेवन की सलाह दी जाती है। विश्व किडनी दिवस पर रीजेंसी हॉस्पिटल का WALKTHON